POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: JHAROKHA

Blogger: Poonam Srivastav
  (आज 31 जुलाई को मेरे बाबू जी प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार आदरणीय प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी की पुण्य तिथि है।2016 की 31 जुलाई को ही 87 वर्ष की आयु में उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया था।इस बार कोरोना संकट को देखते हुए हम सभी  उनकी स्मृति में कोई साहित्यिक आयोजन भी नहीं कर स... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   2:06pm 31 Jul 2020 #पुण्य तिथि
Blogger: Poonam Srivastav
फोटो क्रेडिट:हेमंत कुमार यात्राएंये यात्राएं भीकितनी अजीब होती हैं।जैसे हम गुजरते हुएटेढ़े मेढे रास्तों सेनदी नालों पहाड़ों के सौन्दर्य को देखते सराहते,आश्चर्यचकित होते अपने पीछे छोड़ते हुएआगे बढ़ते जाते हैंअपनी अपनी मंजिल की ओर।ठीक वैसे हीहमारी जिन्दगी का सफ़र भी... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   3:04pm 15 Sep 2019 #पूनम श्रीवास्तव
Blogger: Poonam Srivastav
(कल 31जुलाई को मेरे स्व०पिताजी(श्वसुर जी)आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी की तीसरी पुण्य तिथि है।इस अवसर पर पाठकों के लिए प्रस्तुत है उनकी एक कहानी “बेटी”।यह कहानी पिता जी ने सन 2010 में लिखी थी।बेटियों को समाज में उचित स्थान दिलाने के एक प्रयास वाली यह कहानी आज भी उ... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   3:24pm 30 Jul 2019 #कहानी
Blogger: Poonam Srivastav
(हिन्दी के प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार हमारे पिताजी आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी की आज पुण्य तिथि है।आज 31 जुलाई 2016 को वो हम सभी को छोड़ कर परमपिता के चरणों में समाहित हो गए थे।आज वो भौतिक रूप से हमारे बीच उपस्थित नहीं हैं लेकिन उनकी रचनात्मकता तो हर समय हमारा म... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   3:38pm 31 Jul 2018 #मौत के चंगुल में
Blogger: Poonam Srivastav
(हिन्दी के प्रतिष्ठित बाल साहित्यकार हमारे पिताजी आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी का आज 89वां जन्म दिवस है।वो भौतिक रूप से हमारे बीच उपस्थित नहीं हैं लेकिन उनकी रचनात्मकता तो हर समय हमारा मार्ग दर्शन करेगी .उन्होंने बाल साहित्य के साथ ही प्रचुर मात्रा में बड़ों... Read more
Blogger: Poonam Srivastav
माँ तुझे प्रणामशत शत नमन कोटि प्रणाम माँ तुझे प्रणाम ।जब मैं  तेरी कोख में आई तूने स्पर्श से बताया था ममता का कोई मोल नहीं तूने ही सिखलाया था ।माँ तुझे प्रणाम ।थाम के मेरी उंगली तूने इस दुनिया से मिलवाया था सूरज चाँद और धरती तारे सबके गीत सुनाया था  माँ तुझे प्रणाम ।क... Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   6:30am 14 May 2017 #कविता
Blogger: Poonam Srivastav
टी-पाटकहानी-पूनम श्रीवास्तव                               छनाक की तेज आवाज हुयी और उज्ज्वला कुछ लिखते लिखते चौंक पड़ी।फिर बोली क्या हुआ?क्या टूटा ?अन्दर से डरी सहमी सी आवाज आई,“जी मेम साब वो-वो कहते-कहते वो चुप हो गयी।उज्ज्वला ने कहा—“रुक ... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   3:27pm 2 Feb 2017 #टी-पाट
Blogger: Poonam Srivastav
घनन घनन अब बरसो बदरवाधरती का हियरा तड़पत हैखेतिहर की अंखियां हरदमअंसुअन से अब भीगत हैं।राह निहारे पंख पसारेपाखी एकटक देखत हैंअब बरसोगे तब बरसोगेमन में आस लगावत हैं।बिन पानी सब सूना सूनाजीव सभी अब भटकत हैंदिखे पानी की एक बूंदसब पूरी जान लगावत हैं।बड़ी बेर भई बादल राजा... Read more
clicks 310 View   Vote 0 Like   4:07pm 30 Jun 2016 #कविता
Blogger: Poonam Srivastav
वो अनाथ हो गया था जब उसकी उम्र आठ साल की थी।सर पर से मां-बाप दोनों का साया उठ गया।बिखर गया था उसका बचपन और वो रह गया था अकेला इस पूरी दुनिया की भीड़ में।   वो था बहुत ही गरीब परिवार का।किसी ने भी आगे बढ़ कर उसका हाथ नहीं थामा।किसी ने उसके आंसू नहीं पोंछे।पर जब लोग उस मासूम ... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   4:20pm 23 Jun 2016 #पूनम श्रीवास्तव।
Blogger: Poonam Srivastav
पितृ दिवस पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। आज में आपको पढ़वा रही हूं प्रदीप सौरभ की एक बहुत भावनात्मक कविता।पिता हो गये मांपिता दहा्ड़तेमेरा विद्रोह कांप जातामां शेरनी की तरह गुत्थमगुत्था करतीबच्चों को बचातीदुलरातीपुचकारतीमां की मृत्यु के बादपिता मां हो गये।पिता ... Read more
clicks 280 View   Vote 0 Like   1:49pm 19 Jun 2016 #पिता हो गये मां
Blogger: Poonam Srivastav
जिसे तुम खोज रहे होवो मिला नहींअब तक शायदवक्त आगे निकल गयाऔर फ़िर तुम पीछे रह गयेतुम वक्त का इन्तजार कर रहे थे पर वक्त किसी का इन्तजार नहीं करतावो निरन्तर हर पलआगे ही आगे चलतारहता है।लाख वक्त को पकड़नेकी कोशिश कर लेंपर वो तो यूं फ़िसल जाता हैहथेली से ज्यूंबंद मुट्ठी से र... Read more
clicks 224 View   Vote 0 Like   7:04am 12 Jun 2016 #खोज
Blogger: Poonam Srivastav
जिन्दगी इक बोझ सी लगने लगती है जबजिन्दगी का रुख अपनीतरफ़ नहीं होताव्यर्थ और निरर्थकपर तभी अचानक से रुख पलट जाता हैखुशियों के कुछसंकेतों सेऔर फ़िरहम जिन्दगी सेप्रेम करने लगते हैं और चल पड़ती हैजिन्दगी खुशियों का निमन्त्रण पाकरआगे मंजिल की तरफ़एक अन्तहीन यात्रा परउल्ल... Read more
clicks 196 View   Vote 0 Like   4:09pm 29 May 2016 #गीत
Blogger: Poonam Srivastav
खिल रही कली कलीमहक रही गली गलीचमन भी है खिला खिलाफ़िजा भी है महक रही।दिल से दिल को जोड़ दोसुरीली तान छेड़ दोप्रेम से गले मिलोहर जुबां ये कह रही।कौन जाने कल कहांहम यहां और तुम वहांपल को इस समेट लोवक्त मिलेगा फ़िर कहां।मिलेगी सबको मंजिलेंनया बनेगा आशियांकदम कदम से मिल रहेक... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   5:03pm 25 May 2016 #गीत
Blogger: Poonam Srivastav
कलम चल रही जरा धीरे धीरेभाव बन रहे मगर धीरे धीरे।उम्मीदों की जिद कायम है अब भीशब्द बंध रहे हैं जरा धीरे धीरे।कसक उठ रही मन में जरा धीरे धीरेइक धुन बन रही है जरा धीरे धीरे।सबने मिलकर तरन्नुम जो छेड़ाकि गज़ल बन रही है जरा धीरे धीरे।जिन्दगी के साज बज रहे धीरे धीरेहुआ सफ़र का ... Read more
clicks 221 View   Vote 0 Like   6:16pm 16 May 2016 #गज़ल
Blogger: Poonam Srivastav
लाला जी की पगड़ी गोलपगड़ी के अंदर था खोलपगड़ी में से निकला देखोरूपया एक पचास पैसा।हंसने लगे सभी बच्चेबजा-बजा के तालीलाला जी की पगड़ीरहती खाली-खाली।लाला जी शरम सेहो गये पानी-पानीकंजूसी की उनकीखुल गई थी कहानी।0000000000पूनम श्रीवास्तव... Read more
clicks 230 View   Vote 0 Like   3:07pm 7 Sep 2015 #बालगीत
Blogger: Poonam Srivastav
दर्पण जो आज देखा वो मुंह चिढ़ा रहा थाचेहरे की झुर्रियों से बीती उम्र बता रहा था।कब कैसे कैसे वक्त सारा निकल गया थाकुछ याद कर रहा था मैं कुछ वो दिला रहा था।नटखट भोला भाला बचपन कितना अच्छा होता थाजब बाहों में मां के झूले झूला करता था।धमा चौकड़ी संग अल्हड़पन कब पीछे छूट गया थ... Read more
Blogger: Poonam Srivastav
पापा जी ऐसी कुर्ती ला दोजिसमें कलफ़ लगी कालर होझिलमिल झिलमिल तारों वालीलटकी उसमें झालर हो।पहन के कुर्ती को जबमैं निकलूंगा घर से बाहरदेख के मुझको लोग कहेंगेलगता प्यारा है राजकुवंर।बैठूंगा मै फ़िर घोड़ी परसाथ चलेंगे बाजे गाजेपरी लाऊंगा परी लोक सेकहलायेगी वो घर की रानी... Read more
clicks 234 View   Vote 0 Like   5:49pm 26 Aug 2015 #पूनम श्रीवास्तव।
Blogger: Poonam Srivastav
चल पड़े बाराती लेकरअपने बंदर मामाशेरवानी पहनी थी ऊपरनीचे था पाजामा।आगे आगे चले बारातीपीछे मामा जी की कारधूम धड़ाका बैण्ड बाजाबजता रहता बार बार।नाचते गाते चली बारातपहुंची बंदरिया के द्वारस्वागत हुआ सभी लोगों कापूरा हुआ उनका व्यवहार।जब आई जयमाल की बारीबंदरिया थी छो... Read more
Blogger: Poonam Srivastav
बात न पूछो आजादी के मस्तानों कीदीवानों की नादानों की परवानों की।जो बचपन में ही कूद पड़ेक्रान्ति की अलख जगाने मेंवो टूट पड़े थे फ़ूट पड़े थेआजाद हिन्द को करने कोजां की परवाह न की जिन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ीपल पल जीते रहे वोहरदम आजाद देश को करने को।फ़ूट पड़ी थी ज्वालाजब क्रान... Read more
clicks 225 View   Vote 0 Like   6:22pm 14 Aug 2015 #पन्द्रह अगस्त का दिन
Blogger: Poonam Srivastav
चंदा मामा दिन बहुत हुएबात न तुमसे होती हैआज और कल करते करतेमुलाकात न तुमसे होती है।मां भी रोज बुलाती तुमकोदूध और भात खिलाने कोलुका छिपी खेलो बदली संगपर नाम न लेते आने का।रूठे रूठे क्यों लगते मुझसेइतना तो बतला ही दोहो गई हो गर गलती कोईतो माफ़ी मुझको दे ही दो।हंस कर बोले ... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   3:28pm 9 Aug 2015 #पूनम श्रीवास्तव।
Blogger: Poonam Srivastav
    कानन वन में भालू और बिल्ली की दोस्ती मशहूर  थी।दोनों हमेशा साथ रहते।भालू थोड़ा गंभीर था पर बिल्ली थी नटखट और चुलबुली। साथ ही खेलते और साथ ही स्कूल भी जाते। कभी किसी जानवर ने उन्हें लड़ते हुए नहीं देखा था।     एक दिन भालू और बिल्ली स्कूल के सामने  वाले मैदा... Read more
Blogger: Poonam Srivastav
तुम धीरे-धीरे आनातुम चुपके –चुपकेतुमछइयां छइयां आनाना धूप लगे डर जाना ।तुम बन के चंचल हिरनीवन वन में कुलांचे भरनामत अंखिया तुम बंद करनाशिकारी बन कर रहना ।कुछ पांव तले गड़ जायेना फ़िकर कोई तुम करनातुम आगे- आगे चलनाना पीछे मुड़ते रहना।तुम अपना पँख फैलानाबन आजाद परिन्दाच... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   5:11pm 16 Jul 2015 #गीत
Blogger: Poonam Srivastav
                  फ़िलहाल कुछ महीने बीते हो गये इस घटना को।पर मेरे मानस पटल पर वो घटना आज भी अंकित है।जब जब वो वाकया याद आता है दिल में एक बेचैनी सी उठती है।                            जैसा कि नव रात्रि के दिनों में घर घर में देवी ... Read more
clicks 213 View   Vote 0 Like   6:12pm 2 Jul 2015 #लघुकथा
Blogger: Poonam Srivastav
तुम याद बहुत आती हो मांतुम याद बहुत आती हो मां---।बचपन में तुम थपकी दे करमुझको रोज सुलाती मांअब नींद नहीं आने परतेरी याद बहुत आती है मां।पग-पग पर तेरी उंगली थाम केचलना हमने सीखा था मांथक जाते थे जब चलते चलतेआंचल की छांव बिठाती थी मां।तन पर कोई घाव लगे जबझट मलहम बन जाती थी ... Read more
clicks 209 View   Vote 0 Like   5:46pm 10 May 2015 #पूनम श्रीवास्तव।
Blogger: Poonam Srivastav
(फ़ोटो-गूगल से साभार)अरे मजदूर, अरे मजदूरतुम्हीं से है दुनिया का नूरफ़िर क्यों तुम इतने मजबूर।अपने हाथों के गट्ठों सेरचते तुम हो सबका बसेरापर हाय तुम्हें सोने को तो बसमिला एक है खुला आसमांअरे मजदूर, अरे मजदूर।तुम हो क्यों इतने मजबू्र।बारिश,धूप कड़ी सर्दी मेंतन पर वही पु... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   8:37am 1 May 2015 #कविता
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3975) कुल पोस्ट (190927)