Hamarivani.com

Fulbagiya

बंद हुए स्कूल सभी जबबच्चों की लग गयी लाटरीकोई छत पर पतंग उड़ाताकथा कहानी किसी को प्यारी।कुछ बच्चों ने बना ली टोलीबांध खिलौने उठा ली गठरीजिनको गाने लगते प्यारेकर दिया शुरू अन्त्याक्षरी।गुड्डे गुड़िया ब्याह रचानेनिकली गांव की बिटिया सारीजो बच्चे रह गये थे पीछेदौड़ पड़...
Fulbagiya...
Tag :डा०हेमंत कुमार
  February 2, 2017, 10:20 pm
शाबाश तन्मय                                                      लेखक-प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव              तन्मय हर तरह से एक अच्छा लड़का था।पढ़ाई-लिखाई मे तेज।स्कूल से आते ही अपने  जूते-मोजे,स्कूल ड्रेस सब ठीक से रख देता।स्कूल का होम वर्क ...
Fulbagiya...
Tag :बाल कहानी.
  December 6, 2016, 11:38 pm
दस्तक दी जाड़े ने देखोहर घर में अब  धीरे सेस्वेटर मफलर टोपे देखोबक्से से झांके धीरे से।रात में पंखा बंद कर देतींमम्मी जी अब धीरे सेकालू कूं कूं बोरी मांगेपापा जी से धीरे से।सभी रेंगने वाले प्राणीशीत निद्रा में धीरे सेगौरैया के बच्चे सारेबाहर झांकें धीरे से।खिड़की क...
Fulbagiya...
Tag :डा0 हेमन्त कुमार
  November 6, 2016, 8:47 pm
फूलों   जैसे    कपड़े   पहने,जब  सोकर  उठ जाता सूरज।बड़े  सवेरे  छत  पर  आकर,हमको   रोज  जगाता  सूरज।जाड़े   में   धीमे   से  छूकर,सर्दी   दूर   भगाता  सूरज।मगर  दोपहर  में,  गरमी की,हमको   बहुत  सताता  सूरज।शाम  हुई  तो ...
Fulbagiya...
Tag :डा0अरविन्द दुबे।
  July 9, 2016, 11:24 pm
कोयल का गाना सुन बोलेइक दिन भालू दादाले लो तुम अब एक पियानोदाम नहीं कुछ ज्यादा।भाग के दोनों शहर को पहुंचे दूर नहीं था ज्यादादेख समझ के पसंद किया फ़िरएक पियानो बाजा।पैसे लाई थी कम कोयलदाम थे थोड़े ज्यादासिटी बैंक का कार्ड निकालेफ़ौरन भालू दादा।जंगल में फ़िर धूम मच गयीक...
Fulbagiya...
Tag :गाओ झूमो नाचो।
  July 1, 2016, 11:35 pm
                                 अनोखी सीख                                     छोटी-छोटी पहाडि़यों और नदियों से घिरा हुआ एक बहुत घना जंगल था। उसी जंगल के बीचोंबीच एक गुफा में एक भालू रहता था। वह बहुत सीधा था। गुफ...
Fulbagiya...
Tag :आओ सुनो कहानी
  June 21, 2016, 11:03 pm
दूर पहाड़ों से हैं आतीबारिश का संदेसा लातीखट्टी मीठी बातें करतीझरनों का संगीत सुनातीशीतल मंद हवाएं।दुनिया भर की खबर सुनातीप्रेम भरे पैगाम भी लातीकभी तेज हो हर हर करतीकभी प्यार से पंखे झलतीशीतल मंद हवाएं।सुंदर फ़ूलों से खुशबू लेगांव गली में बांटा करतीभटका पथिक अगर म...
Fulbagiya...
Tag :डा0हेमन्त कुमार।
  May 30, 2016, 11:10 pm
सूखी धरती सूखी नदियांसूख गये सब ताल तलैयाहवा में उड़ते पाखी चीखेअब तो गुस्सा छोड़ो भैय्या।कहां छुपे हो बादल भैय्या।आग उगलती हवा में देखोजीव सभी अब झुलस रहे हैंथोड़ी दया करो अब सब परछाया थोड़ी कर दो भैय्या।कहां छुपे हो बादल भैय्या।टप टप करता गिरे पसीनापर्वत जंगल चैन कही...
Fulbagiya...
Tag :गाओ नाचो झूमो।
  May 10, 2016, 11:28 pm
तितली से---।तितली रानी बाग में मेरेफ़ूल खिले हैं प्यारेतुमको आता देख के कैसेखिल खिल करते सारे।मेरा नन्हां भैया कैसेदेखो तुम्हें निहारेकूद कूद अपनी गाड़ी सेहरदम तुम्हें पुकारे।मखमल जैसे रंग बिरंगेकोमल पंख तुम्हारेअगर मुझे भी मिल जाते तोउड़ती संग तुम्हारे।एक बात मुझक...
Fulbagiya...
Tag :डा0हेमन्त कुमार।
  April 4, 2016, 11:23 pm
      दीनू स्कूल से लौटा। मां बापू तो खेत पर काम के लिये गये हैं। अब क्या करे वह?कुछ देर सोचने के बाद वह जंगल की ओर निकल पड़ा।उसके पीछे शेरू ने भी दौड़ लगा दी।दोनों बहुत दूर निकल आये।दीनू जब थक गया तो एक पेड़ के तने से टिक कर खड़ा हो गया।शेरू भी वहीं चिड़ियों के पास उछलने लगा।&...
Fulbagiya...
Tag :चित्रात्मक कहानी।
  February 17, 2016, 9:00 pm
नन्हें बच्चों की अपनी दुनिया होती है।उनकी अपनी कल्पनाएं होती हैं।उनकी अपनी सोच होती है और किसी चीज को देखने परखने का नजरिया भी एकदम अनोखा होता है।जिसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते। आज मैं यहां ऐसे ही कुछ नन्हें मुन्ने चित्रकारों के खुद के बनाए चित्रों को प्रदर्शित कर र...
Fulbagiya...
Tag :खुशबू।
  February 9, 2016, 11:37 pm
मटर छीलती प्यारी लड़कीकम दानों को देख भड़कतीमटर कहां से मिले तो छीलूंहर घर में वो पहुंच अकड़ती।कभी पाव भर कभी दो कीलोमटर वो चुटकी में छीलतीपर फ़ोकट में काम न करतीबीच में दानों को झट से चबाती।कहने को तो छोटी है परकरती घर के ढेरों कामसबको हड़का लेती घर केमटर छीलती प्यारी लड़क...
Fulbagiya...
Tag :नित्या शेफाली
  February 6, 2016, 10:40 pm
सिर  से  उतर  पहाड़  के  बहती  जाए नदिया।बिना   रुके   मैदानों   में  चलती  जाए नदिया।गीत    सुनाते   हंसते-गाते,उसको  आगे  तक  जाना हैरास्ते  में  जो भी मिल जाएसबकी   प्यास   बुझाना  हैकल-कल करती कभी न थकती, बहती जाए नदिया।बिना &n...
Fulbagiya...
Tag :डा0अरविन्द दुबे
  December 29, 2015, 11:37 pm
कुहरे में जब सोया रहतापूरा शहर हमाराकोई कम्बल ओढ़े रहताकिसी को हीटर प्यारा।ऐसी ठण्ढक में भी रखतेकुछ लोग ध्यान हमारामीलों सायकिल चला के लातेअखबार हमारा प्यारा।अलसाए हम सोते रहतेवो करते काम हमाराचौका बर्तन करती काकीगुदड़ी का उन्हें सहारा।हाड़ कंपाते जाड़े में भीभैया ...
Fulbagiya...
Tag :गाओ झूमो नाचो
  December 17, 2015, 11:57 pm
रोज सबेरे आता सूरज,हंसता और मुस्काता सूरज,अंधियारे को दूर भगाकर,उजियारे को लाता सूरज।रोज सबेरे--------------। (फ़ोटो-गूगल से साभार)कभी सुनहली कभी लाल और,पीली गेंद बनाता सूरज,रोज सबेरे पूरब में उग,शाम को पश्चिम जाता सूरज।रोज सबेरे------------------। (फ़ोटो-गूगल से साभार)धूप रोशनी गर्मी ...
Fulbagiya...
Tag :डा0हेमन्त कुमार
  November 29, 2015, 8:44 pm
1-नवाब रंगीलेलेखक-आबिद सुरतीप्रकाशक-नेशनल बुक ट्रस्ट,इंडिया।मूल्य-रूपये-75/-2-क्यों मुस्कराए बुद्ध 2500 वर्ष बादलेखक-आबिद सुरतीप्रकाशक-नेशनल बुक ट्रस्ट,इंडिया।मूल्य—रूपये-45/-      आबिद सुरती एक बहुमुखी प्रतिभा के धनी रचनाकार हैं।आप लोगों में से कुछ ने ढब्बू जी को ...
Fulbagiya...
Tag :किताबें
  October 25, 2015, 10:42 pm
उड़न तश्तरी पास में मेरेअगर कहीं से आतीघर के सारे लोगों को मैंदुनिया की सैर कराती।उड़न तश्तरी पास में मेरेअगर कहीं से आती।सारा दिन मजदूरी करकेमांहमको खूब पढ़ातीउसके कपड़े फ़टे भले होंपर हमको खूब सजाती।उड़न तश्तरी पास में मेरेअगर कहीं से आती।पहाड़ नदी सागर की बातेंखूब हमे...
Fulbagiya...
Tag :गाओ झूमो नाचो
  September 27, 2015, 9:04 pm
राखी का दिन जब आयेगाबहुत सबेरे उठ जाऊंगीछोटे भैया को भी जगा केअपने संग मैं नहलाऊंगी।राखी का दिन-----------।सुन्दर कपड़े पहना करकेमैं भैया को सजाऊंगीप्यारे सुन्दर फ़ूलों से फ़िरराखी एक बनाऊंगी।राखी का दिन-----------।(चित्र गूगल से साभार)भैया को फ़िर पास बिठाकरप्यार से राखी बांधूंग...
Fulbagiya...
Tag :झूमो
  August 28, 2015, 11:27 pm
एक गांव के किनारे खेते में ढेर सारे चूहे रहते थे।उनका सरदार था टिंकू।टिंकू उन चूहों में सबसे समझदार और बूढ़ा था।इसीलिये सारे चूहे उसकी बात मानते थे।किसी को कहीं भी जाना होता तो सबसे पहले वह टिंकू से पूछ लेता तभी जाता था।उसी खेत में एक छोटा चूहा पिंकू भी रहता था।   &nb...
Fulbagiya...
Tag :पिंकू बैठा रेल में
  August 20, 2015, 12:15 am
पढ़ लिख के मूंछों की रौनकनहीं बढ़ाना है मुझकोखादी के कपड़ों पे धब्बेनहीं लगाना है मुझकोपढ़ लिख के मूंछों की रौनकनहीं बढ़ाना है मुझको।आतंकी हमलों पर तो अबरोक लगाना है मुझकोदेश को देखें तिरछी नजरेंसबक सिखाना है उनकोपढ़ लिख के मूंछों की रौनकनहीं बढ़ाना है मुझको।कलम किताबों ...
Fulbagiya...
Tag :डा0हेमन्त कुमार।
  August 14, 2015, 11:24 pm
पहले चिट्ठी आती थीखबरें ढेरों लाती थीबाबा दादी,नाना नानीसबके हाल सुनाती थी।पहले चिट्ठी------------।बतियाती पापा से पहलेमां को कभी रुलाती थीगांव की सोंधी मिट्टी के संगथोड़ा सा गुड़ लाती थी।पहले चिट्ठी------------।गांव के मेले गुब्बारे संगढेरों कम्पट लाती थीबाग बगीचों की हरियालीच...
Fulbagiya...
Tag :डा0हेमन्त कुमार
  August 11, 2015, 12:04 am
जब नौकरी की तलाश में,मोती    कुत्ता   आया।घंटी बजा, बुलाकर उसको,भालू    ने   समझाया।उसे  नौकरी  दूंगा जो कि,बोल   सके  दो  भाषा।सुनकर भी मोती कुत्ते को,हुई  न  तनिक निराशा।बोला  आती  भाषाएं दो,लो  मैं   तुम्हें  सुनाऊं।पहले   तेज-तेज&...
Fulbagiya...
Tag :डा0अरविन्द दुबे।
  July 27, 2015, 9:28 pm
पहले था इक नहां पौधाअब मैं हूं एक बड़ा सा पेड़हरे भरे जंगल में भैयामुझसे भी कुछ बड़े हैं पेड़बड़े पेड़ कुछ मोटे पेड़।जमीन के अंदर है मेरी जड़उसके ऊपर तना बना हैतने से निकली शाखाएं हैंशाखाओं में लगी पत्तियांलगी पत्तियां हरी पत्तियां।पानी खाद मुझे जो दोगेरहूंगा हरदम हरा भरापर...
Fulbagiya...
Tag :डा0हेमन्त कुमार।
  July 22, 2015, 11:09 pm
एकछोटीसीबच्चीथीछोटू।प्यारीसीगोलमटोल,मगरअव्वलदर्जेकीशरारती।उसकेपितावनअधिकारीथे।झारंखडकेएकछोटेशहरमेंरहतीथीवो।पढ़ाईकीबातआतेहीबुखारलगजाताउसे।तीसरेकक्षाकीछात्रछोटूकईमामलेमेंसमझदारीखूबदिखाती।पापाकीलाड़लीथी।एकदिनउसकेपितानेघरआतेहीकहा,नीराआजहम...
Fulbagiya...
Tag :निवेदिता मिश्रा झा।
  July 17, 2015, 12:44 am
                                                                                      हम पानी को खूब बहातेबूँद-बूँद भर लाते लोगजितना दिन भर खर्च करें वेउतना नहा बहाते हमहम पानी को खूब बहाते।हमको घर बैठे मिल जातापाइप के रस्ते से आतामीलों...
Fulbagiya...
Tag :पानी है कितना अनमोल
  July 1, 2015, 1:13 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163613)