Hamarivani.com

mera samast

आज तक  तो पाइल्स (बवासीर ), भगन्दर (फैस्चुला ), फ़ीशर और महिलाओं में योनिद्वार बाहर निकलने की बीमारी का इलाज आपरेशन के अलावा दवा खाना और लगाना होता था ,लेकिन अब सिर्फ एक गद्दी पर बैठने मात्र से इन रोगों का इलाज हो जायेगा. न दवा खानी ,न लगानी ,न कोई आपरेशन की तकलीफ . मैं इस गद्दी...
mera samast...
Tag :
  May 4, 2013, 7:06 pm
हालाँकि समय से पहले बाल सफ़ेद होने के कई कारण हो सकते हैं और हर कारण के लिए अलग अलग दवाएं हैं फिर भी अश्वगंधा ,चित्रक और पिप्पली के चूर्ण का सेवन करने से इस समस्या का हल निकल सकता है. बाक़ी आपकी आदतें मालिक हैं.इन आलेखों में पूर्व विद्वानों द्वारा बताये गये ज्ञान को समेट ...
mera samast...
Tag :
  May 1, 2013, 9:42 am
जब हम किसी व्‍यक्ति से मिलते हैं, तो हमारा ध्‍यान सबसे पहले उसके रंग-रूप और पहनावे पर जाता है। वह देखने में कैसा है, उसने कैसे कपड़े पहने हैं आदि-आदि। उसके बाद बातचीत का नम्‍बर आता है, जिससे हमें उसकी भाषा, बोली, समझ और संस्‍कारों का पता चलता है। वह किस भाषा का जानकार है, उस...
mera samast...
Tag :
  April 29, 2013, 4:47 pm
मेरे प्रबुद्ध पाठक गण पहचान ही लेंगे इसे कलौंजी कहते हैं।इस के अलावा इसे विभिन्न भाषाओं में स्थुलजीरक ,मंगरैल ,जीर्णा ,काली बहुगंधा, जीरे, कालीजीर, स्याह्दाना ,हब्ब्तुस्सोदा आदि नामों से पुकारा जाता है।इसे उपकुन्चिका या कला जाजी भी कहते है.इसको अंग्रेजी में ब्लैक क्...
mera samast...
Tag :
  April 23, 2013, 9:35 pm
मेरे पास अस्सी % मरीज सिर्फ पेट अन्दर हो जाए ,इसके लिए आते हैं ,लेकिन उस वक्त मैं उन्हें जो परहेज बताती हूँ  वह उन्हें बहुत नागवार लगता है।उस परहेज का महत्वपूर्ण भाग फूल गोभी है ,फूलगोभी खाते रहने से पेट फूल जाता है या ज्यादा बाहर निकल आता है बाकी शरीर पेट के मुकाबले कम फू...
mera samast...
Tag :
  March 4, 2013, 5:24 pm
भृंगराज का नाम आप लोगों के लिए नया नहीं है। तमाम हेयर आयल के विज्ञापन रोज प्रकाशित होते हैं,उनमें भृंगराज  की चर्चा बड़े जोर-शोर से की गयी होती है।केशों के लिए यह महत्वपूर्ण तो है ही लेकिन इसके अन्य औषधीय गुण शायद और ज्यादा महत्वपूर्ण लगते हैं मुझे। अकेले भृंगराज काया...
mera samast...
Tag :
  February 27, 2013, 10:07 am
         ये कटहल हैइसकी जड़, छाल और पत्ते दवा के तौर पर प्रयोग किये जाते हैं जबकि फल कच्चे पक्के दोनों तरह खाएं जाते हैं। कच्चे कटहल की सब्जी बडे  शौक से हमारे देश में खायी जाती है और पका कटहल का कोया तो राम भक्त हनुमान जी ने प्रसिद्द कर रखा है। आपने भी खाएं होंगे। चलिए खैर ..........
mera samast...
Tag :
  January 17, 2013, 2:24 pm
यह हींग का पौधा है                  यह पेड़ के तने से निकली हुई राल या हींग हींग बड़े काम की चीज है। इसका वैज्ञानिक नाम होता है- Ferula foetida  इसे अंग्रेजी में Asafoetida कहते हैं। दरअसल हींग कोई फल या फूल नहीं होती ,यह तो पेड़ के तने से निकली हुई गोंद होती है। इसका पेड़ 5 से 9 फीट उंचा होता है। इ...
mera samast...
Tag :
  November 11, 2012, 4:37 pm
.......जो खग हों  तो बसेरो करो मिलि कालिंदी कूल कदम्ब की डारन       मानुष हो तो वही रसखान ...................बचपन में तो इसे रटा गया था , अब जब पूजा में कदम्ब के फल या फूल चढ़ाए जाते हैं तो याद आता है कि  क्यों  कृष्ण जी इसके दीवाने थे .इस कदम्ब का वैज्ञानिक नाम है- Anthocephalus cadamba इसमें  अल्केलायद कद...
mera samast...
Tag :kadamb
  September 24, 2012, 1:12 pm
वन अंगारा हुआ खिले हैं जब से फूल पलाश के ।यह गीत तो आप सभी ने पढ़ा ही होगा ,लेकिन जब पलाश के गुणों के बारे में जान जायेंगे तो सच में आपका मन अंगारा हो जाएगा . इसका अंग्रेजी में नाम है- Flame of the forest.  और वैज्ञानिक नाम है-  Butea monospermaयह 15 मीटर ऊंचा 3 पत्तो वाला पेड़ होता है .इसे हिन्दी में ...
mera samast...
Tag :
  September 3, 2012, 4:51 pm
आजकल देश में लीवर बढ़ने की समस्या बड़ी तेजी से फैलती जा रही है . ये रोग लीवर सोरायसिस ,लीवर फेल्ड ,लीवर पेशेंट, आदि कई रूपों में दिखाई दे रहा है। एसिडिटी, हाजमा खराब होना इसके प्राथमिक लक्षण हैं . उलटी दस्त, पानी तक हज़म न होना सीरियस कंडीशन की तरफ इशारा करते हैं . हालांकि इस...
mera samast...
Tag :
  August 24, 2012, 4:24 pm
वरिष्ठ ब्लॉगर आशा जोगलेकर जी ने मखाने के बारे में जानना चाहा है. मखाना कमल का बीज नहीं होता है ,इसकी एक अलग प्रजाति है ,यह भी तालाबों में ही पैदा होता है लेकिन इसके पौधे बहुत कांटेदार होते हैं ,इतने कंटीले कि उस जलाशय में कोई जानवर भी पानी पीने के लिए नहीं घुसता,जिसमे मखान...
mera samast...
Tag :
  August 15, 2012, 12:32 pm
यह कमल का फूल है ,देवी लक्ष्मी को बहुत प्रिय है ,पूजन सामग्री में इसका होना बहुत शुभ माना जाता है।इसका वैज्ञानिक नाम होता है- Nelumbium speciosum , इसे अम्बुज, पंकज, पद्म,पुण्डरीक, कलंग, सामरा, अम्बल,नीलोफर, बर्दानीलोफर, लोटस, आदि नामों से दुनिया भर में जाना-पहचाना जाता है।                      ...
mera samast...
Tag :
  August 2, 2012, 3:21 pm
बकरी का दूध हमारे आपके लिए कोई अनोखी चीज नहीं है ,लेकिन हम इसका प्रयोग बिलकुल नहीं करते।आखिर क्यों? हमारे राष्ट्रपिता बापू जी तो रोज बकरी का दूध पीते थे . अगर हम उनकी एक यही बात मान लें तो पूरा देश अनगिनत बीमारियों से रहित हो जाएगा। कैंसर, एड्स ,गांठें, थायराइड, प्रतिरोधक ...
mera samast...
Tag :
  July 19, 2012, 3:49 pm
पिछले वर्ष मैंने बरसात में कीड़ों के काट लेने से होने वाली परेशानियों और व्याधियों के उपचार के बारे में लिखा था .इस साल की बरसात में आप  ये जानें कि तमाम  बरसाती बीमारियों से अपने शरीर की रक्षा कैसे करनी है.गर्मियां अब जाने के कगार पर हैं . ये गर्मियां कीटाणुओं की दुश्मन...
mera samast...
Tag :
  June 19, 2012, 5:46 pm
 बंधुओ ये आम का मौसम है .आम तो आम सी ही चीज है पर कभी कभी ये जीवन दायी भी साबित हो जाता है .कुछ रोग ऐसे हैं जिनमे कोई दवा ही काम नहीं करती ,वहाँ ये आम रोगी के लिए ख़ास का दर्जा रखता है आम का नहीं .इस आम का वैज्ञानिक नाम है- Magnifera indicaइस आम के सारे अंग ही प्रयोग मे...
mera samast...
Tag :aam
  May 8, 2012, 2:49 pm
 ये पोदीना है .इसे तो देखते ही ठंडक दिल में उतर जाती है .इसका वैज्ञानिक नाम है Mentha spicata .इसे मिंट भी कहते हैं.पोदीने की चटनी खानी हो या पुदीने का शरबत पीना हो बस जी मचल जाता है . इस पोदीने पर एक बड़ी प्रसिद्द कहावत भी है कि "अरे वो तो बावन बीघा पोदीना बोते हैं ". पहले शहरों में औ...
mera samast...
Tag :पुदीना
  April 30, 2012, 6:48 pm
कचनार का फूल कितना खूबसूरत होता है ,देखते ही बस जी मचल जाता है .अरे ये है भी बहुत उपयोगी .अगर पूरा देश जान जाए की ये किस रोग की दवा है तो बस ये समझ लीजिये की बेचारा दुर्लभ फूल की श्रेणी में आ जाएगा . हो सकता है की तब सरकार को इसे प्रतिबंधित फूल घोषित करना पड़े.कचनार का पेड़ ८ फ...
mera samast...
Tag :थाईरायड
  March 13, 2012, 8:07 pm
इन आलेखों में पूर्व विद्वानों द्वारा बताये गये ज्ञान को समेट कर आपके समक्ष सरल भाषा में प्रस्तुत करने का छोटा सा प्रयत्न मात्र है .औषध प्रयोग से पूर्व किसी मान्यताप्राप्त हकीम या वैद्य से सलाह लेना आपके हित में उचित होगा...
mera samast...
Tag :
  March 2, 2012, 11:45 am
http://www.youtube.com/watch?v=j4R2LS7dXAsइन आलेखों में पूर्व विद्वानों द्वारा बताये गये ज्ञान को समेट कर आपके समक्ष सरल भाषा में प्रस्तुत करने का छोटा सा प्रयत्न मात्र है .औषध प्रयोग से पूर्व किसी मान्यताप्राप्त हकीम या वैद्य से सलाह लेना आपके हित में उचित होगा...
mera samast...
Tag :
  February 25, 2012, 9:18 pm
एक कहावत तो सदियों से मशहूर है कि-हरण  ,बहेड़ा,आंवला घी शक्कर संग खायहाथी दाबे कांख में चार कोस ले जायआज कल इस ताकत की  तो कल्पना भी नहीं की जा सकती ,५ किलो सामान हाथ में लेकर आधा किलो मीटर पैदल चलना पड़े तो दांतों तले पसीना आ जाता है.चलिए इस कहावत का ही आँख बंद करके अनुसरण ...
mera samast...
Tag :
  February 23, 2012, 7:50 am
वीर्यवान भव : यही आशीर्वाद प्राचीन काल में बच्चों को दिया जाता था. यह सर्वश्रेष्ठ आशीर्वाद माना जाता था. इसके बाद नंबर आता था- पुत्रवान भव , तेजस्वी भव, विद्वान भव, बुद्धिमान भव का. आज कल तो नमस्ते ,सलाम, गुड मार्निंग का दौर है. अब कहाँ मिलते हैं आशीर्वाद.आइये आज इस एक आशीर्व...
mera samast...
Tag :
  February 9, 2012, 8:26 am
बहुत सारी बीमारियाँ ऎसी होती हैं कि  वो जब छोडती हैं तो जैसे लगता है कि शरीर में जान ही नहीं बची, और ऊपर से सितम ये कि कुछ खाने-पीने की इच्छा भी नहीं होती. फिर कोई हमदर्दी में  ताकत के लिए दवा -सिरप का नाम लेता है तो उससे बड़ा दुश्मन कोई लगता ही नहीं. खाने की भी हिम्मत नहीं होत...
mera samast...
Tag :
  January 23, 2012, 5:59 pm
 कितने खूबसूरत होते हैं हरसिंगार के फूल और कितने काम की इसकी पत्तियाँकभी आपने १५-२० वर्ष पहले पराक्सीन नाम की अंग्रेजी दवा खायी थी ? इसके पावडर का स्वाद और हरसिंगार की पत्तियों का स्वाद एक ही जैसा होता है. जब बुखार बहुत पुराना हो जाता था और किसी दवा से ख़त्म नहीं होता था ...
mera samast...
Tag :घरेलू नुस्खे
  December 17, 2011, 3:50 pm
कलौंजी का पौधा सौंफ के पौधे की तरह होता है इसके फूल हलके नीले रंग के होते हैं.कलौंजी के दाने तिकोने और काले रंग के होते हैं.ये बहुत सुगन्धित भी होते हैं.ये बहुत ताकतवर होते हैं.कलौंजी के बीजों में मैलेंथीन,मैलेंथेजैनिंन ,एल्ब्यूमीन, शर्करा, गोंद, टैनिन, ग्लूकोसाइड, राल, स...
mera samast...
Tag :घरेलू दवा
  December 2, 2011, 3:19 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)