Hamarivani.com

! कौशल !

''आदमी '' प्रकृति की सर्वोत्कृष्ट कृति है .आदमी को इंसान भी कहते हैं , मानव भी कहते हैं ,इसी कारण आदमी में इंसानियत , मानवता जैसे भाव प्रचुर मात्र में भरे हैं ,ऐसा कहा जाता है किन्तु आदमी का एक दूसरा पहलु भी है और वह है इसका अन्याय अत्याचार जैसी बुराइयों से गहरा नाता होना .कहत...
! कौशल !...
Tag :
  April 24, 2017, 10:23 pm
बेटी का जन्म पर चाहे आज से सदियों पुरानी बात हो या अभी हाल-फ़िलहाल की ,कोई ही चेहरा होता होगा जो ख़ुशी में सराबोर नज़र आता होगा ,लगभग जितने भी लोग बेटी के जन्म पर उपस्थित होते हैं सभी के चेहरे पर मुर्दनी सी ही छा जाती है.सबसे ज्यादा आश्चर्य की बात यह है कि बेटी का जन्म सुनक...
! कौशल !...
Tag :
  April 21, 2017, 4:48 pm
       दुष्कर्म आज ही नहीं सदियों से नारी जीवन के लिए त्रासदी रहा है .कभी इक्का-दुक्का ही सुनाई पड़ने वाली ये घटनाएँ आज सूचना-संचार क्रांति के कारण एक सुनामी की तरह नज़र आ रही हैं और नारी जीवन पर बरपाये कहर का वास्तविक परिदृश्य दिखा रही हैं .भारतीय दंड सहिंता में दुष्क...
! कौशल !...
Tag :
  April 18, 2017, 8:48 am
कवि शायर कह कह कर मर गए-  ''इस सादगी पे कौन न मर जाये ए-खुदा,''''न कजरे की धार,न मोतियों के हार,न कोई किया सिंगार फिर भी कितनी सुन्दर हो,तुम कितनी सुन्दर हो.''पर क्या करें आज की महिलाओं  के दिमाग का जो बाहरी सुन्दरता  को ही सबसे ज्यादा महत्व देता रहा है और अपने शरीर का नुकसान ...
! कौशल !...
Tag :
  April 12, 2017, 9:13 pm
''कुछ लोग वक़्त के सांचों में ढल जाते हैं ,कुछ लोग वक़्त के सांचों को ही बदल जाते हैं ,माना कि वक़्त माफ़ नहीं करता किसी कोपर क्या कर लोगे उनका जो वक़्त से आगे निकल जाते हैं .''   नारी शक्ति को लेकर ये पंक्तियाँ एकदम सटीक उतरती हैं क्योंकि नारी शक्ति ही इस धरती पर एक ऐसी शक्ति है ...
! कौशल !...
Tag :
  April 10, 2017, 2:16 am
बहुत बार देखी  हैं       हथेली की रेखाएंकिताबों में लिखा     जिन्हें सर्वश्रेष्ठ ,उमर आधे से ज्यादा    है बीत गयीखोया ही खोया    पाया बस क्लेश ,नहीं कोई चाहत      है अब पाल रखीनहीं लेना दुनिया से     है कुछ विशेष ,सुकूँ से बिता लें      सम्मान से रह...
! कौशल !...
Tag :
  April 4, 2017, 10:25 pm
   उत्तर प्रदेश में इस वक़्त ब्लॉक स्तर पर केंद्र सरकार के '' स्वच्छ  भारत मिशन ग्रामीण'' के अन्तर्गत '' खुले में शौच मुक्त ''अभियान को लेकर कार्य जोरों पर है .उत्तर प्रदेश पंचायत राज विभाग के सचिव अमित कुमार गुप्ता के अनुसार '' प्रदेश के तीस जिले  दिसंबर तक खुले में शौच म...
! कौशल !...
Tag :स्वच्छता अभियान :नेपाल गुरु /आलेख शालिनी कौशिक
  April 3, 2017, 2:30 am
किसी शायर ने कहा है -''कौन कहता है आसमाँ में सुराख़ हो नहीं सकता ,एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों .''भारतवर्ष सर्वदा से ऐसी क्रांतियों की भूमि रहा है जिन्होंने हमेशा ''असतो मा सद्गमय ,तमसो मा ज्योतिर्गमय ,मृत्योर्मामृतं गमय''का ही सन्देश दिया है और क्रांति कभी स्वयं नहीं हो...
! कौशल !...
Tag :
  March 31, 2017, 3:17 pm
करते हैं बैठ चर्चा,        खाली ये जब भी होते,कोई काम इनको करते         मैने कभी न देखा....................................................वो उसके साथ आती,          उसके ही साथ जाती,गर्दन उठा घुमाकर           बस इतना सबने देखा....................................................खाते झपट-झपट कर,           औरों के य...
! कौशल !...
Tag :
  March 25, 2017, 1:18 pm
 नारी सशक्त हो रही है .इंटर में लड़कियां आगे ,हाईस्कूल में लड़कियों ने लड़कों को पछाड़ा ,आसमान छूती लड़कियां ,झंडे गाडती लड़कियां जैसी अनेक युक्तियाँ ,उपाधियाँ रोज़ हमें सुनने को मिलती हैं .किन्तु क्या इन पर वास्तव में खुश हुआ जा सकता है ?क्या इसे सशक्तिकरण कहा जा सकता...
! कौशल !...
Tag :
  March 19, 2017, 3:34 pm
 आज जैसे जैसे महिला सशक्तिकरण की मांग जोर  पकड़ रही है वैसे ही एक धारणा और भी बलवती होती जा रही है वह यह कि विवाह करने से नारी गुलाम हो जाती है ,पति की दासी हो जाती है और इसका परिचायक है बहुत सी स्वावलंबी महिलाओं का विवाह से दूर रहना .    यदि हम सशक्तिकरण की परिभ...
! कौशल !...
Tag :
  March 17, 2017, 4:27 pm
 प्रसिद्द समाजशास्त्री आर.एन.सक्सेना कहते हैं कि-''ज्यों ज्यों एक समाज परंपरा से आधुनिकता की ओर बढ़ता है उसमे शहरीकरण ,औद्योगीकरण ,धर्म निरपेक्ष मूल्य ,जनकल्याण की भावना और जटिलता बढ़ती जाती है ,त्यों त्यों उसमे कानूनों और सामाजिक विधानों का महत्व भी बढ़ता जाता है .''   ...
! कौशल !...
Tag :
  March 14, 2017, 9:25 pm
     आज जब मैं बाज़ार से घर लौट रही थी तो देखा कि स्कूलों से बच्चे रंगे हुए लौट रहे हैं और वे खुश भी थे जबकि मैं उनकी यूनीफ़ॉर्म के रंग जाने के कारण ये सोच रही थी कि जब ये घर पहुंचेंगे तो इनकी मम्मी ज़रूर इन पर गुस्सा होंगी .बड़े होने पर हमारे मन में ऐसे ही भाव आ जा...
! कौशल !...
Tag :
  March 13, 2017, 10:35 am
भारतीय परम्पराओं के मानने वाले हैं ,ये सदियों से चली आ रही रूढ़ियों में विश्वास करते हैं और अपने को लाख परेशानी होने के बावजूद उन्हें निभाते हैं ये सब पुराने बातें हैं क्योंकि अब भारतीय तरक्की कर रहे हैं और उस तरक्की का जो असर हमारी परम्पराओं के सुन्दर स्वरुप पर पड़ रह...
! कौशल !...
Tag :
  March 11, 2017, 10:36 am
व्यथित सही ,पीड़ित सही ,पर तुझको लगे ही रहना है ,जब तक सांसें ये बची रहें ,हर पल मरते ही रहना है .............................................................................पिटना पतिदेव के हाथों से ,तेरी किस्मत का लेखा है ,इस दुनिया की ये बातें ,माथे धरकर ही रहना है ...........................................................................औरत की चाहत का जग में ,कोई मोल ...
! कौशल !...
Tag :
  March 8, 2017, 9:38 pm
''आंधी ने तिनका तिनका नशेमन का कर दिया ,पलभर में एक परिंदे की मेहनत बिखर गयी .''फखरुल आलम का यह शेर उजागर कर गया मेरे मन में उन हालातों को जिनमे गलत कुछ भी हो जिम्मेदार नारी को ठहराया जाता है जिसका सम्पूर्ण जीवन अपने परिवार के लिए त्याग और समर्पण पर आधारित रहता है .किसी भी सर...
! कौशल !...
Tag :
  March 7, 2017, 9:55 am
तमन्ना जिसमे होती है कभी अपनों से मिलने कीरूकावट लाख भी हों राहें उसको मिल ही जाती हैं ,खिसक जाये भले धरती ,गिरे सर पे आसमाँ भीखुदा की कुदरत मिल्लत के कभी आड़े न आती है .............................................................................................फ़िक्र जब होती अपनों की समय तब निकले कैसे भीदिखे जब वे सलामत हाल तसल्ल...
! कौशल !...
Tag :
  March 4, 2017, 3:33 pm
 मंडप भी सजा ,शहनाई बजी ,आई वहां बारात भी ,मेहँदी भी रची ,ढोलक भी बजी ,फिर भी लुट गए अरमान सभी .समधी बात मेरी सुन लो ,अपने कानों को खोल के ,होगी जयमाल ,होंगे फेरे ,जब दोगे तिजोरी खोल के .आंसू भी बहे ,पैर भी पकड़े ,पर दिल पत्थर था समधी का ,पगड़ी भी रख दी पैरों में ,पर दिल न पिघला सम...
! कौशल !...
Tag :
  February 28, 2017, 11:02 pm
तखल्लुस कह नहीं सकते ,तखैयुल कर नहीं सकते ,तकब्बुर में घिरे ऐसे ,तकल्लुफ कर नहीं सकते .……………………………………………………………….मुसन्निफ़ बनने की सुनकर ,बेगम मुस्कुराती हैं ,मुसद्दस लिखने में मुश्किल हमें भी खूब आती है ,महफ़िलें सुन मेरी ग़ज़लें ,मुसाफिरी पर जाती हैं ,मसर्रत देख हाल-...
! कौशल !...
Tag :
  February 24, 2017, 9:23 pm
     कविवर गोपाल दास ''नीरज''ने कहा है -  ''जितनी देखी दुनिया सबकी दुल्हन देखी ताले में   कोई कैद पड़ा मस्जिद में ,कोई बंद शिवाले में ,    किसको अपना हाथ थमा दूं किसको अपना मन दे दूँ ,   कोई लूटे अंधियारे में ,कोई ठगे उजाले में .''धर्म के   ये ही दो रूप हमें भी दृष्...
! कौशल !...
Tag :
  February 22, 2017, 7:43 pm
  ''गूंजे कहीं शंख कहीं पे अजान है ,                               बाइबिल है ,ग्रन्थ साहब है,गीता का ज्ञान है ,दुनिया में कहीं और ये मंजर नहीं नसीब ,  दिखलाओ ज़माने को ये हिंदुस्तान है .'' ऐसे हिंदुस्तान में जहाँ आने वाली  पीढ़ी के लिए आदर्शों की स्थापना और प्र...
! कौशल !...
Tag :
  February 14, 2017, 1:43 pm
"  प्यार है पवित्र पुंज ,प्यार पुण्य धाम है.पुण्य धाम जिसमे कि राधिका है श्याम  है .श्याम की मुरलिया की हर गूँज प्यार है.प्यार कर्म प्यार धर्म प्यार प्रभु नाम है."एक तरफ प्यार को "देवल आशीष"की उपरोक्त पंक्तियों से विभूषित किया जाता है तो एक तरफ प्यार को "बेकार बेदाम की च...
! कौशल !...
Tag :
  February 12, 2017, 7:30 am
 ये सर्वमान्य तथ्य है कि महिला शक्ति का स्वरुप है और वह अपनों के लिए जान की बाज़ी  लगा भी देती है और दुश्मन की जान ले भी लेती है.नारी को अबला कहा जाता है .कोई कोई तो इसे बला भी कहता है  किन्तु यदि सकारात्मक रूप से विचार करें तो ना...
! कौशल !...
Tag :
  February 8, 2017, 7:42 pm
समाज की बलि चढ़ती बेटियां'साहब !मैं तो अपनी बेटी को घर ले आता लेकिन यही सोचकर नहीं लाया कि समाज में मेरी हंसी उड़ेगी और उसका ही यह परिणाम हुआ कि आज मुझे बेटी की लाश को ले जाना पड़ रहा है .'' केवल राकेश ही नहीं बल्कि अधिकांश वे मामले दहेज़ हत्या के हैं उनमे यही स्थिति है द...
! कौशल !...
Tag :
  February 3, 2017, 5:15 pm
अभी अभी एक नए जोड़े को देखा पति चैन से जा रहा था और पत्नी घूंघट में ,भले ही दिखाई दे या न दे किन्तु उसे अब ऐसे ही चलने का अभ्यास करना होगा आखिर करे भी क्यूँ न अब वह विवाहित जो है जो कि एक सामान्य धारणा के अनुसार यह है कि अब वह धरती पर बोझ नहीं है ऐसा हमारे एक परिचित हैं उनका कहन...
! कौशल !...
Tag :
  January 30, 2017, 9:02 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163607)