POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Bas Yun Hi Nahin

Blogger: Vibha Rani
तुम बडे हो कर क्या करोगे?शादी.मेरा मतलब, क्या बनोगे?दूल्हा.मैंने पूछा कि बडे होकर क्या हासिल करोगे?दुल्हनअरे, मेरा मतलब, बडे होकर मम्मी पापा के लिए क्या करोगे?बहू लाऊंगा.अरे बेवकूफ! तुम्हारे पापा तुमसे क्या चाहते हैं?पोताहे भगवान! तुम्हारी ज़िंदगी का क्या मकसद है?हम दो, ह... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   6:22am 28 Jan 2011 #विभा रानी
Blogger: Vibha Rani
पनवाँ जे खइल’ हो चकवा भैयापीतिया नेरइल एही ठाम!ओही पितिए खरलीच बहिनीठेवले रे धाम!ओही पार चकवा भैया खेले ले जुआ सारऐही पार खरलीच बहिनी, रोदना पसार।तोहरो रोदनवाँ गे बहिनी मोरो ना सोहाएबाबा के संपतिया गे बहिनी आधा देबौ बाँटबाबा के संपतिया हो भैया; लछमी तोहारहम दूर देसि... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   7:07am 19 Nov 2010 #विभा रानी
Blogger: Vibha Rani
सामा चकेबा का खेल मिथिला में चल रहा है. यह खेल भाई के सुख व कल्याण के लिए बहनें कार्तिक सुदी 5 से खेलना आरम्भ करती हैं, जो कार्तिक पूर्णिमा तक चलता है. इसका एक गीत और-डाला ले बाहर भइली, बहिनी से खरलीच बहिनी बहिनो से खरलीच बहिनीचकवा भैया लेल डाला छीन, सुन गे राम सजनीमचिया बइठ... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   5:41am 17 Nov 2010 #लोक पर्व
Blogger: Vibha Rani
सामा चकेबा का खेल मिथिला में चल रहा है. यह खेल भाई के सुख व कल्याण के लिए बहनें कार्तिक सुदी 5 से खेलना आरम्भ करती हैं, जो कार्तिक पूर्णिमा तक चलता है. इसकी कथा बहुत पहले इसी ब्लॉग पर दी थी. अब कुछ गीत दे रही हूं. कोशिश रहेगी कि कुछ अधिक गीत दे सकूं. माई गंगा रे जुमनवाँ के एहो च... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   12:11pm 16 Nov 2010 #लोक रंग
Blogger: Vibha Rani
आज छठ है. मन में कुछेक गीत घुमड रहे हैं. सुनिए-ऊजे केरवा जे फरे ले घउद से ओ पर सुगा मंडराएमारबऊ से सुगवा धनुष सेसुगा गिरे मुरुछाएसुगनी जे रोए ले बियोग सेआजु केहू ना सहायअइहें गे सुगनी छठी माईहोइहें उनहीं सहाय (केले अपने घौद में फले हुए हैं. तोता उस पर मंडरा रहा है. तोते को ... Read more
clicks 198 View   Vote 0 Like   9:30am 12 Nov 2010 #त्योहर
Blogger: Vibha Rani
एक राजा था. बस, कहने भर को. अकल धेले भर की भी नहीं. एक बार वह अपने मंत्री के साथ नदी किनारे टहल रहा था. वह नदी पूरब की ओर बह रही थी. राजा ने मंत्री से पूछा, “पूरब की तरफ कौन सा देश है?” मंत्री ने जवाब दिया – “पूरब की ओर राजा शूरसेन का देश है.”राजा शूरसेन का नाम सुनकर राजा क्रोध से ... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   8:50am 12 Aug 2010 #विभा रानी
Blogger: Vibha Rani
पंडित ईश्वरचंद्र विद्यासागर बंगाल के बहुत बडे विद्वान थे. सभी उनका आदर करते थे. वे बहुत ही सादा जीवन बिताते थे. एक बार शहर के एक रईस ने अपने यहां भोज का आयोजन किया. उस आयोजन में उसने शहर के सभी नामी लोगों को बुलाया. पंडित ईश्वरचंद्र विद्यासागर को भी आमंत्रित किया गया. वे ह... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   4:59am 6 Aug 2010 #नीति कथा
Blogger: Vibha Rani
Blogger Buzz: Blogger integrates with Amazon Associates... Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   7:40am 29 Jul 2010 #
Blogger: Vibha Rani
मोहन और गणेश दो भाई थे. बहुत गरीब, मगर बहुत उदार. हमेशा दूसरों के काम आनेवाले. उनके माता-पिता उन्हें जी जान से भी अधिक प्यार करते थे. दुर्भाग्य से एक दिन भूकम्प आया और उस भूकम्प में उनके माता-पिता घर की दीवार के नीचे दब गए. इन दोनों भाइयों ने उन्हें जी-जान से निकालने की कोशिश... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   4:22am 22 Jul 2010 #बाल कथा
Blogger: Vibha Rani
पेंसिल बनानेवाले ने पेंसिल से कहा- "तुम्हारा जीवन एक नई दिशा की ओर जानेवाला है. इसलिए 5 बातें याद रखना- 1  जीवन में तुम कुछ भी महान कर सकते हो. अर्थात कोई भी महान रचना तुम्हारे द्वारा लिखी जा सकती है. इसलिए अपनी सामर्थ्य पहचानो. 2  कठिन धारदार रास्तों से तुम्हें गुजरना हो... Read more
clicks 206 View   Vote 0 Like   1:48am 20 Feb 2010 #पेंसिल और आदमी
Blogger: Vibha Rani
एक आदमी जीवन से बहुत निराश था. उसे सभी सुख की चाहना थी. दुख की वह कल्पना भी नहीं कर पाता था. ज़ाहिर है, दुनिया में सभी को सभी सुख नहीं मिल पाते हैं. मगर आदमी इसे समझने से इंकार करता था. एक दिन अपनी निराशा में वह नदी किनारे बैठा था और अनमने भाव से अपने आस-पास की कंकडी, पत्थर आदि क... Read more
clicks 181 View   Vote 0 Like   1:40am 19 Feb 2010 #नीति कथा
Blogger: Vibha Rani
एक बच्चा था, बेहद गुस्सैल. गुस्से में वह कुछ भी कर डलता. एक दिन उसके पिता ने उससे कहा कि इतना गुस्सा उसी के लिए हानिकारक है. बच्चे ने कहा कि गुस्सा कम करने के लिए वह कया करे? पिता ने उसे ढेर सारी कीलें दीं और कहा कि जब जब तुम्हें गुस्सा आये, तुम ये कील किसी पेड पर ठोक आना. बच्चा ... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   1:46am 18 Feb 2010 #नीति कथा
Blogger: Vibha Rani
एक बार शैतान एक आदमी के पास पहुंचा और उससे बोला- "तुम नशा कर लो."आदमी ने मना कर दिया कि वह नशा नहीं करता. शैतान ने कहा कि "अगर तुम यह नहीं कर सकते तो अपनी बीबी की पिटाई कर डालो."आदमी ने गुस्से से कहा कि "वह यह कैसे कर सकता है? वह क्यों बिना वज़ह अपनी बीबी को मारे?" शैतान ने कहा कि "... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   3:55pm 17 Feb 2010 #नीति कथा
Blogger: Vibha Rani
एक नवयुवक राजा को उसके पडोसी देश के राजा ने बंदी बना लिया था. राजा ने उसके खिलाफ मुकदमा चलाया और नवयुवक राजा को मृत्युदंड की सज़ा सुना दी. मगर नवयुवक राजा की उम्र देख कर पडोसी देश के राजा को भी दया आ गई. उसने नवयुवक राजा से कहा- "हम तुम्हें एक शर्त पर जीवन दान दे सकते हैं, अगर ... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   11:17am 28 May 2009 #विभा रानी
Blogger: Vibha Rani
एक बार एक आदमी एक डाक्टर के पास गया और बोला की उसकी बीबी ऊंचा सुनाती है। इससे उसे बहुत परेशानी होती है। डाक्टर ने उसे सलाह दी की वह उसके बहरेपन के लेवल का पहले पता करे। फ़िर वह उसके पास आए। आदमी ने पूछा की यह लेवल वह कैसे पता कर सकता है? डाक्टर ने उसे बहुत आसान सा तरीका सुझाय... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   4:38am 19 May 2009 #बहरापन
Blogger: Vibha Rani
एक बार एक जहाज काम इंजन बंद पड़ गया. सभी तरह के कामगार आये और सभी ने अपनी तरफ से हर तरह कि कोशिश कर ली, मगर इंजन स्टार्ट नहीं हुआ. अंत में किसी ने कहा कि इस नगर के अंतिम छोर पर एक बूढा रहता है. वह जहाज का विशेषग्य है. उससे दिखाया जाये. संभव है, वह इंजन ठीक कर सकता है.उस बूढे को बुला... Read more
clicks 163 View   Vote 0 Like   7:35am 14 May 2009 #बूढा
Blogger: Vibha Rani
एक अस्पताल में दो मरीज़ भर्ती हुए. एक का बिस्तर खिड़की के पास था. उसे दिन भर में एक बार एक घंटे के लिए बिस्तर पर बैठने की इजाज़त थी. दूसरा मरीज़ सारे समय लेटा रहता था. दोनों मरीजों में बात चीत शुरू हुई और दोनों में दोस्ती हो गई. खिड़की के पास वाला मरीज़ जब बैठता तब वह खिड़की की त... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   6:48am 11 May 2009 #मन की आँखें
Blogger: Vibha Rani
एक आश्रम में बच्चे विद्या अर्जन किया करते थे। विद्या अर्जन के साथ-साथ उन्हें आश्रम के भी अन्य सारे काम करने होते थे। काम करने के बाद वे सभी छात्र जंगल जाते और वहाँ से सूखे पत्ते चुन कर लाते। रात में वे सब उन सूखे पत्तों को एक-एक कर जलाते और उनके प्रकाश में अपना पाठ याद करत... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   4:03am 7 May 2009 #मेहनत
Blogger: Vibha Rani
एक बार एक आदमी किसी गाँव से गुजर रहा था। उसने देखा की एक जगह मिट्टी के कुछ नए बर्तन रखे हुए हैं। उन बर्तनों के पास ही एक खाट बिछी हुई है और उस खाट पर एक आदमी मुंह पर गमछा रखे सो रहा है। बर्तन बेहद ख़ूबसूरत थे।आदमी ने खाट पर सोये हुए आदमी को जगाते हुए पूछा की क्या ये बर्तन उसके... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   3:56am 5 May 2009 #लालसा
Blogger: Vibha Rani
एक आदमी खूब मेहनती था, मगर उसके पास का नही था। काफी मेहनत के बाद उसे एक काम मिला लकडियाँ काटने का। काम मिलाने से वह बेहद खुश था। अपना आभार उसने मालिक को इस रूप में दिया की उसने प्राण किया की वह खूब मेहनत करेगा और अपने काम के प्रति पूरी तरह से इमानदार रहेगा।पहले दिन वह लकडी ... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   4:30am 28 Apr 2009 #कुल्हाडी
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (193910)