POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: कलम कवि की

Blogger: Rajeev Sharma
नफ़रत की गंध इस तरह फैल गईफूलों की गंध भी उसमे नहीं मिल पाईड़ेंगू मलेरिया या हो चिकनगुनियाकेंसर पार्किनसन या हो एड्सइनसे तो डॉक्टर मुक्त करा देंगपर आपसी स्पर्धा में मुक्त कर नफरत। बढ़ा देंगे   शत शत नमन उस भाई कोजिसने नफ़रत का  बीज बनायानष्ट नहीं हो इसका कोई कोनाऐसा ... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   7:55am 7 Apr 2019 #
Blogger: Rajeev Sharma
अपनी निगाहों मे छुपा कर आँसुओ का ताला लगाया थासोचा था अब तुम्हें कोई देख नहीं पायेगा और बनाया थाभुल थी मेरी जो तुम्हें अपना समझा और सारे राज बतायेपर तुमने मुझे आईना दिखा मुझे मेरी औकात दिखा दीप्रेम इश्क़ सिर्फ कहने कोै तुमने मुझे उसकी कीमत बताईआज हमं खाली हो गए तो तुमन... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   8:12pm 2 Feb 2019 #
Blogger: Rajeev Sharma
वो इंतज़ार મેં हैं हम कुछ लिखेहम इन्तज़ार में हैं कुछ नया दिखेपुराना समेट दिया चलो नया लायेंना करेंआवरण नया और भीतर पुराना पाएँ... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   7:53pm 2 Feb 2019 #
Blogger: Rajeev Sharma
कुर्सी की चाह ईस कदर बिलबीलाई थीआपने उसके बदले कुछ वायदे कर डाले थेहर शय वायदो को अपने से जोड़ मसीहा समझखातादार बन खाता पुस्तिका पकड़ बाट जोहती है15 लाख के ईनृतजार मे सही भी सही से करपायेगेआप बतायै हमसे वायदे तो कर दिये कैसे नीभायेगेसवच्छ भारत की बात आपने गुजाई थोपूरी ... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   7:00pm 28 Jan 2019 #
Blogger: Rajeev Sharma
कुछ भी तो ना चाहा पर कसक एक रह गई बाकीमुहाफ़िज़ समझा जिसे विरोधियों का सरदार निकला... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   10:05pm 13 Dec 2018 #
Blogger: Rajeev Sharma
कुछ भी तो ना चाहा पर कसक एक रह गई बाकीमुहाफ़िज़ समझा जिसे विरोधियों का सरदार निकलादोस्ती जब किसी से की जाएउसकी सखियों पहले गिनी जाएँक्या क्या सुनायें दास्ताँ,इस जहान की दोस्तोंचाहने वालों की कमी नही अपनाने वाला एक भी नही.मेरे अंगना तूफ़ान आया और सब उजड़ गयाबचा वही जो मु... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   9:47pm 13 Dec 2018 #
Blogger: Rajeev Sharma
अब तो हर दिन भयानक दिखता हैनए नाटय का कथानक दिखता हैकथा पुरानी पात्र क्यों नया रुप धर्तानई वार्ता नया जोश अंग अंग भरताकुछ अच्छा भी होगा नया नया सासोच मन सोच, सोचने में क्या लगतापता नहीं कौन सी सोच कब बिक जाएक्या पुराना भी नया अचानक दिखता है... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   9:41pm 13 Dec 2018 #
Blogger: Rajeev Sharma
बीमार का हाल पुछने दुनिया आई पर आँखों को इंतजार था तुम्हारा खुदा से दुआ मांगते है वो नहीं आयें उनके माथे की शिकन न देखी जयेगी हम खुद ब खुद मर मर कर जीलेंगेसारे दर्द हम अपने में समेट यूँ लेंगे जनाजा भी अपना दर्द भी अपना बस दीदार ए यार आँख खुली पायेंगे... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   9:38pm 13 Dec 2018 #
Blogger: Rajeev Sharma
मौज नहीं चाहिये मैं साहिल चाहता हूँखुशीय़ां ज़िंदगी मे षमिल चाहता हूंबुंद हुं सागर की सीप की टलाश में चोला बदल अपना मोती चाहता हूं... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   9:36pm 13 Dec 2018 #
Blogger: Rajeev Sharma
चलो देखें नया  सवेरा आयाकुछ बदलाव लायाधन मन और प्रेम काक्या कुछ नया भाव आयावाह धन चोटी परमन खूंटी परप्रेम का शेयर आज भी नहीं खुल पाया... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   9:34pm 13 Dec 2018 #
Blogger: Rajeev Sharma
सोचता हूँक्या सोचता हूँ मैंक्या सिर्फ सोचकरसोचता हूँ मैंसोचता हूँक्यूँ सोचता हूँ मैं... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   9:29pm 13 Dec 2018 #
Blogger: Rajeev Sharma
जय भारती जय भारती जय भारती जय भारती२६ जनवरी राजपथ को रंगों से है संवारती २६ जन को हमने अपना, संविधान लागू कियारौशनी चमकी यहाँ, हमने जलाया, अपना दीया   पगपग बढ़ते रुकते ना हम, मना रहे गणतंत्र है दुनिया में हमसे बड़ा न,कोई और जनतंत्र हैबार बार जन्मे यहाँ हम,पावन धरा पुचकार... Read more
clicks 124 View   Vote 0 Like   1:37pm 20 Jan 2017 #
Blogger: Rajeev Sharma
जो चाहा था वो पाया थामेरे सर माँ का साया था मै जब किसी शुभ कार्य हेतु घर से जाता थामाँ का हाथ बिन भूले दही शक्कर खिलाता थाआज मेरी गलतिओं पर कोई, डाँटने वाला नहीं है पर गलती नहीं करता क्योंकी माँ अब भी यहीं है जब भी नाकामी का अहसास होता हैमाँ के आँचल का सर पर आभास होता है भगव... Read more
clicks 224 View   Vote 0 Like   4:16am 14 Nov 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
आने पर ना बस था कोईतब जाने की क्या बात करें तू है मेरी यह कथन तेरा है धरा कहाँ पग कहाँ धरें जहाँ भी जाते जहान में हम कण रण क्षण सब उसका हैकहते हैं हम धरा के प्राणी पर है अपनी कित्ती  हद यह तू बता हम कहाँ मरें है धरा कहाँ पग कहाँ धरें आयें है तो पायेंगे क्याखेत तेरा खलियान ते... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   7:15pm 10 Nov 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
बापू मुझे बस कवि बना देतोड़ मोड़ जोडू क़ायदा सीखा देअनभिज्ञ जहान से बचपन थादेख लेख लिखने को मन था मुठ्ठी भर शब्दों का जोड़ देखदर्द पुत्रमोह उमडाया था नग्न फाके समान थे कवि फटी धोती हाड़ दिखाया था   आज देख कवि रेलम पेलजैसे हो गेंद बल्ले का मेल ईस युग में बस यह दोनोंअनगिन पै... Read more
clicks 203 View   Vote 0 Like   5:55am 6 Nov 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
पर्वत पर कहाँ फूल खिलें कहाँ वृक्ष बढे चट्टानों में आज जिंदगी बोल रही शांत हुए शमशानों में ... Read more
clicks 197 View   Vote 0 Like   3:16am 6 Nov 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
हंसी संजोये होठों पर वह रखती थी आँखों मे पानीमन मे सपने लिए अनोखेपाले थी वह पेट मे रानीपुरुष ने पुरुषार्थ दिखाया कहकर दबदबा बनाया जने  जो तेरी कोख़ जनियोदुनिया जाने वंश बढ़ाया कुछ न बोली कुछ न बोली मन रोता पर गर्दन हामी  बादल ने ज्यूँ ली अँगड़ाईसमय बीतता बद्री छाई ला... Read more
clicks 196 View   Vote 0 Like   3:55pm 4 Nov 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
दलदली नेताओं से अपने देश को बचायेंगे पुराने पन्ने फाड़ अब नया ग्रन्थ रचाएंगे  झाड़ू को झटको हाथ को पटकोकमल को तोड़ो हाथी को फटकोनिक्कमा नेता कहीं दिखे यदिकुत्ते छोडो मत से मत भटको बुधि का उपयोग कर मोहर सही लगायेंगे  दलदली नेताओं से अपने देश को बचायेंगे जब से हम आज़ाद ... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   7:47am 11 Sep 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
उम्र अभी वो नहीं कि सब हमे बाबा कहेंतुम यूँ अलग हुए कि नूर ही चला गयाअब किस किस को सुनाएँ अपनी व्यथावो जो भीतर था बाहर क्यों चला गयाअपने हक़ का लगता है ज्यादा मसलादबाव कुछ ज्यादा था वो कुचल गयाहमने तो सोचा था पूरा हक़ है उनपररबर को इतना खींचा, टूटता चला गया  ... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   2:17pm 31 Aug 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
हर सितम सर झुकाया रिश्ते की नाजुकता जानकरमौन हम, नीची औकात कहा उसने भौं तानकरमेरे अंगना तूफ़ान आया और सब उजड़ गयाबचा वही जो उस पल झुका और संवर गयाकौन कौन कितने थे वो यह तो हमको याद नहीं आज खो कर पाया हमने कोई उनके बाद नहींहमने बिस्तर बाँध लिया, कब सफ़र शुरू हो पता नहीं, दुनिय... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   3:58pm 26 Aug 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
जब तारे न थमते नभ में न लौ सूरज की फीकी होतू थक कर क्यों बैठ गया ज्यूँ मंजिल तेरी रीती होयहाँ पथ पर चलने वाला, हर कोई मुसाफिर होता हैतू निराला मत बन यहाँ, ये जीवन मंजिल जोहता हैमंजिल सबकी अलग अलग, साथी की तू बाट न जोहवो जायेगा अपने पथ तू लेता फिरता उसकी क्यूँ तोहपवन चले तू च... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   9:26am 5 Aug 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
दोनों चैन से बेठे आँख खोल सोये थे अधजगेअजीब से सपनो में खोये थे जाते हुए अम्मा ने पूछा खाने का डब्बा रख लिया, पानी तो नही रह गया सारी पुस्तके रख ली कोई काम तो नहीं रह गया बापू कमा पीठ झुका पूछेबेटा तेरा सारा सामान आ गया कुछ और तो नही रह गया थोड़े पैसे और रख ले देख लियो कुछ बाक... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   5:03pm 3 Aug 2016 #
Blogger: Rajeev Sharma
आओ बच्चो खेलें खेल एक बनायें ऐसी रेल जिसका ईंजन अपना भारत बाकी देश डब्बों का मेल ऐसी पटरी सरपट दोड़े नदी खेत गाँव पीछे छोड़ेनिकली पाने मंजिल को वो छुक छुक धड-धड का ये मेल आओ बच्चो खेलें खेल........................दुनिया वालों जानलो अब हिन्द को पहचान लो अब एक नंबर पर अपना भारतबाकि देश करे... Read more
clicks 187 View   Vote 0 Like   12:43pm 19 Nov 2014 #
Blogger: Rajeev Sharma
मानव सभ्य है या असभ्ययदि सभ्य हैतो क्या ज़रुरतसंविधान और कानून कीयदि असभ्य हैतो क्या ज़रुरतसंविधान और कानून कीसभ्य समाजसंविधान, कानूननियंत्रण और कचेहरीअजब विडंबना है... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   2:12pm 30 Oct 2014 #
Blogger: Rajeev Sharma
ये ईद है तुम्हारी तुम्हारी है दिवाली ऐ खुदा क्यों तूने मुझको कर दिया खाली खाली बरसों से मेरे दिल में भी जलती थी फुलझड़ियाँ पर इस बरस बुझी हैं मेरी चाहतों की लड़ियाँफूलों की महक सबकी पर मेरी डोली खाली ये ईद है तुम्हारी तुम्हारी है दिवाली ये जगमगाते आँगन त्योहारों की बौछा... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   4:01pm 21 Oct 2014 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4019) कुल पोस्ट (193753)