POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: शब्‍द श्‍यामल

Blogger: shyam bihari shyamal
क्या कहूं हाल अपना अब जो आमद हुआ है श्याम बिहारी श्यामल बेअदब बेक़द्र बेमुरव्वत बेहद हुआ है आईना मेरा जबसे आदमक़द हुआ है जब देखो जुटा मिलता है नापने में मुझेक्या कहूं हाल अपना अब जो आमद हुआ है कहां देगा मौक़ा अब शक्ल संवारने कादिखी हंसी ज़हरीली, अभी जब ज़द ... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   2:28am 21 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
सवाल मुल्तवी रख फ़तेह का अभीश्याम बिहारी श्यामल सच जानेंगे तो आप रह जायेंगे दंग  सूरज से पूछियेगा क्या है लाल रंग  कैसे कर रहा हज़ारों साल से उजाला क्या ज़ज्बा कैसी ज़िद एक जुनूं के संग तीरगी औ'ज़माने का रिश्ता उसे पता यह भी कि कौन यहां इस रोशनी से तंग शाइर कौ... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   2:14am 20 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
सामने मक़सद एक नई दुनिया तराशनाश्याम बिहारी श्यामल पैग़ाम-ए-क़ायनात नए पल संवारना गड़े ग़म खोज-खोज ऐसे में क्या उखाड़ना ज़िंदगी ने बेशक़ ज़ख्म ही ज़ख्म नहीं दिए मरहम दिए, सिखाया दर्द को भी पछाड़ना छत दी, कुनबा बनाया, पूरा मुक़ाम बख्शा तब सरेनग़मा रोना क्या दहाड़े मारन... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   2:17am 14 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
खाक़ जो हुए दरअसल चांदनी से जले हैं श्याम बिहारी श्यामल राह-ए-ज़िंदगी में मंज़र क्या-क्या चले हैं गुल जिन्हें चुभे ताज़िंदगी नहीं संभले हैं  कांटे कहां यहां बने कभी राह के कांटे ज़रा-सा लहू पीकर फ़ौरन बाहर निकले हैं  आग कराती रही दूर से अहसास अपना खाक़ जो हु... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   1:11am 13 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
आब-ए-तल्ख़ के बने हैं हमारे हालातश्याम बिहारी श्यामल ब्रश, रंग, हाथ या दिमाग, किसकी करामात  कैनवास भौंचक, सुन तस्वीर के सवालात  ज़रा-सा रंग, कुछ लकीरें व बुनी परछाईं कैसे पेश अश'आरी मंज़रबंद लम्हात  कौन डाल रहा है जान इस नक्श के भीतर  कैसे बन रही अफ्सान मन की ... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   2:24am 12 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
ग़ज़ल की हद से अब निकलो भी बाहरश्याम बिहारी श्यामल तमाशबीन हैं, हक़ीक़त से जिन्हें प्यार रहाचुनांचे परेशान ही नहीं, सच अब हार रहाज़ाल-ए-फ़रेब निगल न जाए आस्मान सारा सुने यहां कौन, किस कुएं से कौन पुकार रहा इरादे किस हद तक हो चुके खौफ़नाक उसके अटारी से पिटारी में चांद वह ... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   1:51am 10 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
दर्द की नदी ने यूं जन्म लियाश्याम बिहारी श्यामल अहसास को दिल का मुक़ाम दिया है  सरेग़ज़ल हमने उसे ही जिआ है  मन परबत रखा, पीर को पलने दिया दर्द की नदी ने यूं जन्म लिया है  गोकि खुद हम भी हैं अखबारनवीस  खबर को कभी ना तफसील दिया है   मिलीभगत आंधियों से ... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   2:12am 9 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
दोस्ती के नए-नए रंग खिल रहेश्याम बिहारी श्यामल तिज़ारत एक बिना फायदे का हो  कोई तो दुश्मन क़ायदे का हो गाल फुलाएं या आ जाएं सामने बहाना नया 'बाकायदे'का हो  दोस्ती के नए-नए रंग खिल रहे  इक़रार कभी बिना वायदे का हो  आतिश-ए-क़ोशिश बुझी-बुझी-सी क्यों श्यामल एक... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   2:11am 8 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
असलहा चिह्न-ए-समीना श्याम बिहारी श्यामल ज़ोर-ए-बाज़ू जब जीना सूखे क्योंकर यह पसीना क्या आबे ज़न्नत, क्या ज़हर ज़िन्दगी ने सीखा पीना इतना कैसे ज़ज्ब इसमें  कहां कम सागर से सीना लूटा आसमां को किसने  चैन समंदरों का छीना श्यामल ग़ज़ब खेल सामनेअसलहा चिह्न-... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   1:25am 8 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
गनीमत है आँखों में अभी पानी है श्याम बिहारी श्यामल ज़िन्दाज़ेहनी की ज़िंदा निशानी है गनीमत है आँखों में अभी पानी है  दरिया-ए-अश्क़-ओ-पसीना, खूं यहां बाज़ार-ए-ज़ायक़ा यह लासानी है स्वाद जीभ से उतरने का क्यों नाम ले दर्द का क़ायनात में कहां सानी है मुंह खून लगा ऐ... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   2:03am 7 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
इक़बाल-ए-चश्म यूं बुलंद करोश्याम बिहारी श्यामल कभी देखना, कभी तोलना औ'ताड़ना     फितरत-ए-निगाह कहां केवल ताकना  तवारीख़-ओ-अफ्सां मिसालें बेमिसाल  नामुमकिन 'वाह वाह'कहने से रोकना जनकपुर वाटिका में कब मिले चार नैन   अब भी संभव वह आदि-प्रेम महसूसना वृन्दाव... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   2:35am 6 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
हिज़रत यूं कैसे पुरसुकूंश्याम बिहारी श्यामल सफ़र आखिर किस वस्ल की आस में   चांद भटक रहा किसकी तलाश में      सरक गयीं कैसे हज़ारों सदियां  आग आज भी वही सांस-सांस में  कैसी-कैसी लानत-मलामतें अज़ब-ग़ज़ब ताक़तें नेह-फांस में मुज़रिम न मुद्दई कोई सामने  फैस... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   2:56am 5 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
हमने देखे हैं एक से एक बवंडरश्याम बिहारी श्यामल आंधियों को मशविरा, तमाशा न बनाएं  कभी कुछ गढ़ा हो तो हमें ज़रा बताएं  तबाही बहादुरी नहीं, यह सिरफिरापन  क़हरबाज़ चुल्लू में डूब कर मर जाएं खुराफ़ात कतई नहीं खराद-ए-ताक़तसबकी एक चुनौती, सलाहियत दिखाएं  हमने देखे... Read more
clicks 60 View   Vote 0 Like   2:06am 4 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
ज़मीं पर उतरना है, यहां से कौन रास्ताश्याम बिहारी श्यामल सन्नाटे से कब तक दिखाए कोई प्यार    मन ही मन रोती हैं बुलंदियां ज़ार-ज़ार   अदम यह, कहां यहां दरिया-ओ-शज़र कोई मौज-ओ-गुल की आये कैसे कभी बयार बांझ चुप्पी, बेचैन बे-अत्फाल हवाएं कब तक बना रहेगा आसमां यूं... Read more
clicks 65 View   Vote 0 Like   1:26am 3 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
कैसा दौर-ए-फ़रेब ज़ुल्मतक़दाश्याम बिहारी श्यामल तराजू खबरदार, भेद खुल न जाए कहींबटखरा सहमा हुआ, खुद तुल न जाए कहींतौलने पर तुला जो मुझे, बेचैन क्यों हैक्यों उसे लगता, हवा में झुल न जाए कहींनूर-ए-उल्फ़त का मतलब अब समझ आया खौफज़दा अब वह, बत्ती गुल न जाए कहींतीन-पांच में र... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   2:35am 2 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
सच तो सच आख़िर श्याम बिहारी श्यामल एक दिन सब दगा देंगे आग को सब हवा देंगे क्या अंदाम, क्या चमन वह हाथ सारे छुड़ा लेंगे  गम कितना, कब तक मातमचाहकर क्या सिला देंगे अश्क़बार होंगे बेशक़ अंत में सब भुला देंगे  श्यामल सच तो सच आख़िर हमीं ख़ुद को मना लेंगे ------------... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   1:44am 1 May 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
गुल-ए-ज़ज़्ब नायाब, मौलवी कैसे खोजे मानीश्याम बिहारी श्यामल शिकस्त-ए-संगदिली का मंज़र अज़ब बनते देखा  जानिब-ए-कांच पत्थर को हवा में पिघलते देखा रंज़-ए-शीशा था या इंक़लाब-ए-इश्क़, या ख़ुदा पहले कहां किसने, संग को मोम में ढलते देखा कौंध-ए-दिल आतिशी ग़ज़ब, खुशबू की तर... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   12:04am 30 Apr 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
कैसे तेरे साथ कृष्ण हरदम नहींश्याम बिहारी श्यामल सामने ज़ंग महाभारत से कम नहींअफ़सोस साथ में केशव का दम नहीं  फिर वही दुर्योधन वही दुशासन अड़े  चीर हरण पर भीष्म की आंखें नम नहीं  लाल कपड़ों से झांक कर गीता महान  कहती है, 'समझो मत अर्जुन हम नहीं 'चुपचाप सुन रहा ... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   12:19am 29 Apr 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
बेशक तुम शिकंजाकश रहे श्याम बिहारी श्यामल दु:ख तुम जितना ही हंस रहे दरहक़ीक़त उतना फंस रहेओ दुनिया को रुलाने वालेकैसे बे-अश्क़ जस के तस रहे फ़रेब अब यह पोशीदा कहांतुम्हीं असली आराकश रहे बिन बुलाए धमक जाते यहांबेशक तुम शिकंजाकश रहे श्यामल अंजाम को रोके कौन  ... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   1:27am 27 Apr 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
ज़हां अल्फाज़ी ज़िंदगी हवा-हवाईश्याम बिहारी श्यामल बातों में जिनकी मिसालें हैं औ'दुहाई है  आमाल में झलक कहां इनकी कभी आई है  आईना दिखाता घूम रहा जो शख्स सबकोबार-बार शक्ल उसकी अलग पड़ी दिखाई हैख़तरनाक है उनकी तक़रीर को अब तो सुनना जिसने यकीं किया फ़ौरन मात यहां खा... Read more
clicks 214 View   Vote 0 Like   1:57am 27 Mar 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
कोई नागनाथ है तो कोई सांप नाथ श्याम बिहारी श्यामल मैदान मारने को कोई किसी के साथ शर्त यह केवल कि हुकूमत आ जाए हाथ  क्या मतलब उनके रंग-बिरंगे नारों का कोई नागनाथ है तो कोई सांप नाथ शहर से लेकर गांवों तक देखिए उन्हें चूम रहे अभी कैसे हर पगडंडी-पाथ दौर-ए-... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   2:37am 26 Mar 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
आसिम उनकी चाहत है बहुतश्याम बिहारी श्यामल सब जानते सियासत हैं बहुतउनकी बीन में ताक़त है बहुतबजाएं तो नचा दें हरेक को ज़ादू उनका आफ़त है बहुतचेहरे अनेक, सब के सब एक अमानत में ख़यानत है बहुत देखिए सब समझा रहे क्या-क्याकहा, क़ैद में राहत है बहुत लोरी है, नारे हैं, ... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   1:27am 26 Mar 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
शेरदिलों को करूं खबरदार श्याम बिहारी श्यामल बेहद पसंद था जिस शख्स को शेरदिल कहलाना  देखने लायक था सामने आते उसका हकलाना बखूबी पता था यहां खतरा नहीं, यह सर्कस है  पर अब तो मुश्किल ही हो चला उन्हें संभाल पाना सिंह गोकि वाकिफ़ हालात और अपनी हद से भी करे तो ... Read more
clicks 123 View   Vote 0 Like   2:29am 25 Mar 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
करो पहल अभी शुरू श्याम बिहारी श्यामल नोचो नक़ाब उनकेखूनी ख्व़ाब जिनके डूब जाने दो अभी दो न कतई तिनकेवक़्त जब सामने होवसूलो गिन-गिन केकरो पहल अभी शुरू इंतज़ार न दिन केश्यामल होना काफ़ी हम मुरीद यकीं के... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   2:48am 24 Mar 2019 #
Blogger: shyam bihari shyamal
अफ़सुर्दा था वह औ'क़ैद-ए-लब श्याम बिहारी श्यामल ज़ेहन में जिसके सच के सिवा सब था उसके ज़ुबानी सच का क्या मतलब थाभीतर से खिलाफ, बाहर हक़ में खड़ा गडमड यह तवारीख़ में भला कब थादोस्त-ओ-दुश्मन की शिनाख्त हो कैसे इस दौर का सवाल बड़ा यही अब था मिट चली हद बारीक़ वह दरम्यानी नि... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   1:25am 24 Mar 2019 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4019) कुल पोस्ट (193753)