Hamarivani.com

वीरांश

मेरी उदासी मेरी गहराईयों का नतीजा है, मेरा सुखन मेरी तन्हाईयों का नतीजा है| इतना ज़हर कैसे भर गया मेरे दिल में, मेरी कड़वडाहट तुम्हारी नादानियों का नतीजा है| मेरा सुखन मेरी तन्हाईयों का नतीजा है… मैं ढूंढता रहा एक साया अंधेरों में, मेरा हश्र मेरी रवानियों का नतीजा है| म...
वीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  January 20, 2012, 6:01 pm
कुछ कमी ज़रूरी है वफ़ा में, दर्द से ही तो मुकम्मल होती है मोहब्बत| तुम भी शीशे की असलियत जान ना पाए, बेज़ुबान है पर बेनज़र नही है वो| खुदी बिखर गयी है चारों तरफ, अरसों में खिला है ज़हन मेरा| आज तनहाई को कोई रंग नहीं दूँगा, देखों कितना फीका है ज़हन उसका| हर [...]...
वीरांश...
Tag :ख्याल
  December 9, 2011, 2:16 pm
महंगी नहीं है ख्वाबों की ताबीर, बस एक जिंदगी की कमी है| पल पल का हिसाब जोड़ा, तो भी ज़िन्दगी ना मिली| जाने क्या अदा है इसकी तुममें घुल जाने की| उनसे क़ैद-ऐ-मोहब्बत ना देखी गयी.. तो ज़माने ने इसे सूली पर लटका दिया| अब महफ़िलों से लो उठ चले हम, सुना है कोई नया [...]...
वीरांश...
Tag :ख्याल
  December 9, 2011, 2:13 pm
अनकही समझने की अदा जाती रही, हमने घुटने टेक दिए लफ़्ज़ों के आगे| यूँ तो ओढ़ रखी थी हमने चादर ज़माने वाली, उसकी आँखों में देखा तो शरमिंदा ज़रूर हुए| ना पूछ साहिल कैसे डूबा मैं, तूफ़ानो की ज़िद थी और हम मगरूर रहे| दिलों के फ़ासले दिलों को मंज़ूर हुए, इतने करीब होकर भी [...]...
वीरांश...
Tag :ख्याल
  December 9, 2011, 1:36 pm
ऐसा है अपनी फिराक का फ़साना ‘वीर’, सच पूछो तो हम को इंतजार-ए-विसाल नहीं| उम्मीद मैंने भी छोड़ दी है ‘वीर’, गर तुझे अपने हौसलों पर एतबार नहीं| तुम्हारे दिल का सुकून, मेरे इख्तियार में नहीं, शरमिंदा हूँ के असर इतना, मेरे प्यार में नहीं| मेरा हौसला जब चुभने लगा उन आँखों को ‘वीर’, ...
वीरांश...
Tag :ख्याल
  December 7, 2011, 8:41 am
मोहब्बत करते-करते तू बंदगी कर बैठा है, करीब आते-आते तू खुद को खो बैठा है| जब तलक बेपरवाह था ठीक ही था, अब सोचता है मुझे, तो मजबूरी की तरह| वो पहले सा हौसला ‘वीर’ में नहीं, घुटने टेक देता है अब जिंदगी के आगे वो| उलटे पांव ना चल सका जज़्बातों का मुसाफिर, जाने [...]...
वीरांश...
Tag :ख्याल
  December 7, 2011, 8:27 am
मायूस दिलों में उम्मीद जगाई जाए, वीर चलो इस बार ऐसी ईद मनाई जाए| मुफ़लिसी ने सितम ढाया है जिन पर, उन चेहरों पर मुस्कुराहट सजाई जाए| जुनून की इंतहा का इल्म है ‘वीर’ को, उसने सिर्फ रास्ता बदला है, हौसला नहीं| गीला ना रह जाए तुझे अपनी ज़िन्दगी से ‘वीर’, एक कोशिश लाज़मी है [...]...
वीरांश...
Tag :ख्याल
  December 6, 2011, 10:14 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3694) कुल पोस्ट (169770)