POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: लम्हों का सफ़र

Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
भोली-भाली *******  मेरी बातें भोली-भाली  जीभर कर हैं हँसने वाली  बात तुम्हारी जीवन वाली  इक जीवन में ढ़लने वाली  दुख की बातें न करना जो  घुट-घुट कर हैं मरने वाली  रद्दी सद्दी बातें हुईं जो  समझो वो है भूलने वाली  बात चली जो भी थक-थक के  ये समझो ... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   7:22pm 14 Feb 2020 #
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
साथी  *******  मेरी हँसी खो गई साथी  मेरी यादें रूठ गई साथी  दिन महीने और साल बीते  न जाने कब और कैसे बीते  हम संग-संग कैसे रहते थे  हम पल-पल कैसे हँसते थे  बीती बातें हमें रूलाती हैं  रूठी यादें तुम्हें बुलाती हैं,  फिर से हम हँसना सीखें  या... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   6:11pm 8 Feb 2020 #
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
ऑक्सीजन *******  मेरे पुरसुकून जीवन के वास्ते  तुम्हारा सुझाव -  जीवन जीने के लिए प्रेम  प्रेम करने के लिए साँसें  साँसें भरने के लिए ऑक्सीजन  ऑक्सीजन है प्रेम  और वह प्रेम मैं तलाशूँ,  अब बताओ भला, कहाँ से ढूँढूँ?  ऐसा समीकरण कहाँ से जुटाऊँ? &... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   6:21pm 2 Feb 2020 #ज़िंदगी
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
बेफिक्र धूप (ठंड पर 10 हाइकु)   *******   1.   ठठ्ठा करता   लुका-चोरी खेलता   मुआ सूरज।   2.   बेफिक्र धूप   इठलाती निकली   मुँह चिढ़ाती।   3.   बिफरा सूर्य   मनाने चली हवा   भूल के गुस्सा।   4.   गर्म अँगीठी   घुसपैठिया हवा,   रार है ठन... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   6:48am 27 Jan 2020 #
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
एक शाम ऐसी भी  *******   एक शाम ऐसी भी, एक मुलाकात ऐसी भी   बहुत-बहुत खास जैसी भी   जीवन का एक रंग यह भी, जीवन का एक पड़ाव यह भी   एक सुख ऐसा भी और एक भाव यह भी,   खाली सड़क पर दो मन, एक हाथ की दूरी पर दोनो मन   और ये दूरी भी मिटाने का जतन   आत्मीयता में डूबे मन, बतक... Read more
clicks 37 View   Vote 0 Like   6:18pm 23 Jan 2020 #
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
प्यार करते रहे  *******   तुम न समझे फिर भी हम कहते रहे   प्यार था हम प्यार ही करते रहे !   छाँव की बातें कहीं, और चल दिए   जिंदगी की धूप में जलते रहे !   तुम न आए जब, जहां हँसता रहा   जिंदगी रूठी औ हम ठिठके रहे !   चैन दमभर को न आया था कभी   और तुम कहते हो, हम हँस... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   9:47am 13 Jan 2020 #ग़ज़ल
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
जो देखा जो सुना   *******   जो देखा जो सुना   जो जिया जो गुना   वह लिखा वह सब लिखा   जो मन ने कहा   जो मन में पला   वह लिखा बस वही लिखा   कब कौन सी विधा हुई   किस तराजू पे परखी गई   किस नियम में सजी लेखनी   वो त्रिभुज हुई या वृत्ताकार बनी   समीप रही ... Read more
clicks 34 View   Vote 0 Like   4:11pm 1 Jan 2020 #ज़िंदगी
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
कुछ सवाल  *******   1.   कुछ सवाल ठहर जाते हैं मन में  माकूल जवाब मालूम है  मगर कहने की हिमाकत नहीं होती  कुछ सवालों को  सवाल ही रहने देना उचित है  जवाब आँधियाँ बन सकती हैं।  2.  खुद से एक सवाल है -  कौन हूँ मैं?  क्या एक नाम?  या कुछ और भी?  3.  सवालों का सिलसिला&... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   6:25pm 2 Dec 2019 #चिन्तन
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
धरोहर   *******   मेरी धरोहरों में कई ऐसी चीज़ें हैं   जो मुझे बयान करती हैं   मेरी पहचान करती हैं   कुछ पुस्तकें जिनमें लेखकों के हस्ताक्षर   और मेरे लिए कुछ संदेश है   कुछ यादगार कपड़े जिसे मैंने   किसी ख़ास वक़्त पर लिए या पहने हैं   कुछ छोटी-छोटी... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   12:34pm 16 Nov 2019 #ज़िन्दगी
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
महज़ नाम  *******   कभी लगता था कि किसी के आँचल में   हर वेदना मिट जाती है   मगर भाव बदल जाते हैं   जब संवेदना मिट जाती है   न किसी प्यार का ना अधिकार का नाम है   माँ संबंध नहीं   महज पुकार का एक नाम है   तासीर खो चुका है   बेकार का नाम है   माँ संबंध नह... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   2:23pm 7 Nov 2019 #रिश्ता
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
रेगिस्तान  *******   आँखें अब रेगिस्तान बन गई हैं   यहाँ अब न सपने उगते हैं न बारिश होती है   धूलभरी आँधियाँ चल रही हैं   रेत पे गढ़े वे सारे हर्फ मिट गए हैं   जिन्हें सदियों पहले   किसी ऋषि ने लिख दिया था कि   कभी कोई दुष्यंत सब विस्मृत कर दे तो   शंकुत... Read more
clicks 25 View   Vote 0 Like   11:25am 6 Nov 2019 #
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
रेगिस्तान  *******   आँखें अब रेगिस्तान बन गई हैं  यहाँ अब न सपने उगते हैं न बारिश होती है  धूलभरी आँधियाँ चल रही हैं  रेत पे गढ़े वे सारे हर्फ मिट गए हैं  जिन्हें सदियों पहले  किसी ऋषि ने लिख दिया था कि  कभी कोई दुष्यंत सब विस्मृत कर दे तो  शंकुतला यहाँ आकर सारा ... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   11:25am 6 Nov 2019 #
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
दिवाली (दिवाली पर 7 हाइकु)   *******   1.   सुख समृद्धि   हर घर पहुँचे   दीये कहते।   2.   मन से देता   सकारात्मक ऊर्जा   माटी का दीया।   3.   दीयों की जोत   दसों दिशा उर्जित   मन हर्षित।   4.   अमा की रात   जगमगाते दीप   ज्यों हो पूर्ण... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   5:36pm 27 Oct 2019 #हाइकु
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
दिवाली (दिवाली पर 7 हाइकु)   *******   1.   सुख समृद्धि   हर घर पहुँचे   दीये कहते।   2.   मन से देता   सकारात्मक ऊर्जा   माटी का दीया।   3.   दीयों की जोत   दसों दिशा उर्जित   मन हर्षित।   4.   अमा की रात   जगमगाते दीप   ज्यों हो पूर्ण... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   5:36pm 27 Oct 2019 #हाइकु
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
दंगा...   *******   किसी ने कहा ये हिन्दु मरा   कोई कहे ये मुसलमान था   अपने-अपने दड़बे में कैद   बँटा सारा हिन्दुस्तान था !   थरथराते जिस्मों के टुकड़े  मगर जिह्वा पे रहीम-ओ-राम था   कोई लाल लहू कोई हरा लहू   रंगा सारा हिन्दुस्तान था !   घूँघट और बुर्... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   1:45pm 24 Oct 2019 #भगलपुर दंगा
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
दंगा...   *******   किसी ने कहा ये हिन्दु मरा   कोई कहे ये मुसलमान था   अपने अपने दड़बे में कैद   बँटा सारा हिन्दुस्तान था !   थरथराते जिस्मों के टुकड़े   मगर जिह्वा पे रहीम-ओ-राम था   कोई लाल लहू कोई हरा लहू   रंगा सारा हिन्दुस्तान था !   घूँघट और बु... Read more
clicks 57 View   Vote 0 Like   1:45pm 24 Oct 2019 #भगलपुर दंगा
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
चाँद (चाँद पर 10 हाइकु)   *******   1.   बिछ जो गई   रोशनी की चादर   चाँद है खुश।   2.   सबका प्यारा   कई रिश्तों में दिखा   दुलारा चाँद।   3.   सह न सका   सूरज की तपिश   चाँद जा छुपा।   4.   धुँधला दिखा   प्रदूषण से हारा   पूर्णिमा चाँद। ... Read more
clicks 37 View   Vote 0 Like   4:22pm 18 Oct 2019 #हाइकु
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
चाँद (चाँद पर 10 हाइकु)   *******   1.   बिछ जो गई   रोशनी की चादर   चाँद है खुश।   2.   सबका प्यारा   कई रिश्तों में दिखा   दुलारा चाँद।   3.   सह न सका   सूरज की तपिश   चाँद जा छुपा।   4.   धुँधला दिखा   प्रदूषण से हारा   पूर्णिमा चाँद। ... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   4:22pm 18 Oct 2019 #हाइकु
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
रिश्ते(रिश्ते पर 10 हाइकु)  *******  1.   कौन समझे   मन की संवेदना   रिश्ते जो टूटे।   2.   नहीं अपना   कौन किससे कहे   मन की व्यथा।   3.   दीमक लगी   अंदर से खोखले   सारे ही रिश्ते।   4.   कोई न सुने   कारूणिक पुकार   रिश्ते मृतक।   5.   ... Read more
clicks 20 View   Vote 0 Like   5:32pm 14 Oct 2019 #हाइकु
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
रिश्ते(10 हाइकु)  *******   1.   कौन समझे   मन की संवेदना   रिश्ते जो टूटे।   2.   नहीं अपना   कौन किससे कहे   मन की व्यथा।   3.   दीमक लगी   अंदर से खोखले   सारे ही रिश्ते।   4.   कोई न सुने   कारूणिक पुकार   रिश्ते मृतक।   5.   मन है ट... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   5:32pm 14 Oct 2019 #हाइकु
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
जीवन की गंध   ******* यहाँ भी कोई नहीं  वहाँ भी कोई नहीं   नितान्त अकेले तय करना है   तमाम राहों को पार करना है,   पाप और पुण्य, सुख और दुख   मन की अवस्था, तन की व्यवस्था   समझना ही होगा   सँभलना ही होगा   यह जीवन और जीवन की गंध।   - जेन्नी शबनम (10. 10. 2019)  &... Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   2:55pm 10 Oct 2019 #चिन्तन
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
जीवन की गंध   *******  यहाँ भी कोई नहीं   वहाँ भी कोई नहीं  नितान्त अकेले तय करना है  तमाम राहों को पार करना है,  पाप और पुण्य, सुख और दुख  मन की अवस्था, तन की व्यवस्था  समझना ही होगा  सँभालना ही होगा   यह जीवन और जीवन की गंध।  - जेन्नी शबनम (10. 10. 2019)   ___________________________... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   2:55pm 10 Oct 2019 #चिन्तन
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
जादुई नगरी   *******   तुम प्रेम नगर के राजा हो   मैं परी देश की हूँ रानी   पँखों पर तुम्हें बिठा कर मैं   ले जाऊँ सपनो की नगरी।   मन चाहे तोड़ो जितना   फूलों की है मीलों क्यारी   कभी शेष नहीं होती है   फूलों की यह फूलवारी।   झुलाएँ तुम्हे अपना झूला&... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   7:41pm 8 Oct 2019 #
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
जादुई नगरी   *******   तुम प्रेम नगर के राजा हो   मैं परी देश की हूँ रानी   पँखों पर तुम्हें बिठा कर मैं   ले जाऊँ सपनो की नगरी।   मन चाहे तोड़ो जितना   फूलों की है मीलों क्यारी   कभी शेष नहीं होती है   फूलों की यह फूलवारी।   झुलाएँ तुम्हे अपना झूला&... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   7:41pm 8 Oct 2019 #
Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम
साँझ (साँझ पर 10 हाइकु)   *******   1.   साँझ पसरी   ''लौट आ मेरे चिड़े !''   अम्मा कहती।   2.   साँझ की वेला   अपनों का संगम   रौशन नीड़।   3.   क्षितिज पर   सूरज आँखें मींचे   साँझ निहारे।   4.   साँझ उतरी   बेदम होके दौड़ी   रात के पास।  &nbs... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   5:27pm 30 Sep 2019 #हाइकु
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (194974)