Hamarivani.com

Fulbagiya

(हिन्दी के प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार हमारे पिताजी आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी का आज 89वां जन्म दिवस है।वो भौतिक रूप से हमारे बीच उपस्थित नहीं हैं लेकिन उनकी रचनात्मकता तो हर समय हमारा मार्ग दर्शनकरेगी .---ऐतिहासिक व्यक्तित्व“महमूद बघर्रा”के विषय में रोचक ...
Fulbagiya...
Tag :प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव
  March 11, 2018, 7:45 pm
जाड़ा ताल ठोंक जब बोला,सूरज का सिंहासन डोला,कुहरे ने जब पांव पसारा,रास्ता भूला चांद बिचारा।छिपे सितारे ओढ़ रजाई,आसमान नहिं दिखता भाई,पेड़ और पौधे सिकुड़े सहमे,झील में किसने बरफ़ जमाई।पर्वत धरती सोये ऐसे,किसी ने उनको भंग पिलाई,सुबह हुयी सब जागें कैसे,मुर्गे ने तब बांग लगाई।...
Fulbagiya...
Tag :जाड़ा
  January 4, 2018, 10:03 pm
दानव से मानव                                                                                                 प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव                       वल्लभगढ़ के राजकुमार अक्सर घने जंगल में निकल जाते।उन्हें शिकार का ...
Fulbagiya...
Tag :दानव से मानव
  October 3, 2017, 11:33 pm
(जानकारी)                                मखमल जैसी वीर बहूटी।                                                         बरसात के मौसम में अपने घरों के आस पास,किसी पार्क में हरी घास पर रे...
Fulbagiya...
Tag :जानकारी
  August 28, 2017, 11:29 pm
लालच की सजा(तिब्बतकीलोककथापरआधारित)पात्र- नटनटीराजामंत्रीदरबारीकानाबैल(पहरेदार)मछुआमछुआरिनकुछसैनिक।(दृश्य-1)(नक्कारेकीआवाजऔरसंगीतकेसाथमंचपरएकतरफसेएकनटऔरदूसरीतरफसे नटीनाचतेहुएआतेहैं।दोनोंमंचकेबीचोबीचरूकजातेहैंथोड़ीदेरतकसंगीतकीधुनपरथिरकतेरहतेहै...
Fulbagiya...
Tag :लालच की सजा
  August 10, 2017, 11:35 pm
इनाम                  लेखिका--मोनिका अग्रवाल           राम एक बहुत शरारती लड़का था।वहअपनी क्लास में बहुत शैतानी करता  और सब बच्चों  को भी बहुत परेशान करता था।उसके पापा ने उसे कई बार समझाने की कोशिश की पर वो हँस कर कहता,“मैं जानबूझकर ...
Fulbagiya...
Tag :इनाम
  August 2, 2017, 9:43 pm
                        दृश्य—5(उसी पार्क का दृश्य।लड़का-1,लड़का-2,और लड़की-1 किनारे बेंच पर उदास बैठे हैं।मंच के दूसरे किनारे(पार्क के दूसरे कोने)पर परी के साथ काली सलमा दीनू खेल रहे हैं।उनके खेलने की आवाज इन बच्चों के पास आ रही जिससे इन बच्चों को झुंझलाहट हो ...
Fulbagiya...
Tag :
  July 17, 2017, 9:45 pm
दृश्य-3 (उसी पार्क का एक कोना।कोने में जमीन पर काली,दीनू,रामू,सलमा और मल्लिका गुमसुम से बैठे हैं।सभी के चेहरों पर उदासी।पार्क के दूसरे कोने में कुछ बच्चे खेलते हुए भी दिखाई पड़ते हैं।एक तरफ से एक बहुत बूढा,लम्बे बालों वाला थोडा सा डरावना व्यक्ति वहां पर आता है।वह...
Fulbagiya...
Tag :बाल नाटक
  July 16, 2017, 10:59 pm
दृश्य –2  (मंच पर पार्क का दृश्य।शाम का झुटपुटा।एक कोने में लड़का-1,लड़का-2,लड़की-1और कुछ दूसरे  बच्चे खेलते दिखाई पड़ रहे हैं।कुछ बड़े लोग एक किनारे खड़े कसरत कर रहे।पार्क के एक तरफ से काली,रामू ,दीनू,मल्लिका और सलमा आते हैं।सब खेल रहे बच्चों के पास जाकर कुछ देर उनका खेल देखते...
Fulbagiya...
Tag :डा०हेमन्त कुमार
  June 22, 2017, 11:27 pm
(मेरे नए बाल नाटक “खुशियों का गांव”का पहला दृश्य) खुशियों का गाँव(बाल नाटक)०डा०हेमन्त कुमार                                                                      पात्र: 1-काली (गरीब बच्चा)-12 साल        2-रामू(गरीब बच्चा)--11 साल    3-दीनू (ग...
Fulbagiya...
Tag :बाल नाटक
  June 20, 2017, 8:36 pm
       ("हमारा कालू"कहानी पिता जी श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी ने निधन के लगभग दो माह पहले ही लिखी थी।)            यही हैं अपने कालू जी अखबार उठाने के लिए पापा ने दरवाजा खोला मगर चौंक उठे।अखबार के पास एक कुत्ता खड़ा था।दुम हिलाता,आंखें मटकाता हुआ। रंग?उसकी ...
Fulbagiya...
Tag :प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव
  May 23, 2017, 11:29 pm
बांसों के झुरमुट से वंशी,झरनों का कलकल संगीत,सूना जंगल पूछे हमसे,कहां खो गए मेरे गीत।धरती पर से घटता क्यूं जल,दूर दूर ना दिखते बादल,बारिश भी तो पूछे हमसे,कहां खो गए मेरे गीत।कंकरीट के जंगल बीच,गौरैया की सूनी आंखें,पाखी सारे पूछ रहे हैं,कहां खो गए मेरे गीत।सूनी घाटी सूने ...
Fulbagiya...
Tag :डा०हेमंत कुमार
  May 18, 2017, 10:22 pm
बंद हुए स्कूल सभी जबबच्चों की लग गयी लाटरीकोई छत पर पतंग उड़ाताकथा कहानी किसी को प्यारी।कुछ बच्चों ने बना ली टोलीबांध खिलौने उठा ली गठरीजिनको गाने लगते प्यारेकर दिया शुरू अन्त्याक्षरी।गुड्डे गुड़िया ब्याह रचानेनिकली गांव की बिटिया सारीजो बच्चे रह गये थे पीछेदौड़ पड़...
Fulbagiya...
Tag :डा०हेमंत कुमार
  February 2, 2017, 10:20 pm
शाबाश तन्मय                                                      लेखक-प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव              तन्मय हर तरह से एक अच्छा लड़का था।पढ़ाई-लिखाई मे तेज।स्कूल से आते ही अपने  जूते-मोजे,स्कूल ड्रेस सब ठीक से रख देता।स्कूल का होम वर्क ...
Fulbagiya...
Tag :बाल कहानी.
  December 6, 2016, 11:38 pm
दस्तक दी जाड़े ने देखोहर घर में अब  धीरे सेस्वेटर मफलर टोपे देखोबक्से से झांके धीरे से।रात में पंखा बंद कर देतींमम्मी जी अब धीरे सेकालू कूं कूं बोरी मांगेपापा जी से धीरे से।सभी रेंगने वाले प्राणीशीत निद्रा में धीरे सेगौरैया के बच्चे सारेबाहर झांकें धीरे से।खिड़की क...
Fulbagiya...
Tag :डा0 हेमन्त कुमार
  November 6, 2016, 8:47 pm
फूलों   जैसे    कपड़े   पहने,जब  सोकर  उठ जाता सूरज।बड़े  सवेरे  छत  पर  आकर,हमको   रोज  जगाता  सूरज।जाड़े   में   धीमे   से  छूकर,सर्दी   दूर   भगाता  सूरज।मगर  दोपहर  में,  गरमी की,हमको   बहुत  सताता  सूरज।शाम  हुई  तो ...
Fulbagiya...
Tag :डा0अरविन्द दुबे।
  July 9, 2016, 11:24 pm
कोयल का गाना सुन बोलेइक दिन भालू दादाले लो तुम अब एक पियानोदाम नहीं कुछ ज्यादा।भाग के दोनों शहर को पहुंचे दूर नहीं था ज्यादादेख समझ के पसंद किया फ़िरएक पियानो बाजा।पैसे लाई थी कम कोयलदाम थे थोड़े ज्यादासिटी बैंक का कार्ड निकालेफ़ौरन भालू दादा।जंगल में फ़िर धूम मच गयीक...
Fulbagiya...
Tag :गाओ झूमो नाचो।
  July 1, 2016, 11:35 pm
                                 अनोखी सीख                                     छोटी-छोटी पहाडि़यों और नदियों से घिरा हुआ एक बहुत घना जंगल था। उसी जंगल के बीचोंबीच एक गुफा में एक भालू रहता था। वह बहुत सीधा था। गुफ...
Fulbagiya...
Tag :आओ सुनो कहानी
  June 21, 2016, 11:03 pm
दूर पहाड़ों से हैं आतीबारिश का संदेसा लातीखट्टी मीठी बातें करतीझरनों का संगीत सुनातीशीतल मंद हवाएं।दुनिया भर की खबर सुनातीप्रेम भरे पैगाम भी लातीकभी तेज हो हर हर करतीकभी प्यार से पंखे झलतीशीतल मंद हवाएं।सुंदर फ़ूलों से खुशबू लेगांव गली में बांटा करतीभटका पथिक अगर म...
Fulbagiya...
Tag :डा0हेमन्त कुमार।
  May 30, 2016, 11:10 pm
सूखी धरती सूखी नदियांसूख गये सब ताल तलैयाहवा में उड़ते पाखी चीखेअब तो गुस्सा छोड़ो भैय्या।कहां छुपे हो बादल भैय्या।आग उगलती हवा में देखोजीव सभी अब झुलस रहे हैंथोड़ी दया करो अब सब परछाया थोड़ी कर दो भैय्या।कहां छुपे हो बादल भैय्या।टप टप करता गिरे पसीनापर्वत जंगल चैन कही...
Fulbagiya...
Tag :गाओ नाचो झूमो।
  May 10, 2016, 11:28 pm
तितली से---।तितली रानी बाग में मेरेफ़ूल खिले हैं प्यारेतुमको आता देख के कैसेखिल खिल करते सारे।मेरा नन्हां भैया कैसेदेखो तुम्हें निहारेकूद कूद अपनी गाड़ी सेहरदम तुम्हें पुकारे।मखमल जैसे रंग बिरंगेकोमल पंख तुम्हारेअगर मुझे भी मिल जाते तोउड़ती संग तुम्हारे।एक बात मुझक...
Fulbagiya...
Tag :डा0हेमन्त कुमार।
  April 4, 2016, 11:23 pm
      दीनू स्कूल से लौटा। मां बापू तो खेत पर काम के लिये गये हैं। अब क्या करे वह?कुछ देर सोचने के बाद वह जंगल की ओर निकल पड़ा।उसके पीछे शेरू ने भी दौड़ लगा दी।दोनों बहुत दूर निकल आये।दीनू जब थक गया तो एक पेड़ के तने से टिक कर खड़ा हो गया।शेरू भी वहीं चिड़ियों के पास उछलने लगा।&...
Fulbagiya...
Tag :चित्रात्मक कहानी।
  February 17, 2016, 9:00 pm
नन्हें बच्चों की अपनी दुनिया होती है।उनकी अपनी कल्पनाएं होती हैं।उनकी अपनी सोच होती है और किसी चीज को देखने परखने का नजरिया भी एकदम अनोखा होता है।जिसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते। आज मैं यहां ऐसे ही कुछ नन्हें मुन्ने चित्रकारों के खुद के बनाए चित्रों को प्रदर्शित कर र...
Fulbagiya...
Tag :खुशबू।
  February 9, 2016, 11:37 pm
मटर छीलती प्यारी लड़कीकम दानों को देख भड़कतीमटर कहां से मिले तो छीलूंहर घर में वो पहुंच अकड़ती।कभी पाव भर कभी दो कीलोमटर वो चुटकी में छीलतीपर फ़ोकट में काम न करतीबीच में दानों को झट से चबाती।कहने को तो छोटी है परकरती घर के ढेरों कामसबको हड़का लेती घर केमटर छीलती प्यारी लड़क...
Fulbagiya...
Tag :नित्या शेफाली
  February 6, 2016, 10:40 pm
सिर  से  उतर  पहाड़  के  बहती  जाए नदिया।बिना   रुके   मैदानों   में  चलती  जाए नदिया।गीत    सुनाते   हंसते-गाते,उसको  आगे  तक  जाना हैरास्ते  में  जो भी मिल जाएसबकी   प्यास   बुझाना  हैकल-कल करती कभी न थकती, बहती जाए नदिया।बिना &n...
Fulbagiya...
Tag :डा0अरविन्द दुबे
  December 29, 2015, 11:37 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3757) कुल पोस्ट (176063)