Hamarivani.com

जिस सिम्त भी देखूं............

तुम किसी की सहायता नहीं कर सकते, तुम्हे केवल सेवा का अधिकार है- प्रभु की संतान का ! भाग्यवान हो तो स्वयं प्रभु की सेवा करो ! यदि ईश्वर के अनुग्रह से उसकी किसी संतान की सेवा कर सकोगे, तो तुम धन्य हो क्योंकि सेवा करने का तुमको अधिकार मिला है और दूसरों को नहीं मिला ! यह सेवा तुम...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  March 5, 2014, 11:47 pm
        आज दुनिया में हज़रत ईसा मसीह के मानने वाले सबसे ज्यादा तादाद में हैं, ईसाई तो ईसाई इस्लाम धर्म के अंदर भी एक बरगुज़ीदा पैगंबर के रूप में हज़रत ईसा का नाम शुमार है  पर साथ ही ये बाद भी सत्य है कि हज़रत ईसा से जुड़े कई तथ्य आज भी अनसुलझे हैं ! उन उनसुलझी कड़ियों क...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  January 18, 2014, 6:09 pm
     24.03.2013                     रविवार सांय 4 बजे,                        नई दिल्लीITDM प्रतिभाओं के समेकित विकास हेतु प्रतिब्द्ध है। देश के ऐसे ही कुछ प्रतिभा जो शिक्षा, स्वास्थ्य, सेवा, कृषि-ग्रामीण विकास, व्यापार, प्रबंधन, आध्यात्म, प्रशासन, विज्ञान-तकनीक, कला-साहित्य, पत्रकारिता, पर्यावरण, य...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  February 22, 2013, 10:12 pm
सर अपना काट के फेंक  आया कूयें-कातिल मेंये बोझ था   मेरी गर्दन     पे सो   उतार   आयाजवान    मारिका-ए-हुस्नों    इश्क था   आजादचला   जो   दिल पे न काबू तो जान हार  आया।                                                    मौलाना मुहम्मद हुसैनअदा में,  सादगी  में   कंघी   चोटी ने खलल डालाशिकन माथे पे, अबरु...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :गज़ल व शायरी
  November 13, 2012, 7:29 pm
"गोहत्या बंद करो, ऐसे ही आन्दोलन की जरूरत है "                                    राष्ट्रवादीमुस्लिमतंजीमकेबैनरोंपरएकनारालिखादिखताहै 'गायनहींकटनेदेंगें, देशनहींबंटनेदेंगे।' येनारावास्तवमेंयर्थाथहीहैक्योंकिपिछलेकईसौबर्षोसेगोहत्याएकबड...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  November 7, 2012, 11:45 pm
पूर्वोत्तर कि समस्याओं क़ी तरफ समस्त राष्ट्रवादी नागरिकों का ध्यान आकृष्ट हो इस हेतू  एक ब्लॉग शुरू करने की योजना है ! अपने वनवासी बंधुओं की घोर उपेक्षा का ही परिणाम है क़ी आज राष्ट्र विरोधी ताकतों को यहाँ अपने अपवित्र मंशा को पूरा करने और भोले-भले गिरिजनो को उनकी मूल ...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :गंभीर आलेख
  October 25, 2012, 11:50 am
                                                     कुछ असर तो था मेरी दुआ और आहों में,                                                     कि हमें मिल गई पनाह   उनके  बांहों में।है अगर यह कुफ्र तो मुझको खुदा तुम माफ करो,बुतपरस्ती   को   नहीं    गिनतें हैं हम गुनाहों में।                                                                    मोहब्...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  June 16, 2012, 8:56 am
13 जून की वो मनहूस शाम जब दिल्ली से मित्र मो0 आबिद का फोन आया कि भाई एक बुरी खबर है। अमूनन मेरे और आबिद के बीच के जो संबंध बने हैं वो मीर, फराज, फैज, गालिब और बशीर बद्र के जिक्र से शुरु होकर है उनकी के साथ-2 चलते यहां तक पहुंचे है। 2009 में फराज साहब और सुदर्शन फाकिर और इस साल अदम गो...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :गज़ल व शायरी
  June 14, 2012, 7:38 am
पश्चिम मे विवाह चुटकियों में हो जाता है वहां किसी की शादी को लेकर मां-बाप, बंधु-बांधव ज्यादा परेशान नहीं होते, विवाह के लिये लड़का और लड़की की सहमति काफी है। वहीं भारत में विवाह को एक संस्कार की संज्ञा दी गई है। किसी की भी शादी होने वाली हो तो मां-बाप कम से कम 6 महीने पहले स...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :ज्योतिष
  June 7, 2012, 8:29 am
चलते-चलतेइस आखिरी तस्वीर का सबक-मेरे ब्लॉग पे टहला कीजिये , आम के आम और गुठली के दाम !...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  February 1, 2012, 10:30 pm
जिसे लोग कहते  हैं तीरगी , वही  शब हिजाबे-सहर  भी  है,जिन्हें बेखुदी-ए-फ़ना मिली, उन्हें जिन्दगी की खबर भी है !!1 !!तेरे  अहले-दीद  को  देख  के   कभी खुल सका है ये राज़ भी उन्हें जिसने अहले-नज़र किया वो तेरा खराबे-नज़र भी है !!2 !!ये  विसालो-हिज्र की बहस क्या कि अजीब चीज़ है इश्क भी,त...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :गज़ल व शायरी
  January 31, 2012, 10:44 pm
आजकल ब्लॉग पर कुछ लिखने के लिए वक़्त नहीं मिल रहा है और न  ही मन ऐसा बन रहा है की कुछ लिखा जाये ! ब्लॉग पे कुछ न कुछ तो करते रहना पड़ेगा वरना लोग भूल जायेंगे की कोई अभिजीत भी था ! इस बार और कुछ नहीं बस ये तस्वीरें जो किसी site से या facebook से ली गयी है ! आप भी इनके मज़े लीजिये :-बैंकर द...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :मजेदार लेख
  January 24, 2012, 10:37 pm
आज हमारे मुल्क कि सबसे बड़ी समस्या साम्प्रदायिकता है; इस देश के दो बड़े धर्म के मानने वालों के बीच का संशय है, जिसकी परिणति ये है कि आये दिन हमारा देश किसी न किसी दंगे कि आग से झुलस जाता है ! हिंदुस्तान दुनिया का अकेला ऐसा मुल्क है जहाँ सबसे ज्यादा सांप्रदायिक दंगे होते ह...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  December 19, 2011, 9:44 am
मैं एक भारतीय मुसलमान हूँ ! ऐसा मुसलमान जिसे धर्मनिरपेक्षता के तथाकथित अलंबरदार जब अल्पसंख्यक कहकर बुलाते हैं तो गुस्सा भी आता है और उनकी बुद्धि पर तरस भी! मेरे मन में एक ही सवाल आता है कि हमारे वोट के लिए उन्हें हमें गली देने का अधिकार किसने दे दिया ? गाली , जी आपने सही स...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  December 18, 2011, 10:16 pm
"जिन्दगी एक यात्रा है" (Life  is a Journey) ! पूर्वोत्तर में नौकरी के दौरान मेरे बैंक के एक auditor मित्र जब बार-२ ये पंक्ति दुहराते थे तब उसका निहितार्थ समझ नही आता था ! कहते है जब जिन्दगी में कोई घटना घटित हो तो पढ़ा हुआ और सुना हुआ सारा ज्ञान, उपदेश और प्रवचन कान में घंटियाँ बजाने लगती ...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  December 13, 2011, 10:45 pm
अपनी माशूका की खूबसूरती कितने बेहतरीन लब्जों में बयां कर सकतें है आप, इसकी बानगी देखनी हो तो इन गजलों को पढ़िए ! जानिसार अख्तर, किसी अनजान शायर और अहमद फ़राज़ ने कितनी खुबसूरत  लब्जों में इसे पिरोया है ! मेरी चाहत थी की अगर कभी जिंदगी में किसी से मोहब्बत हुई तो उसे यही शे...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  November 19, 2011, 4:01 pm
मेरे किसी आलेख पर मेरे दोस्त ने मुझसे सही ही कहा था कि तू लड़कियों को समझने का चाहे जितना भी दावा कर ले , दूसरों को उनसे सचेत रहने का कितना भी सलाह दे  दे पर जब तुझे कोई पसंद आ जाएगी तो तू भी वही गलतियाँ करेगा जिनसे बचने की दूसरों को सलाह देता फिर रहा है !उस मित्र ने यह बात ...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  November 4, 2011, 9:39 am
Kulpi Police Attack, Hindu-Muslim Clashes, CPIM and TMC...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  November 2, 2011, 10:11 am
मैं चाहे कुछ भी कर लूं ,बेचारे लड़कों के समर्थन में मैं कुछ भी करूँ, कुछ भी लिखूं पर आखिर शादी तो किसी लड़की से ही करूँगा,  ये तो एक सच्चाई है ! ब्लॉग पर तीन भागों में मैंने लड़कियों के ऊपर काफी कुछ लिखा, जितना लिखा उससे कुछ ज्यादा सुनने को भी मिला ! पर उस आलेख के तीनो series को लोग...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  October 26, 2011, 12:13 am
कई बार मेरे मित्रगण और चाहने वाले मुझे ये सवाल करते हैं की तुझे शादी करने के लिए कैसी लड़की चाहिए? इस कहानी में उसका जबाब मौजूद है ! मेरी ऐसी खवाहिश क्यों है इसका पता आपको इस कहानी को पढ़ के चल जायेगा ! मुंशी प्रेमचंद  के इस कहानी "जिहाद" की एक प्रमुख पात्र है "श्यामा&qu...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :व्यक्तिगत आलेख
  October 13, 2011, 4:54 pm
हिंदी मुहावरों में रूचि रखने वालों ने ये कहावत तो जरूर सुनी होगी की मेढ़कों को कभी भी तराजू पे नहीं तौला जा सकता , मगर मेरे मित्र मण्डली की अगर बात करें तो ये कहावत थोड़ी बदलनी पड़ेगी और इसे यूं लिखना पड़ेगा-  "मेढ़कों को तो आप तराजू पे तौल भी सकतें हैं पर अभिजीत और उसके द...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :विविध
  October 11, 2011, 11:02 pm
नौशेरा पाकिस्तान में 14  जनवरी 1931  को जन्मे उर्दू के मशहूर शायर "अहमद फ़राज़" आज हमारे बीच नहीं है,  २५ अगस्त २००८ को वो हमारे बीच से उस जगह चले गए जहाँ से कोई वापस नहीं आता !  उनको श्रधांजली देती उनके गजलों के कुछ मक्तों* का खुबसूरत संग्रह आपके लिए ! उम्मीद है जरूर पसंद आ...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :गज़ल व शायरी
  September 13, 2011, 11:00 pm
ऐसे शिष्य हो तब तो हुआ ? यहाँ एकलव्य ने गुरु का अंगूठा काट लिया !मेरे मित्र का कोचिंग टिप्स मैं जिस शहर में रहता हूँ  वहां बैंक पी० ओ0 होने को  काफी अहमियत दी जाती है, अगर आप बैंक पी० ओ० बन गए तो फिर बल्ले-२ , आपकी चांदी ही चांदी हो गयी, समाज में मस्त रुतबा ,अच्छे घरों ...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  August 28, 2011, 10:04 am
"सबसे पहले तो आप सभी लोगों से क्षमा प्रार्थी हूँ की मेरे आलेखों के बीच का फासला बढ़ जा रहा है, पर ऐसा करना मेरी मजबूरी है, पहले पूर्वोत्तर में था तो बैंक से आने के बाद मेरे पास समय ही समय था ! अब तो घर में पोस्टिंग हो गयी है तो Commitments  बढ़ गयें है , ब्लॉग क्या किसी भी बात के लिए व...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  August 16, 2011, 10:41 pm
"वैसे तो ये Article Friday को आने वाला था , पर कुछ खास लोगों के अनुरोध पर आज ही प्रकाशित"    "लड़कियों को शुभकामनायें : जिनके वजह से मेरे ब्लॉग पे लोगों की चहलकदमी बढ़ गयी है !!"इस आलेख को पढ़ना शुरू करें इससे पहले दो-तीन बातों का ध्यान रखना अनिवार्य है-1. मेरे पिछले आलेखों ...
जिस सिम्त भी देखूं...............
Tag :
  July 6, 2011, 8:27 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167957)