Hamarivani.com

तरकश ! Turkash !

ग्राहक  -  भाई साहब ये मूर्ति कितने की है?दुकानदार -  तीस रुपये की।ग्राहक  -  दो मूर्ति पचास की दोगे ?दुकानदार -  नहीं, इतना फायदा नहीं होता है। हाँ, अगर तीन मूर्ति खरीदोगे तो अस्सी का दे सकता हूँ।ग्राहक  -  तीन मूर्ति अस्सी का दोगे ? यानी ज्यादा लेने पर दाम थोडा कम कर करोगे।द...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  February 24, 2013, 3:38 pm
कोंग्रेस का चिंतन शिविर जयपुर में चल रहा है। सभी चिंतित हैं। किसी को दो हजार चौदह के चुनाव की चिंता है तो किसी को राहुल गाँधी के अगले प्रधान मंत्री के तौर पर देखने की।  कोई माध्यम वर्ग के उपजे गुस्स्से से चिंतित है।  कोई भ्रष्टाचार की ग्रोथ रेट से। महिलाओं की सुरक्षा से...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  January 19, 2013, 1:23 pm
कांच के ग्लास से दिखती लाल या कत्थई तरल पदार्थ,आँखों को बहुत हीं सुकून पहुंचती है।ग्लास से निकलती भाप को,नाको के पास ले जाकर,उसकी खुशबु को सूंघना।बहुत हीं समानता है, उसकी खुश्बू औरचायपत्ती के चबाने के स्वाद में।फिर सुर्र्र्र्र्र से चुस्की, उसकी।और तृप्ति भरी 'आssssह' का ...
तरकश ! Turkash !...
Tag :स्वाद
  January 5, 2013, 9:50 pm
ये खुशियों के गीत मुझसे नही लिखे जाते....मैं तो ज़र्द पत्तों से ओस चुनता हूँ....सुना है कल कहीं अलाव जला था.....तभी आज सब सज-सवर के रंगे हैं....ये न जाने कैसा राक्षाश है,मरता हीं नहीं है,हर बार की तरह फिर नया साल आया है,तुम खुशिया मनाओ,मेरा एक ओस उस राख़ में अब भी जल रहा है,......
तरकश ! Turkash !...
Tag :
  December 19, 2012, 9:01 pm
भारतीय राजनीति को समझना बहुत हि टेढ़ी खीर है।'आप' के नेता अरविंद केजरीवाल ने नरेंद्र मोदी पर कुछ कंपनियों को फायदा पहुंचाने का खुलासा किया है। उनने कहा- मोदी ने कांग्रेस की एक सांसद के पति की कंपनी को भी दस हजार करोड़ रुपये मूल्य वाला गैस का कुआं मुफ्त में दिया है। केज...
तरकश ! Turkash !...
Tag :नरेंद्र मोदी. turkash
  December 5, 2012, 2:18 pm
एक बार घूमते-घूमते कालिदास बाजार गये वहाँ एक महिला बैठी मिली उसके पास एक मटका था और कुछ प्यालियाँ पड़ी थी। कालिदास जी ने उस महिला से पूछा : क्या बेच रही हो ?महिला से पूछा : क्या बेच रही हो ?महिला ने जवाब दिया : महाराज ! मैं पाप बेचती हूँ. कालिदास ने आश्चर्यचकित होकर पूछा : पाप ...
तरकश ! Turkash !...
Tag :manoranjan
  December 5, 2012, 9:39 am
कुछ दर्द हैं सीने में जिसे छुपा नहीं सकते,कुछ दर्द है की उनको अक्षरशः बता नहीं सकते।ना ये मोहब्बत का गम है, ना ये जुदाई का गम है,ना ये किसी की रुसवाई का गम।दिल ज़रा उदास है,कई कारण होते हैं उदासी के,बस सम्हल रहे हैं खुद हीं,एक हीं कारण बहुत है बर्बादी के ....
तरकश ! Turkash !...
Tag :manoranjan
  December 2, 2012, 4:22 pm
उस शाम तन्हा बैठा था,तो शाम ने पूछा,किसकी याद में बैठे हो,मैने कहा,किसी की याद अगर होती साथ,तो तन्हा क्यूं होता मै?- ये मेरे उन दोस्तों के लिए, जिन्हे मेरा नया नया साहित्य प्रेम, किसी के प्रेम का असर लगता है।...
तरकश ! Turkash !...
Tag :
  November 22, 2012, 9:16 pm
मै इन दिनों एक उपन्यास लिख रहा हुं। उपन्यास अंग्रेजी में है, पर उस भाषा का इस्तेमाल करने का उद्देश्य पूर्णतया व्यापारिक है। मेरी इंग्लिश उतनी अच्छी नहीं की मै अपने मौजूदा शब्दकोश में वो बात कह सकूं जो कहना चाहता हूं - और किसी प्रकाशक के पास जाने लायक तो बिल्कुल भी नहीं।...
तरकश ! Turkash !...
Tag :
  November 22, 2012, 12:06 pm
चंचल बाबा के नुस्खे -1में आपने चंचल बाबा के नुस्खे पढ़े। यहाँ कुछ और नुस्खे हैं, जिनको लोगो ने प्रयोग किया था।  सेठ जी के बैठते हिं चंचल बाबा के चेले ने हांक लगे। - तो इसी बात पर बोलो चंचल बाबा की जय।बाबा ने उसे शांत कराया और और बोले - अब कोई दूसरा भक्त अपनी कथा सुनाये।एक दूस...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  November 21, 2012, 5:31 pm
कसाब को मिली फांसी की सजा पर दिल मे तो आया की फेसबुक पर एक लंबा अपडेट दूं, सोचा की बड़ी बड़ी गालियां दूं, उसके नर्क में जाने की खुदा से मिन्नतें करूं, सीना चौड़ा करके कहूं की देखो दुश्मनों, हम भी तुम्हे मारने का दम रखते हैं… और भी बहुत सी बातें, पर आपको तो पता ही है ना, आजकल सो...
तरकश ! Turkash !...
Tag :
  November 21, 2012, 10:39 am
मै तन्हा हूं,किसी के संग की जरूरत है मुझे,तुम आ जाते तो कितना अच्छा होता।रास्ते बहुत हैं मेरे पास,चलने के लिए, बढ़ने के लिए,तुम बस एक राह दिखा जाते तो कितना अच्छा होता।थका नहीं हूं मै, जरा सा भी,अभी तो बहुत दूर तक जा सकता हूं,तुम साथ कुछ पल ठहर जाते तो कितना अच्छा होता।गीत क...
तरकश ! Turkash !...
Tag :
  November 20, 2012, 12:03 pm
दिवाली पर एक फिल्म रिलीज हुई है.सन ऑफ़ सरदार.सोंच रहा हूँ देखने के लिए.मेरे ऑफिस में एक सरदार जी हैं.उन्होंने वादा किया है की कल वो ऑफिस में अपने बेटे को लेकर जरुर आयेंगे ...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  November 14, 2012, 4:31 pm
भूख लग गयी हैंअतंडिया कुलकुला रहीं हैं,पास वाली चिकन मोमोज की दुकान हमको बुला रहीं हैं.मारा है महंगाई ने,जेबों पे ऐसे डाकाहम गरीब तीन शाम से, हर शाम को,  बिन पिज्जा कर रहे हैं फांका.चाहिए एक पथ प्रदर्शकजो खुदा से हमे मिला दे,देंगे दुआएं,  उसे मुफ्त की अपनी,जो हमे मोमोज ...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  November 10, 2012, 6:14 pm
आज ब्राम स्टोकर और लाल कृष्ण आडवानी, दोनों का जन्म दिवस है.एक ने ड्रैकुला बनायीं थी, दुसरे ने भारतीय जनता  पार्टी !दोनों को जन्म दिवस की बधाई !...
तरकश ! Turkash !...
Tag :turkash.blogspot.in
  November 8, 2012, 1:26 pm
अबे ओबामा जीता है, ओबामा, तुम्हारा मामा नहीं। तुम काहे इतना खुसी मना रहे हो?- भारतीय मिडिया को, शुभकामनाओं के साथ।...
तरकश ! Turkash !...
Tag :
  November 7, 2012, 11:39 pm
                                                      भोकाल (एक रूम है,खिड़की खुली हुई है,सुबह होने वाली है,स्ट्रीट लईट जल रही है,रूम में ढेर सारी किताब बिखरी हुई है,कपडा इधर-उधर फेंका हुआ है, सिगरेट का बड ज़मीन पे फेका हुआ है,२-४ कप रखी हुई है और घड़ी में ४ बज रहा है|)[एक आदमी पूरी नींद में सो रहा ...
तरकश ! Turkash !...
Tag :
  October 29, 2012, 3:56 pm
चंचल बाबा शहर में आये थे. उनके आगमन से शहर का वातावरण काफी बाबामय हो गया था. शाम में चंचल बाबा अपना प्रवचन शुरू करने वाले थे. चंचल दरबार में काफी लोग जमा हो चुके थे. नियत समय पर बाबा का प्रवचन शुरू हुआ. बाबा देश में बदती हुई गरीबी, भुखमरी, अशिक्षा से बहुत परेशान और व्यथित थे. ...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  October 27, 2012, 4:03 pm
ए मुर्गी ए मुर्गी !क्या तेरे पास है अंडा?जी जजमान! जी जजमान! मेरे पास है तीन अंडाएक अंडा एससी / एसटी के लिए दूसरा ओबीसी के लिएतीसरे से होगा मेरा लाल पैदा...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  October 22, 2012, 3:12 pm
मैंने गुस्से में कहा - अलबत्त टाइप की बकलोल हो यार...वो बोली - हु इज दिस अल्बर्ट? हुंह! बिहारी होके अंग्रेजी मेम पटाने का येही सब दुष्परिणाम है वो ठठा के हँस पड़ी - हा हा हा हाहमने कहा - हंसो मत नहीं तो फंसा लूँगा.बोली - फंसा के दिखाओ..हमने कहा - उर्रर्र आव आव आव उर्रर्र वो तो न...
तरकश ! Turkash !...
Tag :hasya
  October 16, 2012, 8:37 pm
शाम हो आई थी,काम की व्यस्तता से फुरसत पा करजब थोडा अव्यस्त हुआ तो भूख लग आई.सोंचा कुछ माँगा लेता हूँ!क्या मंगाऊं? कितने का मंगाऊं?सारी जेबें टटोल डाली,एक चवन्नी भी नहीं मिली,निराश हो के धम्म से बैठ गया कुर्सी परकी भूख को बर्दाश्त करना होगा,ना याद आये भूख की ,खुद को दुबारा ...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  September 27, 2012, 6:40 pm
सावन की रात में पानी बरसता है, प्रियतम को मिलाने को मन तरसता है,जोर जोर से बिजली कड़कती है, मेरी बायीं आँख भी फड़कती है,दूर कहीं कुत्ता भौंकता है - भौंऊ भौं भौं भौं भौंऊमोहल्ले वाले घर से निकल के चिल्लाते हैं, चोर चोर चोर पकड़ो पकड़ो पकड़ो...
तरकश ! Turkash !...
Tag :hasya
  September 15, 2012, 10:58 am
पंद्रह अगस्त का दिन बहुत ऐतिहासिक है। आज के दिन हीं देश आज़ाद हुआ था और आज के दिन हीं हम अपने प्रधान मंत्री जी को बोलते हुए देख पाते हैं, भाषण देते हुए। आज सारे देश में हर्ष और उल्लास है, लेकिन मनमोहन सिंह जी काफी व्यथित थे। उनकी व्यथा का का मुख्य करना था, लोगो के द्वारा उ...
तरकश ! Turkash !...
Tag :व्यंग
  August 15, 2012, 1:05 pm
एक चुटकुला है.एक बस में एक आदमी अपने परिवार के साथ सफ़र कर रहा था. एक वीबी, एक किशोर उम्र का लड़का, छोटा भाई, साले साब, यानि संयुक्त परिवार.आदमी की किसी बात पे कंडक्टर से लड़ाई हो गयी और कंडक्टर ने आदमी जी को एक लाफा लगा दिया. सारे फॅमिली वाले के सामने लाफा खा के आदमी जी को बहु...
तरकश ! Turkash !...
Tag :anna hazare
  August 10, 2012, 7:58 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169585)