Hamarivani.com

किस्सा-कहानी

“कहां जा रही मुनिया?”“सहेली के यहां”“अकेली?, भैया को लेती जाओ. न हो तो कल चली जाना. अभी इतना अंधेरा हो गया, लौटते-लौटते तो रात हो जायेगी.”इतनी शाम गये, मुनिया को तैयार हो, अकेले घर से निकलते देख बाबूजी टोक बैठे.मुनिया कोई जवाब दिये बिना पलटी, और पांव पटकते हुए अन्दर चली गयी. ...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी तुलसी
  February 5, 2017, 6:57 pm
लगातार बजती फोन की घंटी से झुंझला गयी थीं आभा जी. अभी पूजा करने बैठी ही थीं, कि फोन बजने लगा. एक बार टाल गयीं, दो बार टाल गयीं लेकिन तीसरी बार उठना ही पड़ा. अब उठने –बैठने में दिक़्क़त भी तो होती है न!! एक बार बैठ जायें, तो काम पूरा करके ही उठने का मन बनाती हैं आभा जी.  बार-बार उठक-...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  November 26, 2016, 6:54 pm
" How will you calculate the atomic mass of chlorine? ""-------------------------------------------------------"" नहीं  जानते ? "---------------------------------------------" A bus starting from rest moves with a uniform acceleration of 0.1ms-2 for 2 minutes , find the speed acquired , and the distance travelled..""-------------------------------------------------"" जल्दी सॉल्व करो इसे."................................................" अरे! क्या हुआ? नहीं बनता? ""..............................................."" हद है! न कैमिस्ट्री न फिजिक्स ! क...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  May 29, 2013, 8:37 pm
इक बार कहो तुम मेरी हो........-----------------------------------हम घूम चुके बस्ती-वन मेंइक आस का फाँस लिए मन मेंकोई साजन हो, कोई प्यारा होकोई दीपक हो, कोई तारा होजब जीवन-रात अंधेरी होइक बार कहो तुम मेरी होजब सावन-बादल छाए होंजब फागुन फूल खिलाए होंजब चंदा रूप लुटाता होजब सूरज धूप नहाता होया शाम ने ...
किस्सा-कहानी...
Tag :
  March 2, 2013, 5:27 pm
कोई मुम्बई जाये और हाज़ी अली की दरगाह पर ना जाये ऐसा हो सकता है क्या? हम भी पूरे भक्ति भाव से दरगाह पर गये।समंदर के बीच स्थित यह दरगाह सिद्ध दरगाहों में से एक मानी जाती है। समुन्दर के पानी को काट कर बनाया गया यह पवित्र स्थल लोगों ने इतना अपवित्र कर रखा है, कि दरगाह के प्रवे...
किस्सा-कहानी...
Tag :
  July 2, 2012, 6:17 pm
सुप्रसिद्ध शायर/शिक्षाविद शहरयार साहब अब हमारे बीच नहीं हैं. लम्बी बीमारी के बाद कल रात उनका निधन हो गया. वे ७६ वर्ष के थे. यह रचना श्रद्धान्जलि-स्वरूप.शहरयार : एक परिचय16 जून 1936-13 फरवरी, 2012वास्तविक नाम : डॉ. अखलाक मोहम्मद खानउपनाम : शहरयारजन्म स्थान : आंवला, बरेली, उत्तरप्रद...
किस्सा-कहानी...
Tag :ग़ज़ल
  February 14, 2012, 5:32 pm
मध्ययुगीन साधकों में संत रैदास का विशिष्ट स्थान है। निम्नवर्ग में समुत्पन्न होकर भी उत्तम जीवन शैली, उत्कृष्ट साधना-पद्धति और उल्लेखनीय आचरण के कारण वे आज भी भारतीय धर्म-साधना के इतिहास में आदर के साथ याद किए जाते हैं।संत रैदास भी कबीर-परंपरा के संत हैं। संत रैदास या ...
किस्सा-कहानी...
Tag :
  February 7, 2012, 9:51 am
(अपने दूसरे ब्लॉग " अपनी बात..." पर मैने श्री हरिशंकर परसाई जी से जुड़ा अपना संस्मरण पोस्ट किया तो उसमें वसुधा में प्रकाशित कहानी का भी ज़िक्र आया. मेरे कई मित्रों ने उस कहानी को पोस्ट करने का आग्रह किया. तो लीजिये, आप सबकी फ़रमाइश पर ..... १९८७ में लिखी और वसुधा में परसाई जी द...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  November 7, 2011, 11:57 am
...
किस्सा-कहानी...
Tag :
  October 11, 2011, 12:37 am
"नमस्ते अम्मां जी"" कौन? अरे कमला! आओ-आओ"खुद को समेटती हुई कमला, सुधा जी की बग़ल से होती हुई सामने आई और पूरे श्रद्धाभाव से उनकी चरण-वंदना की." आज इस तरफ़ कैसे?"" मामी के हियां आई थी, उनकी बिटिया का गौना रहा. हम तो पहलेई सोच लिये थे कि लौटते बखत आपसे मिलनई है. "कमला ने विनीत मुस्का...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  August 16, 2011, 11:24 pm
मेरा पसंदीदा गीत है ये, राष्ट्रगीत की तरह.....हम देखेंगेलाज़िम है कि हम भी देखेंगेवो दिन के जिसका वादा हैजो लौहे-अज़ल में लिखा हैजब ज़ुल्मो-सितम के कोहे-गराँरुई की तरह उड़ जायेंगेहम महकूमों के पाँव तलेजब धरती धड़-धड़ धड़केगीऔर अहले-हिकम के सर ऊपरजब बिजली कड़कड़ कड़केगी...
किस्सा-कहानी...
Tag :गीत
  August 14, 2011, 11:44 pm
"नमस्ते अम्मां जी"" कौन? अरे कमला! आओ-आओ"खुद को समेटती हुई कमला, सुधा जी की बग़ल से होती हुई सामने आई और पूरे श्रद्धाभाव से उनकी चरण-वंदना की." आज इस तरफ़ कैसे?"" मामी के हियां आई थी, उनकी बिटिया का गौना रहा. हम तो पहलेई सोच लिये थे कि लौटते बखत आपसे मिलनई है. "कमला ने विनीत मुस्का...
किस्सा-कहानी...
Tag :
  August 7, 2011, 7:26 pm
सर्दियों कीगुनगुनी धूप सेंकतीं औरतें,उन्हें कोई फ़र्क नहीं पड़ताकिसी घोटाले से,करोड़ों के घोटाले से,या उससे भी ज़्यादा के.गर्मियों की दोपहर मेंगपियाती , फ़ुरसत से एड़ियां रगड़ती औरतें,वे नहीं जानतींओबामा और ओसामा के बीच का फ़र्क,जानना भी नहीं चाहतीं.उन्हें उत्तेजि...
किस्सा-कहानी...
Tag :
  June 28, 2011, 8:33 pm
"प्रिया...रूमाल कहां रख दिये? एक भी नहीं मिल रहा."" अरे! मेरा चश्मा कहाँ है? कहा रख दिया उठा के?"" टेबल पर मेरी एक फ़ाइल रखी थी, कहाँ रख दी सहेज के?"दौड़ के रूमाल दिया प्रिया ने.गिरते-पड़ते चश्मा पकड़ाया प्रिया ने.सामने रखी फ़ाइल उठा के दी प्रिया ने." ये क्या बना के रख दिया? पता नहीं...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  April 22, 2011, 5:24 pm
टुकड़े-टुकड़े दिन बीता, धज्जी-धज्जी रात मिलीजिसका जितना आँचल था, उतनी ही सौगात मिलीरिमझिम-रिमझिम बूँदों में, ज़हर भी है और अमृत भीआँखें हँस दीं दिल रोया, यह अच्छी बरसात मिलीजब चाहा दिल को समझें, हँसने की आवाज़ सुनीजैसे कोई कहता हो, ले फिर तुझको मात मिलीमातें कैसी घातें ...
किस्सा-कहानी...
Tag :ग़ज़ल
  April 17, 2011, 6:24 pm
सारा कमरा बनारसी साड़ियों, सूट के कपड़ों, बच्चों के कपड़ों, शाल, स्वेटर और जेवरों से अटा पड़ा था.बहुत प्यारी-प्यारी साड़ियाँ थी नीले रंग की कांजीवरम साड़ी तो बहुत ही प्यारी थी. मनीष, निशि , रीना और सीमा इन चारों के ऊपर कपड़े खरीदने की ज़िम्मेदारी थी, जिसे इन लोगों ने बखूबी ...
किस्सा-कहानी...
Tag :पढ़ी हुई कहानी ..
  April 5, 2011, 11:42 pm
हम महिलाओं को जो कुछ देते हैं,उसके बदले में वे हमेंउससे ज़्यादा ही लौटाती हैं-यदि आप उन्हें प्यार देंतो वे आपको संतान देती हैं.यदि आप उन्हें मकान दें, तो वे आपको घर देती हैं.यदि आप उन्हें अनाज दें, तो वे आपको भोजन देतीं हैं.यदि आप उन्हें मुस्कुराहट दें,तो वे आपको अपना दिल ...
किस्सा-कहानी...
Tag :महिला
  February 13, 2011, 11:25 am
आज अपनी एक पुरानी कहानी सुनवाने का मन है. कहानी सुनवाने की इच्छा को, मेरे वरिष्ठ जनों के आग्रह ने और हवा दी. असल में ये सब एक साजिश है, आपको दोबारा कहानी झेलवाने की :) चलिये, सुन ही लीजिये, इस कहानी का प्रसारण दो साल पहले आकाशवाणी से हुआ था,. आज फिर आकाशवाणी गई, तो अपनी कुछ पुर...
किस्सा-कहानी...
Tag :
  January 22, 2011, 7:06 pm
" माननीय मुख्य अतिथि महोदय, गुणीजन, सुधिजन, राज्य शासन द्वारा दिया गया यह सर्वोच्च सम्मान , केवल शैव्या जी का सम्मान नहीं, वरन मेरा, आपका, हम सबका सम्मान है, पूरे क्षेत्र का सम्मान है. पूरी नारी जाति कासम्मान है. उनके सम्मानित होने से हमारे अखबार में चार चांद लग गये हैं. ह...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  October 18, 2010, 12:40 am
आज फिर घर में बड़ी चहल-पहल थी. पूरा सामान उलट-पुलट किया जा रहा था. पापा व्यस्त थे. माँ व्यस्त थीं. छोटी बहनें चहक रहीं थीं, बस नीरा चुप थी. देख रही थी चुपचाप . किसी ने कोई काम बताया तो कर दिया, बस इतना ही. सबके चेहरों पर ख़ुशी थी , लेकिन नीरा का चेहरा शांत था. सरोकारहीन, निर्लिप्त ...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  June 16, 2010, 12:55 am
कोई मुम्बई जाये और हाजी अली की दरगाह पर ना जाये ऐसा हो सकता है क्या? हम भी पूरे भक्ति भाव से दरगाह पर गये। समन्दर के बीच स्थित यह दरगाह सिद्ध दरगाहों में से एक मानी जाती है। समन्दर के पानी को काट कर बनाया गया यह पवित्र स्थल लोगों ने इतना अपवित्र कर रखा है, कि दरगाह के प्रवे...
किस्सा-कहानी...
Tag :मुम्बई
  May 25, 2010, 6:50 pm
( मेरे कुछ वरिष्ठ जनों के आग्रह और आदेश पर मैं अपनी इस कहानी का पुनर्प्रकाशन कर रही हूं. मेरे जिन साथियों ने इसे पूर्व में पढा है, उनसे क्षमा याचना सहित)"अन्नू..... उठ जाओ, छह बज गए हैं।"मम्मी की आवाज़ के साथ ही मेरी आँखें खुल गई थीं। क्या मुसीबत है! ऐसे कडाके की ठण्ड में उठना ह...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  April 27, 2010, 2:25 pm
"येक्या है मौली दीदी?"" आई-पॉड है.""ये क्या होता है?"" अरे!!!! आई-पॉड नहीं जानते? बुद्धू हो क्या?"इतना सा मुंह निकल आया आदि का. क्या सच्ची बुद्धू है आदि ? क्लास में तो अच्छे नंबर पाता है.....हाँ, कुछ चीज़ों के उसने नाम सुने हैं, लेकिन देखा नहीं है. "अरे पागल, ये आई-पॉड है, इसमें बहुत सारे...
किस्सा-कहानी...
Tag :कहानी
  March 20, 2010, 5:38 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)