POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Fulbagiya

Blogger: Hemant Kumar
रग्घू काकाफोटो:गूगल से साभार रग्घू काका चाक पे अपनेबर्तन खूब बनातेरंग बिरंगे ढेरों खिलौनेदीवाली पर लाते।रग्घू काका--------।कभी कोई बच्चा मांगे तोमोटर कार बनातेगुड़िया गुड्डे की पूरीबारात उसे दे जाते।रग्घू काका--------।फोटो:गूगल से साभार सब बच्चों के प्यारे काका गुस्... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   5:19pm 17 Sep 2019 #बाल कविता
Blogger: Hemant Kumar
बुद्धि बड़ी या शेर(पंचतंत्र की कहानी “चतुर खरगोश और शेर”पर आधारित कठपुतली नाटक )लेखक:डा०हेमन्त कुमार                      पात्र :1-नट-नटी 2-सोनू शेर 3-पिंकू खरगोश                      4-बन्दर मस्त कलंदर             ... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   6:47pm 19 Apr 2019 #पन्चतन्त्र
Blogger: Hemant Kumar
आपरेशन थंडरहिट  (एक नया अनोखा रोमांच)                                                                    लेखक-प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव2. आज का थका हुआ वाटसन        काफी वक्त गुजर चुका था। इस वक्त ने आज वाटसन को थका हुआ और बूढ़ा बना दिय... Read more
Blogger: Hemant Kumar
     वरिष्ठ बाल साहित्यकार और मेरे पिता आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी ने अपने अंतिम दिनों में अपना दूसरा बाल उपन्यास “मौत से दोस्ती”लिखा था।दुर्भाग्य से यह बाल उपन्यास पिता जी के जीवनकाल में प्रकाशित नहीं हो सका था।मुझे इस उपन्यास का शीर्षक “आपरेशन ... Read more
Blogger: Hemant Kumar
(हिन्दी के प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार हमारे पिताजी आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी की आज पुण्य तिथि है।आज 31 जुलाई 2016 को वो हम सभी को अकेला छोड़ गए थे।आज वो भौतिक रूप से हमारे बीच उपस्थित नहीं हैं लेकिन उनकी रचनात्मकता तो हर समय हमारा मार्ग दर्शनकरेगी।मैं आज पित... Read more
clicks 275 View   Vote 0 Like   4:41pm 31 Jul 2018 #बाल कहानी
Blogger: Hemant Kumar
(हिन्दी के प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार हमारे पिताजी आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी का आज 89वां जन्म दिवस है।वो भौतिक रूप से हमारे बीच उपस्थित नहीं हैं लेकिन उनकी रचनात्मकता तो हर समय हमारा मार्ग दर्शनकरेगी .---ऐतिहासिक व्यक्तित्व“महमूद बघर्रा”के विषय में रोचक ... Read more
Blogger: Hemant Kumar
जाड़ा ताल ठोंक जब बोला,सूरज का सिंहासन डोला,कुहरे ने जब पांव पसारा,रास्ता भूला चांद बिचारा।छिपे सितारे ओढ़ रजाई,आसमान नहिं दिखता भाई,पेड़ और पौधे सिकुड़े सहमे,झील में किसने बरफ़ जमाई।पर्वत धरती सोये ऐसे,किसी ने उनको भंग पिलाई,सुबह हुयी सब जागें कैसे,मुर्गे ने तब बांग लगाई।... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   4:33pm 4 Jan 2018 #जाड़ा
Blogger: Hemant Kumar
दानव से मानव                                                                                                 प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव                       वल्लभगढ़ के राजकुमार अक्सर घने जंगल में निकल जाते।उन्हें शिकार का ... Read more
clicks 205 View   Vote 0 Like   6:03pm 3 Oct 2017 #दानव से मानव
Blogger: Hemant Kumar
(जानकारी)                                मखमल जैसी वीर बहूटी।                                                         बरसात के मौसम में अपने घरों के आस पास,किसी पार्क में हरी घास पर रे... Read more
clicks 237 View   Vote 0 Like   5:59pm 28 Aug 2017 #जानकारी
Blogger: Hemant Kumar
लालच की सजा(तिब्बतकीलोककथापरआधारित)पात्र- नटनटीराजामंत्रीदरबारीकानाबैल(पहरेदार)मछुआमछुआरिनकुछसैनिक।(दृश्य-1)(नक्कारेकीआवाजऔरसंगीतकेसाथमंचपरएकतरफसेएकनटऔरदूसरीतरफसे नटीनाचतेहुएआतेहैं।दोनोंमंचकेबीचोबीचरूकजातेहैंथोड़ीदेरतकसंगीतकीधुनपरथिरकतेरहतेहै... Read more
clicks 198 View   Vote 0 Like   6:05pm 10 Aug 2017 #लालच की सजा
Blogger: Hemant Kumar
इनाम                  लेखिका--मोनिका अग्रवाल           राम एक बहुत शरारती लड़का था।वहअपनी क्लास में बहुत शैतानी करता  और सब बच्चों  को भी बहुत परेशान करता था।उसके पापा ने उसे कई बार समझाने की कोशिश की पर वो हँस कर कहता,“मैं जानबूझकर ... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   4:13pm 2 Aug 2017 #इनाम
Blogger: Hemant Kumar
                        दृश्य—5(उसी पार्क का दृश्य।लड़का-1,लड़का-2,और लड़की-1 किनारे बेंच पर उदास बैठे हैं।मंच के दूसरे किनारे(पार्क के दूसरे कोने)पर परी के साथ काली सलमा दीनू खेल रहे हैं।उनके खेलने की आवाज इन बच्चों के पास आ रही जिससे इन बच्चों को झुंझलाहट हो ... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   4:15pm 17 Jul 2017 #
Blogger: Hemant Kumar
दृश्य-3 (उसी पार्क का एक कोना।कोने में जमीन पर काली,दीनू,रामू,सलमा और मल्लिका गुमसुम से बैठे हैं।सभी के चेहरों पर उदासी।पार्क के दूसरे कोने में कुछ बच्चे खेलते हुए भी दिखाई पड़ते हैं।एक तरफ से एक बहुत बूढा,लम्बे बालों वाला थोडा सा डरावना व्यक्ति वहां पर आता है।वह... Read more
clicks 209 View   Vote 0 Like   5:29pm 16 Jul 2017 #बाल नाटक
Blogger: Hemant Kumar
दृश्य –2  (मंच पर पार्क का दृश्य।शाम का झुटपुटा।एक कोने में लड़का-1,लड़का-2,लड़की-1और कुछ दूसरे  बच्चे खेलते दिखाई पड़ रहे हैं।कुछ बड़े लोग एक किनारे खड़े कसरत कर रहे।पार्क के एक तरफ से काली,रामू ,दीनू,मल्लिका और सलमा आते हैं।सब खेल रहे बच्चों के पास जाकर कुछ देर उनका खेल देखते... Read more
clicks 223 View   Vote 0 Like   5:57pm 22 Jun 2017 #डा०हेमन्त कुमार
Blogger: Hemant Kumar
(मेरे नए बाल नाटक “खुशियों का गांव”का पहला दृश्य) खुशियों का गाँव(बाल नाटक)०डा०हेमन्त कुमार                                                                      पात्र: 1-काली (गरीब बच्चा)-12 साल        2-रामू(गरीब बच्चा)--11 साल    3-दीनू (ग... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   3:06pm 20 Jun 2017 #बाल नाटक
Blogger: Hemant Kumar
       ("हमारा कालू"कहानी पिता जी श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी ने निधन के लगभग दो माह पहले ही लिखी थी।)            यही हैं अपने कालू जी अखबार उठाने के लिए पापा ने दरवाजा खोला मगर चौंक उठे।अखबार के पास एक कुत्ता खड़ा था।दुम हिलाता,आंखें मटकाता हुआ। रंग?उसकी ... Read more
Blogger: Hemant Kumar
बांसों के झुरमुट से वंशी,झरनों का कलकल संगीत,सूना जंगल पूछे हमसे,कहां खो गए मेरे गीत।धरती पर से घटता क्यूं जल,दूर दूर ना दिखते बादल,बारिश भी तो पूछे हमसे,कहां खो गए मेरे गीत।कंकरीट के जंगल बीच,गौरैया की सूनी आंखें,पाखी सारे पूछ रहे हैं,कहां खो गए मेरे गीत।सूनी घाटी सूने ... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   4:52pm 18 May 2017 #डा०हेमंत कुमार
Blogger: Hemant Kumar
बंद हुए स्कूल सभी जबबच्चों की लग गयी लाटरीकोई छत पर पतंग उड़ाताकथा कहानी किसी को प्यारी।कुछ बच्चों ने बना ली टोलीबांध खिलौने उठा ली गठरीजिनको गाने लगते प्यारेकर दिया शुरू अन्त्याक्षरी।गुड्डे गुड़िया ब्याह रचानेनिकली गांव की बिटिया सारीजो बच्चे रह गये थे पीछेदौड़ पड़... Read more
clicks 213 View   Vote 0 Like   4:50pm 2 Feb 2017 #डा०हेमंत कुमार
Blogger: Hemant Kumar
शाबाश तन्मय                                                      लेखक-प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव              तन्मय हर तरह से एक अच्छा लड़का था।पढ़ाई-लिखाई मे तेज।स्कूल से आते ही अपने  जूते-मोजे,स्कूल ड्रेस सब ठीक से रख देता।स्कूल का होम वर्क ... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   6:08pm 6 Dec 2016 #बाल कहानी.
Blogger: Hemant Kumar
दस्तक दी जाड़े ने देखोहर घर में अब  धीरे सेस्वेटर मफलर टोपे देखोबक्से से झांके धीरे से।रात में पंखा बंद कर देतींमम्मी जी अब धीरे सेकालू कूं कूं बोरी मांगेपापा जी से धीरे से।सभी रेंगने वाले प्राणीशीत निद्रा में धीरे सेगौरैया के बच्चे सारेबाहर झांकें धीरे से।खिड़की क... Read more
clicks 224 View   Vote 0 Like   3:17pm 6 Nov 2016 #डा0 हेमन्त कुमार
Blogger: Hemant Kumar
फूलों   जैसे    कपड़े   पहने,जब  सोकर  उठ जाता सूरज।बड़े  सवेरे  छत  पर  आकर,हमको   रोज  जगाता  सूरज।जाड़े   में   धीमे   से  छूकर,सर्दी   दूर   भगाता  सूरज।मगर  दोपहर  में,  गरमी की,हमको   बहुत  सताता  सूरज।शाम  हुई  तो ... Read more
clicks 181 View   Vote 0 Like   5:54pm 9 Jul 2016 #डा0अरविन्द दुबे।
Blogger: Hemant Kumar
कोयल का गाना सुन बोलेइक दिन भालू दादाले लो तुम अब एक पियानोदाम नहीं कुछ ज्यादा।भाग के दोनों शहर को पहुंचे दूर नहीं था ज्यादादेख समझ के पसंद किया फ़िरएक पियानो बाजा।पैसे लाई थी कम कोयलदाम थे थोड़े ज्यादासिटी बैंक का कार्ड निकालेफ़ौरन भालू दादा।जंगल में फ़िर धूम मच गयीक... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   6:05pm 1 Jul 2016 #गाओ झूमो नाचो।
Blogger: Hemant Kumar
                                 अनोखी सीख                                     छोटी-छोटी पहाडि़यों और नदियों से घिरा हुआ एक बहुत घना जंगल था। उसी जंगल के बीचोंबीच एक गुफा में एक भालू रहता था। वह बहुत सीधा था। गुफ... Read more
clicks 199 View   Vote 0 Like   5:33pm 21 Jun 2016 #आओ सुनो कहानी
Blogger: Hemant Kumar
दूर पहाड़ों से हैं आतीबारिश का संदेसा लातीखट्टी मीठी बातें करतीझरनों का संगीत सुनातीशीतल मंद हवाएं।दुनिया भर की खबर सुनातीप्रेम भरे पैगाम भी लातीकभी तेज हो हर हर करतीकभी प्यार से पंखे झलतीशीतल मंद हवाएं।सुंदर फ़ूलों से खुशबू लेगांव गली में बांटा करतीभटका पथिक अगर म... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   5:40pm 30 May 2016 #डा0हेमन्त कुमार।
Blogger: Hemant Kumar
सूखी धरती सूखी नदियांसूख गये सब ताल तलैयाहवा में उड़ते पाखी चीखेअब तो गुस्सा छोड़ो भैय्या।कहां छुपे हो बादल भैय्या।आग उगलती हवा में देखोजीव सभी अब झुलस रहे हैंथोड़ी दया करो अब सब परछाया थोड़ी कर दो भैय्या।कहां छुपे हो बादल भैय्या।टप टप करता गिरे पसीनापर्वत जंगल चैन कही... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   5:58pm 10 May 2016 #गाओ नाचो झूमो।
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (195083)