POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Dp BBM Gokil, Kocak, dan Lucu

Blogger: vishwajeetsingh
....अरे वहा रे मेरे देश के नीति निर्धारक और इस देश का इंडियन सम्विधान और यहाँ के नेता सब के सब अंधे-गूंगे हो गए हैं....... पाकिस्तान क्रिकेटर शाहीद अफरीदी ने भारत की तारीफ क्या कर दी कि पाकिस्तान ने अफरीदी को देशद्रोह का नोटिस दे दिया हैं और सुनो आज भारत के मुस्लिम नेता ओवैसी ... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   9:17am 16 Mar 2016 #
Blogger: vishwajeetsingh
सनातन संस्कृति संघ एक गैर सरकारी, सामाजिक, आध्यात्मिक ट्रस्ट हैं। इसका मुख्य उद्देश्य भारत व सनातन संस्कृति की रक्षा एवं सम्वर्द्धन करना तथा सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक व आध्यात्मिक सभी प्रकार की व्यवस्थाओं का परिवर्तन कर स्वस्थ, समृद्ध, शक्तिशाली एवं संस्कारवान भार... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   11:14am 7 Jun 2014 #
संस्कृति रक्षक दल (रजि.) एक गैर सरकारी सामाजिक स्वयंसेवी संगठन है । इस संगठन का मुख्य उद्देश्य साम्प्रदायिक एवं भ्रष्ट आसुरी शक्तियों का उन्मूलन करना तथा भारतीय संस्कृति व मानवाधिकार का संरक्षण करना है । साम्प्रदायिक शक्तियों के विनाश एवं भारतीय संस्कृति के विकास के लिए संगठन की बीस सूत्री कार्य योजना निम्नलिखित है :- 1. देश के संविधान से अपमानजनक शब्द इंडिया को हटाकर भारत की पुर्नस्थापना करना । 2. गौवंश की हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना, गौवंश के हत्यारों को मृत्युदंड का प्रावधान करना तथा गौवंश पर आधारित अर्थतंत्र की व्यवस्था करना । 3. भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना, काले धन को वापस मंगाना, भ्रष्टाचारियों की संपत्ति को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करना व भ्रष्टाचारियों को कठोर दंड का प्रावधान करना । 4. आरक्षण का आधार आर्थिक स्थिति को बनाना, जाति - धर्म के आधार पर आरक्षण बंद करना । 5. मांस निर्यात बंद करना, उन्नत कृषि एवं पशुपालन को प्रोत्साहित करना । 6. सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा आदि वैकल्पिक ऊर्जा के संयंत्रों का तंत्र विकसित करना । 7. विद्यालयों में चरित्र निर्माण, व्यवसायिक शिक्षा व सैन्य शिक्षा अनिवार्य करना । 8. आयुर्वेद को राष्ट्रीय चिकित्सा पद्धति घोषित करना । 9. स्वदेशी उत्पादनों को प्रोत्साहित करना । 10. संस्कृत भाषा को प्रोत्साहित करना, उसे द्वितीय राजभाषा का दर्जा देना, संस्कृत माध्यम से संस्कृत शिक्षा देना, प्रत्येक राज्य में एक - एक केन्द्रिय संस्कृत विश्वविद्यालय की स्थापना करना, संस्कृत में व्यवसायिक, रोजगार उन्मुख पाठ्यक्रमों का निर्माण करना व संस्कृत में रोजगार के अधिक अवसरों को उपलब्ध कराना, दूरदर्शन संस्कृत की स्थापना करना । 11. भारतीय नागरिकों में साम्प्रदायिक आधार पर भेदभाव उत्पन्न करने वाले मुस्लिम पर्सनल लॉ आदि कानूनों को भंग करके देश के सभी नागरिकों के लिए समान नागरिक कानून की व्यवस्था कर समानता का अधिकार देना । 12. हज सब्सिडी व इमामों को सरकारी कोष से वेतन देना बंद करना तथा शत्रु संपत्ति व वक्फ संपत्ति का राष्ट्रीयकरण करना । 13. तथ्यों के आलोक में भारतीय इतिहास का पुर्नलेखन कराकर ताजमहल आदि प्राचीन भवनों के वास्तविक निर्माताओं को श्रेय देकर भारत का सुप्त स्वाभिमान जगाना । 14. विवादस्पद शब्द 'राष्ट्रपिता' को प्रतिबंधित कराकर भारत माँ के सम्मान की रक्षा करना । 15. मुस्लिम समाज का अल्पसंख्यक दर्जा समाप्त कर उन्हें भारत की मुख्य धारा बहुसंख्यक समाज की श्रेणी में शामिल करना । 1947 में हिन्दुस्थान विभाजन के पश्चात भारत में मुस्लिम जनसंख्या 7.88 प्रतिशत बची थी जो जनगणना 2011 में बढ़कर 22.80 प्रतिशत हो चुकी है, जो कि बहुसंख्यक समाज है, क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय कानून के अनुसार किसी भी देश में 10 प्रतिशत से कम जनसंख्या वाले धार्मिक समाज को अल्पसंख्यक का दर्जा दिये जाने का प्रावधान है, 10 प्रतिशत से अधिक जनसंख्या होने पर वह समाज बहुसंख्यक की श्रेणी में आता है । 16. जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना तथा कश्मीर के मूल निवासियों का सुरक्षित पुर्नवास कराना । 17. केन्द्रिय परीक्षाओं में अंग्रेजी प्रश्नपत्र की अनिवार्यता समाप्त करना तथा संस्कृत, हिन्दी व क्षेत्रिय भाषाओं को वैकल्पिक आधार प्रदान करना । 18. काल गणना के लिए युगाब्ध को अपनाकर राष्ट्रीय पंचांग के रूप में लागू करना । 19. बड़े बांधों की योजनाओं को निरस्त कर पर्यावरण के अनुकूल छोटे - छोटे बांधों की योजना पर कार्य करना । 20. जैविक कृषि को प्रोत्साहित करना तथा राष्ट्रीय किसान आयोग का पुनर्गठन करना । साम्प्रदायिकता के विनाश एवं भारतीय संस्कृति के विकास के लिए संगठन की बीस सूत्री कार्य योजना को पसंद करने वाले मित्रों, भारत माता, गौ माता, गंगा माता के पुजारियों, भगवान राम, कृष्ण के भक्तों, विश्वविजेता सम्राट विक्रमादित्य, अखण्ड भारत के सृजनकर्ता आचार्य चाणक्य, मेवाड़ केसरी महाराणा प्रताप, हिन्दुत्व रक्षक छत्रपति शिवाजी, महर्षि दयानन्द सरस्वती, गुरू गोविन्द सिंह, स्वामी विवेकानन्द, संत रविदास के अनुयायीयों, क्रांतिधर्मी बिरसा मुण्डा, नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, वीर सावरकर, भगत सिंह, पं. नाथूराम गोडसे, रानी लक्ष्मीबाई, वीर गोकुल सिंह, चन्द्रशेखर आजाद के आदर्शवादियों, वेद, शास्त्र, रामायण, गीता के श्रद्धालुओं, साम्प्रदायिक एवं भ्रष्ट आसुरी शक्तियों के विनाश एवं राष्ट्र धर्म की रक्षा हेतु अधिक से अधिक संख्या में तन - मन - धन के साथ संगठन से जुड़ें । संस्कृति रक्षक दल (रजि.) आपका हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन करता है । http://www.anantsewa.blogspot.com E-mail: svmbharat@gmail.com विश्वजीत सिंह 'अनंत' 09412458954 विपिन कुमार सुराण 09997967204 बालकिशन 'किशना जी' 09827714551 चन्द्रभान मिन्हास 09625569953 देशपाल सिंह चौधरी 07351828972 हरीश कुमार शर्मा 09868354451 हरीओम सिंह 08126941201 Pramod Yadav 09917648983, 09826558741 Shrimati Shashi Sharma 09456680640 @[535114189878562:274:संस्कृति रक्षक दल रजि.]@[535114189878562:274:संस्कृति रक्षक दल रजि.] se aap jude or apne mitro ko jode.
clicks 107 View   Vote 0 Like   12:50pm 18 Jun 2013 #
संस्कृति रक्षक दल (रजि.) एक गैर सरकारी सामाजिक स्वयंसेवी संगठन है । इस संगठन का मुख्य उद्देश्य साम्प्रदायिक एवं भ्रष्ट आसुरी शक्तियों का उन्मूलन करना तथा भारतीय संस्कृति व मानवाधिकार का संरक्षण करना है । साम्प्रदायिक शक्तियों के विनाश एवं भारतीय संस्कृति के विकास के लिए संगठन की बीस सूत्री कार्य योजना निम्नलिखित है :- 1. देश के संविधान से अपमानजनक शब्द इंडिया को हटाकर भारत की पुर्नस्थापना करना । 2. गौवंश की हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना, गौवंश के हत्यारों को मृत्युदंड का प्रावधान करना तथा गौवंश पर आधारित अर्थतंत्र की व्यवस्था करना । 3. भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना, काले धन को वापस मंगाना, भ्रष्टाचारियों की संपत्ति को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करना व भ्रष्टाचारियों को कठोर दंड का प्रावधान करना । 4. आरक्षण का आधार आर्थिक स्थिति को बनाना, जाति - धर्म के आधार पर आरक्षण बंद करना । 5. मांस निर्यात बंद करना, उन्नत कृषि एवं पशुपालन को प्रोत्साहित करना । 6. सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा आदि वैकल्पिक ऊर्जा के संयंत्रों का तंत्र विकसित करना । 7. विद्यालयों में चरित्र निर्माण, व्यवसायिक शिक्षा व सैन्य शिक्षा अनिवार्य करना । 8. आयुर्वेद को राष्ट्रीय चिकित्सा पद्धति घोषित करना । 9. स्वदेशी उत्पादनों को प्रोत्साहित करना । 10. संस्कृत भाषा को प्रोत्साहित करना, उसे द्वितीय राजभाषा का दर्जा देना, संस्कृत माध्यम से संस्कृत शिक्षा देना, प्रत्येक राज्य में एक - एक केन्द्रिय संस्कृत विश्वविद्यालय की स्थापना करना, संस्कृत में व्यवसायिक, रोजगार उन्मुख पाठ्यक्रमों का निर्माण करना व संस्कृत में रोजगार के अधिक अवसरों को उपलब्ध कराना, दूरदर्शन संस्कृत की स्थापना करना । 11. भारतीय नागरिकों में साम्प्रदायिक आधार पर भेदभाव उत्पन्न करने वाले मुस्लिम पर्सनल लॉ आदि कानूनों को भंग करके देश के सभी नागरिकों के लिए समान नागरिक कानून की व्यवस्था कर समानता का अधिकार देना । 12. हज सब्सिडी व इमामों को सरकारी कोष से वेतन देना बंद करना तथा शत्रु संपत्ति व वक्फ संपत्ति का राष्ट्रीयकरण करना । 13. तथ्यों के आलोक में भारतीय इतिहास का पुर्नलेखन कराकर ताजमहल आदि प्राचीन भवनों के वास्तविक निर्माताओं को श्रेय देकर भारत का सुप्त स्वाभिमान जगाना । 14. विवादस्पद शब्द 'राष्ट्रपिता' को प्रतिबंधित कराकर भारत माँ के सम्मान की रक्षा करना । 15. मुस्लिम समाज का अल्पसंख्यक दर्जा समाप्त कर उन्हें भारत की मुख्य धारा बहुसंख्यक समाज की श्रेणी में शामिल करना । 1947 में हिन्दुस्थान विभाजन के पश्चात भारत में मुस्लिम जनसंख्या 7.88 प्रतिशत बची थी जो जनगणना 2011 में बढ़कर 22.80 प्रतिशत हो चुकी है, जो कि बहुसंख्यक समाज है, क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय कानून के अनुसार किसी भी देश में 10 प्रतिशत से कम जनसंख्या वाले धार्मिक समाज को अल्पसंख्यक का दर्जा दिये जाने का प्रावधान है, 10 प्रतिशत से अधिक जनसंख्या होने पर वह समाज बहुसंख्यक की श्रेणी में आता है । 16. जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना तथा कश्मीर के मूल निवासियों का सुरक्षित पुर्नवास कराना । 17. केन्द्रिय परीक्षाओं में अंग्रेजी प्रश्नपत्र की अनिवार्यता समाप्त करना तथा संस्कृत, हिन्दी व क्षेत्रिय भाषाओं को वैकल्पिक आधार प्रदान करना । 18. काल गणना के लिए युगाब्ध को अपनाकर राष्ट्रीय पंचांग के रूप में लागू करना । 19. बड़े बांधों की योजनाओं को निरस्त कर पर्यावरण के अनुकूल छोटे - छोटे बांधों की योजना पर कार्य करना । 20. जैविक कृषि को प्रोत्साहित करना तथा राष्ट्रीय किसान आयोग का पुनर्गठन करना । साम्प्रदायिकता के विनाश एवं भारतीय संस्कृति के विकास के लिए संगठन की बीस सूत्री कार्य योजना को पसंद करने वाले मित्रों, भारत माता, गौ माता, गंगा माता के पुजारियों, भगवान राम, कृष्ण के भक्तों, विश्वविजेता सम्राट विक्रमादित्य, अखण्ड भारत के सृजनकर्ता आचार्य चाणक्य, मेवाड़ केसरी महाराणा प्रताप, हिन्दुत्व रक्षक छत्रपति शिवाजी, महर्षि दयानन्द सरस्वती, गुरू गोविन्द सिंह, स्वामी विवेकानन्द, संत रविदास के अनुयायीयों, क्रांतिधर्मी बिरसा मुण्डा, नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, वीर सावरकर, भगत सिंह, पं. नाथूराम गोडसे, रानी लक्ष्मीबाई, वीर गोकुल सिंह, चन्द्रशेखर आजाद के आदर्शवादियों, वेद, शास्त्र, रामायण, गीता के श्रद्धालुओं, साम्प्रदायिक एवं भ्रष्ट आसुरी शक्तियों के विनाश एवं राष्ट्र धर्म की रक्षा हेतु अधिक से अधिक संख्या में तन - मन - धन के साथ संगठन से जुड़ें । संस्कृति रक्षक दल (रजि.) आपका हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन करता है । http://www.anantsewa.blogspot.com E-mail: svmbharat@gmail.com विश्वजीत सिंह 'अनंत' 09412458954 विपिन कुमार सुराण 09997967204 बालकिशन 'किशना जी' 09827714551 चन्द्रभान मिन्हास 09625569953 देशपाल सिंह चौधरी 07351828972 हरीश कुमार शर्मा 09868354451 हरीओम सिंह 08126941201 Pramod Yadav 09917648983, 09826558741 Shrimati Shashi Sharma 09456680640 @[535114189878562:274:संस्कृति रक्षक दल रजि.]@[535114189878562:274:संस्कृति रक्षक दल रजि.] se aap jude or apne mitro ko jode.
clicks 132 View   Vote 0 Like   12:50pm 18 Jun 2013 #
Blogger: vishwajeetsingh
एक दिन समर्थ गुरू रामदास तथा शिवाजी कहीं जा रहे थे । मार्ग में उन्हें एक नदी मिली । नदी में पानी काफी था । गुरू रामदास ने कहा, ' शिवा, पहले मैं पार होऊंगा, बाद में तू । ' ' नहीं गुरूदेव पहले मैं पार होऊंगा, बाद में आप । ' बहुत देर तक गुरू - शिष्य अपनी - अपनी बात पर अटल रहे । अंत में स... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   9:04am 14 Feb 2013 #
Blogger: vishwajeetsingh
सन 1924 में कलकत्ता में सम्पन्न अखिल भारतीय संस्कृत सम्मेलन ने भारत के राष्ट्रीय ध्वज में सनातन संस्कृति का भगवा रंग और भगवान विष्णु की गदा सम्मिलित करने का सुझाव दिया था । उसी वर्ष कांग्रेस के बेलगाँव अधिवेशन में श्री द्विजेन्द्रनाथ ठाकुर और श्री सी. एफ. एण्ड्रृज ने भी... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   9:02am 14 Feb 2013 #
clicks 115 View   Vote 0 Like   2:30am 25 Jan 2013 #
Blogger: vishwajeetsingh
मेरे प्रिय सुभाष बाबू, भारत के समाचार पत्र पाकर मुझे यह सुखद समाचार मिला है कि आगामी कांग्रेस सत्र के लिए आप अध्यक्ष चुने गये है । मैं हार्दिक शुभकामनायें भेजता हूँ । अंग्रेजों के भारत पर कब्जा करने में कुछ हद तक बंगाली भी जिम्मेदार थे । अतः मेरे विचार से बंगालियों का य... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   12:10am 20 Sep 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
जवाहर लाल नेहरू ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री क्लेमेंट एटली को पत्र लिख कर नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को ब्रिटेन का युद्ध अपराधी बताया था और रूस द्वारा उन्हें पनाह देने को द्रोह और विश्वासघात करार दिया था । नेहरू के इस पत्र को विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अमलेंदु गुहा ने अ... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   2:38am 19 Sep 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
सन् 1924 में ब्रिटेन के युवराज प्रिंस ऑफ वेल्स भारत आए थे तो भारत की आम जनता ने उनके भारत आगमन का बहिष्कार कर दिया । ब्रिटिश सरकार परेशान हो गई क्योंकि वो चाहती थी कि भारत की जनता श्रद्धा - भक्ति के साथ युवराज का आदर - सम्मान करे । ब्रिटिस सरकार यह भली - भाति जानती थी कि भारत क... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   8:24am 18 Sep 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
किसी भारतीय भाषी से हमारे देश का नाम पूछिये तो वह कहेगा - भारत , मैं भी कहूंगा - भारत , लेकिन किसी अंग्रेजीदां से पूछ कर देखिए, वह कहेगा - इंडिया, लेकिन क्या किसी देश के दो - दो नाम होते है ? अमेरिका के कितने नाम है ? और ब्रिटेन के ? क्या श्रीलंका का कोई अंग्रेजी नाम भी है ? स्वाधीन... Read more
clicks 123 View   Vote 0 Like   3:56am 10 Sep 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
मनु महाराज व वेद के अनुसार जिस गलती को एक आम आदमी करता है और उसी गलती को प्रथम श्रेणी का आदमी करता है, तो आम आदमी के मुकाबले पर प्रथम श्रेणी के आदमी को आठ गुणा दण्ड अधिक मिलना चाहिये । जैसे जिस समय द्वापर काल ( अब से लगभग 5200 वर्ष पूर्ण ) में युवराज युधिष्ठिर व युवराज दुर्योधन... Read more
clicks 118 View   Vote 0 Like   5:01am 6 Sep 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
जब इस्लाम अफगानिस्तान में पहुँचा , तो अफगानिस्तान के लोग अरब साम्राज्यवादी शक्तियों द्वार छल - प्रपंच से किये गये युद्ध में हार गये । लेकिन उन्होंने अपने पूर्वजों को विस्मृत नहीं किया था । आज जो अफगानिस्तान में तालिबान है , सारे बुद्ध की प्रतिमा तोड़ रहे हैं , ये तालिबान... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   12:11pm 29 Jul 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
इस्लाम का प्रारम्भ राष्ट्रीयता को अमान्य करते हुए हुआ । उनके लिए राष्ट्रीयता नाम की कोई चीज नहीं है । दुनिया भर के सारे मुसलमान जो एक राष्ट्र बनाते हैं , उसको मिल्लत कहते हैं । इस्लामिक अरब की साम्राज्यवादी नीति के अनुसार सब एक मिल्लत हैं एक राष्ट्र हैं , लेकिन हो नहीं ... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   5:13am 26 Jul 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
लालू प्रसाद यादव और रामविलास पासवान कहते है कि असली प्रजातंत्र हम जब समझेगें जब देश का प्रधानमंत्री मुसलमान होगा। हैदराबाद का एक विधायक मौलाना ओवैसी दुर्गा मंदिर में बजने वाले घण्टे को गैर इस्लामी बताकर प्रतिबंधित कराने का प्रयास करता है, तो बरेली की खचाखच भरी एक चु... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   9:43am 24 Jun 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
प्रिय राष्ट्र प्रेमियों - एक वो समय था जब गाय माँ की रक्षा के लिये 1857 ईश्वी में क्रांति हो गई थी और हमारे पूर्वजों ने 4 लाख गद्दारों व अंग्रेजों को काट डाला था, ओर एक समय ये है जब 3500 हजार कत्लखानों में रोज माँ को काटा जा रहा है और हम तथाकथित अहिंसा व सेक्यूलरिज्म की आड़ में नपु... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   6:52am 24 Jun 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
मित्रों आपको यह जानकर अत्याधिक हर्ष होगा कि हमने राष्ट्रवादी चिंतन के अनुसार साम्प्रदायिकता एवं भ्रष्टाचार के उन्मूलन तथा भारतीय संस्कृति व मानवाधिकार के संरक्षण हेतु प्रगतिशील देशभक्तों को साथ लेकर एक राष्ट्रव्यापी संगठन का गठन कर लिया है , संगठन का नाम है :- साम्... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   12:38pm 22 Jun 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
शिक्षा से आत्मविश्वास आता है और आत्मविश्वास से अंतर्निहित ब्रह्मभाव जाग उठता है । जब से शिक्षा , सभ्यता आदि उच्च वर्ण वालों से धीरे - धीरे जन - साधारण में फैलने लगी , उसी दिन से पश्चिमी देशों की वर्तमान सभ्यता और भारत , मिश्र , रोम आदि की प्राचीन सभ्यता के बीच अन्तर बढ़ने लग... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   2:17am 20 Feb 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
सम्राट चंद्रगुप्त एवं चाणक्य की वीरता एवं बुद्धिमता का लोहा सभी मानते है , चाणक्य की कुटनीति विश्व की सर्वश्रेष्ठ कुटनीति मानी जाती है , फिर भी एक बार उनसे गलती हो गई थी और जिसके फलस्वरूप उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा था । दरअसल नन्द राज्य को जीतने के लिये उन लोगों ने स... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   5:59am 19 Feb 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
रेल यात्रा कर रहे एक तिलकधारी सेठजी ने जब अपना भोजन का डिब्बा खोलना चाहा तो पास ही बैठे खद्दरधारी नेता को देख उन्हें शंका हुई । उन्होंने पूछा , ' नेताजी , आप किस जाति के है ? ' ' जाति न पूछो साधू की , पूछ लीजिए ज्ञान ' यह कहावत क्या आपने नहीं सुनी ? नेताजी ने प्रश्न किया । ' साधू से... Read more
clicks 123 View   Vote 0 Like   3:34am 19 Feb 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
एक बार भ्रमण करते धर्मयोद्धा स्वामी विवेकानन्द अलवर राज्य में गये । सम्पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ महाराजा ने स्वामी जी का भव्य स्वागत किया । महाराजा युवक थे एवं पश्चिमी विचारों से कुछ - कुछ प्रभावित भी थे । मूर्ति पूजा में उनकी आस्था नहीं थी । स्वामी जी से वार्तालाप क... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   11:06pm 18 Jan 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
अभी अधिक समय नहीं हुआ जब पाकिस्तान के दक्षिणी सिंध प्रांत के चक कस्बे में हिन्दू चिकित्सक डॉ. अजीत और उनके दो परिजनों नरेश व अशोक कुमार की हत्या कर दी गई। हमले में एक अन्य चिकित्सक डॉ. सत्यपाल गंभीर रूप से घायल हुए है। अंतर्राष्ट्रीय दबाव में प्रशासन ने दोषियों के खिला... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   1:35pm 1 Jan 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
अभी अधिक समय नहीं हुआ जब पाकिस्तान के दक्षिणी सिंध प्रांत के चक कस्बे में हिन्दू चिकित्सक डॉ. अजीत और उनके दो परिजनों नरेश व अशोक कुमार की हत्या कर दी गई। हमले में एक अन्य चिकित्सक डॉ. सत्यपाल गंभीर रूप से घायल हुए है। अंतर्राष्ट्रीय दबाव में प्रशासन ने दोषियों के खिला... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   1:35pm 1 Jan 2012 #
Blogger: vishwajeetsingh
अरब देश का भारत, भृगु के पुत्र शुक्राचार्य तथा उनके पोत्र और्व से ऐतिहासिक संबंध प्रमाणित है, यहाँ तक कि "हिस्ट्री ऑफ पर्शिया" के लेखक साइक्स का मत है कि अरब का नाम और्व के ही नाम पर पड़ा, जो विकृत होकर "अरब" हो गया। भारत के उत्तर-पश्चिम में इलावर्त था, जहाँ दैत्य और दानव बसते... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   1:41pm 16 Dec 2011 #
Blogger: vishwajeetsingh
भारत में सत्ता हस्तांतरण के पश्चात आरक्षण उन वर्गो को दिया गया था जो बेहद दबे और कमजोर जाति से संबंध रखते थे तथा आरक्षण के बिना उनका आगे बढ़ना असम्भव था । ग्रामीण और उपनगरीय क्षेत्रों में तो उनकी परछाई तक प्रदूषित मानी जाती थी । मूल रूप से इसे अनुसूचित जाति व जनजातियों ... Read more
clicks 187 View   Vote 0 Like   10:13am 9 Dec 2011 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (194970)