POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: तितली

Blogger: vandana
जग जीवन का रेलम-पेला चढ़ काँधे मैं देखूँ मेला मन को जब अरमान सतायेपापा तुम बिन कुछ ना भाये तुम होते फुटबॉल खेलती हंसकर सब परिणाम झेलती झूलों पर जब पींग बढाती ऊँचाई ना कभी डराती डोली जब ससुराल चलेगी कमी पिता की बहुत खलेगी देखूं जब भी परचम प्यारा मुझे मिले आशीष तुम्हारा पद... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   6:58am 1 Jun 2018 #
Blogger: vandana
                          क्या मानव को सूझा फिर से , कौतुक कोई न्याराया संदेसा लिखकर भेजा,उसने कोई प्याराकैसा यह नोटिस है मम्मा,मुझको भी बतलाओपढ़ना लिखना मुझको भाए,थोड़ा तो सिखलाओचाहूँ तो बेटा मैं भी यह,तुमको खूब पढाऊँलेकिन भूल मनुज की देखूँ,सोच सोच घबराऊँका... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   7:59am 19 Jun 2016 #
Blogger: vandana
नन्नू आओ माही आओ,खेलेंगे हम होली मीठी गुझिया में मम्मी ने,मेवा-मिश्री घोली गली गली हुडदंग मचाते,घूमें नन्हे तारे अगर ढोल पर ताल बजी तो, थिरकेंगे मिल सारे भर पिचकारी तुम ले आओ,मैं रंगों की थाली सुर में चाहे चाहे बेसुर,गायें मिल क़व्वाली गुब्बारों से दूर रहें हम,हो बरबाद न ... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   4:25pm 6 Mar 2015 #
Blogger: vandana
भींत पार की सुन्दर दुनिया क्या सचमुच है भूल-भुलैया कोई तो मुझको ले जाए बॉटल टिफिन नये दिलवाएविद्यालय का बस्ता भारी करनी पड़े खूब तैयारीअक्सर मुझे डराते भैया लेकिन मैं जाऊँगा मैया ईंट सहारे ऊपर चढ़कर कल ना देखूँगा मैं छुपकर नित-नित मैं व्यायाम करूँगाजीवन में शुभ काम कर... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   12:47am 31 May 2014 #
Blogger: vandana
मस्त मस्त नाचे अलबेली रंगरेजों की आई टोली मन का कचरा आज जलाकर द्वेष दर्द को चले मिटाकर        जूही चंपा और चमेली फूलों से भर लेंगे झोली आया फागुन प्रेम जगाएं नफरत को हम दूर भगाएं थाली में रख मीठी बोली आ री ! आली खेलें होली चित्र गूगल से साभार ... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   12:36pm 15 Mar 2014 #
Blogger: vandana
राखी का था जब त्यौहार घड़ी मिली मुझको उपहार रंग अनोखा उसका लाल मुझे उठाती प्रात:काल कुकड़ू कूँ की देती टेरकहती उठ जा होगी देर घड़ी समय का देती ज्ञान पलपल का रखना तुम ध्यान समय बताती रहकर मौन बूझो तो यह लाया कौन भैया ने दी गुल्लक खोल कहते बहना है अनमोल चित्र गूगल से साभार ... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   4:20pm 12 Feb 2014 #
Blogger: vandana
फरफर करती उड़ती जाती  मन को ये भाने वाली है रंग बिरंगे रूप सजाये पतंग मेरी मतवाली है कोई माथे चाँद सजाये कभी तिरंगा हम फहराएं संग दूसरों के मिलजुलकर खेले वो खेल निराली है लम्बी सी इक पूंछ लगायेसर पर ताज पहन इठलाये बादल से है दौड़ लगाती पंछी से करे ठिठोली है छूट डोर हाथों ... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   12:52am 4 Jan 2014 #
Blogger: vandana
सजी सजीली नन्हीं गुड़ियाशरमाई आफत की पुड़ियामिल कर उसका ब्याह रचाया मंडप प्यारा खूब सजाया बजती है ढोलक शहनाई मस्ती में बाराती भाई पकवानों का दौर चलेगा गायें नाचें रंग जमेगा खेल सभी मिलकर खेलेंगे कभी न प्यारे हम झगड़ेंगे छवि : गूगल से साभार ... Read more
clicks 98 View   Vote 0 Like   1:17am 13 Dec 2013 #
Blogger: vandana
रंग बिरंगे फूल विराजे एक टांग पर तिकधिन नाचे जैसे गुडिया फ्रॉक निराला मेरा छाता है मतवाला बरखा से वो मुझे बचायेभरी धूप माथा सहलायेदादा जी का साथी सच्चा लगता नाना को भी अच्छा मोर नाचते जब उपवन में इन्द्रधनुष सजते हैं नभ में छाता मेरा मुझे बुलाये गोल गोल घूमे इतरायेचित... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   4:14pm 24 Nov 2013 #
Blogger: vandana
नभ आँगन को छूकर चहकूँ, थामे हाथ तिहारानाजुक न्यारा हम दोनों का, रिश्ता दादू प्यारामहावीर गौतम कोलंबस, सुनूँ सभी गाथाएंब्लॉग आपके लिखकर सीखूं, रसभीनी कवितायेंसभी जटिलताएं जीवन की, अनुभव से सुलझानाकंप्यूटर पर हम ढूंढेंगे, कोई खास पुरानाविश्वास जगाता है हरदम, ये बाँहो... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   10:59am 21 Sep 2013 #
Blogger: vandana
माँ तुम अब के सावन की रुत आँगन में इक पेड़ लगा दो नहीं चाहता खेल खिलौने बस छोटा सा पेड़ लगा दो शोर मचाते मोटर बन्दर अब नहीं जीतते मेरा मन मशीनगन का नहीं फायदा टैंकों ने कब जीते दुश्मन बैठे जिस पर चिड़िया चुनमुन ऐसा सुन्दर पेड़  लगा दोहरा रंग सबको हर्षाये खिले फूल राही ल... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   1:22am 11 Aug 2013 #
Blogger: vandana
                                      इक कालीन कहीं मिल जाए सैर गगन की हम कर आयें उड़नखटोला लेकर मित्रों फूलों की घाटी तक जाएँरंग बिरंगे फूल खिले हों गुंजन भँवरे भी करते हों बुलबुल मीठा गान सुनाती अठखेली पंछी करते हों तितली रस फूलों से लाये सौरभ सबका मन हर्षाये नन्हा सा इक बीज उगाकरह... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   1:06am 22 Jun 2013 #बालकविता
Blogger: vandana
बहुत दिनों से बच्चों के लिए कुछ पोस्ट नहीं कर पा रही ...सोचा ये विडियो शेयर करूँ जो मुझे बहुत अच्छे लगेhttp://www.facebook.com/photo.php?v=10151387305778271&set=vb.157749278270&type=2&theaterऔर http://www.facebook.com/photo.php?v=329252280424882&set=vb.130228097083223&type=2&theater... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   1:04am 21 Mar 2013 #
Blogger: vandana
बहुत दिनों से बच्चों के लिए कुछ पोस्ट नहीं कर पा रही ...सोचा ये विडियो शेयर करूँ जो मुझे बहुत अच्छे लगेhttp://www.facebook.com/photo.php?v=10151387305778271&set=vb.157749278270&type=2&theaterऔर http://www.facebook.com/photo.php?v=329252280424882&set=vb.130228097083223&type=2&theater... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   1:04am 21 Mar 2013 #
Blogger: vandana
छोटा सा गोल-गप्पे वाला  काम है देखो बड़ा निराला नन्हीं नन्हीं पूरी बनाकर कद्दू सा फिर उन्हें फुलाकर भरे वो खट्टा मीठा पानी मिर्च लगे तो दे गुडधानी सुना है रोज वो जाता स्कूल कभी होम वर्क गया जो भूल लेकिन देखी उसकी मेहनतसाथी सब करते हैं इज्जत माना मंजिल थोड़ी दूर काम लगन ... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   2:03am 4 Dec 2012 #बालकविता
Blogger: vandana
देखो तो धरती पर तारे कितने सारे प्यारे प्यारे तुम मेरे घर रहने आये साथ नहीं क्यों चाँद को लाये आज कहीं तुम रस्ता भूले पास इतने कि हम भी छूलें आसमान से उतर के आये चमचम करते मन को भाये दौडू और हाथ में ले लूँ या माँ के आँचल में भर लूं वापस ना ये जाने पायें माचिस की इक डिबिया ला... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   1:26am 4 Dec 2012 #
Blogger: vandana
ना सांस लेते दिखाई दें ना बात करते सुनाई दें ना चलते न दौड़ ही पाते मगर सजीव ये कहलाते ज्ञान गंगा डुबकी लगाओ भैया मेरे मुझे बताओ मम्मी मुझको देती खाना चिड़िया भी है खाती दाना पेड़ कहाँ से भोजन पायें बिना हाथों कैसे पकाएं खाना इन्हें भेजता कौन बोलो न भैया क्यों हो मौन पत... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   4:02pm 21 Oct 2012 #बालकविता
Blogger: vandana
छपाछप छैया ताल तलैया नाचूँ मैं और मेरा भैया बनी तो यह कागज की लेकिन मुझको प्यारी मेरी नैया    बिन पानी तो चलती कैसे डूब डूब उतराती कैसे बिन मोटर और बिन पतवार ठुमक ठुमक इतराती ऐसे दूर देश की सैर करे हम बाधाओं से नहीं डरें हम ठानी मन में नया करें कुछ बन कोलम्बस बढे कदम ... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   1:41am 3 Sep 2012 #बालकविता
Blogger: vandana
कितने दिनों तक देखी बाटमाँ से आज बनवाई चाट आलू मटर छोले नमकीन अब तो अपने हो गए ठाट पत्ते पर था उसे सजाया चाट मसाला भी बुरकाया चटनी भी थी खट्टी मीठीचाट चाट के सबने खायाखुशबू थी कुछ उसकी ऐसीजान गए थे सभी पड़ोसी हम तो सारे मिल जुल बैठे बिल्लू अब्दुल पिंटू जस्सीमानो जीभ लगे ... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   3:29pm 18 Jul 2012 #बालकविता
Blogger: vandana
छोटे राजा नन्हीं रानी फ़ौज है किन्तु उनकी भारी जुटा रहे हैं दाना–पानीकहलाये सामाजिक प्राणी बातें करती भागी फिरती मेहनत की हैं वो पुजारी गिरती उठती उठकर चलतीलेकिन हार कभी ना मानी चीनी मीठे की दीवानी निश्चय होगी मीठी वाणी कहती हो तुम कौन कहानी चींटी रानी चींटी रानीimages ... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   3:57pm 19 Jun 2012 #बालकविता
Blogger: vandana
गुनगुन करतेगीत सुनाते बिना बात सिरपर चढ़ जाते गगन तले व नदीकिनारे रहें पार्क मेंसाथ हमारे सुई लगाता बनकरडॉक्टर बीमारी दे जाताअक्सर साढ़े तीन हैंनाम में अक्षर जी हाँ दादू वोहैं मच्छर दादी को मैनेंबतलाया मजबूत इक किलाबनवाया द्वार नहीं परकई झरोखे लेकिन मच्छर इकन झाँ... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   3:19pm 13 Apr 2012 #बालकविता
Blogger: vandana
आ गए परीक्षा के दिन... तो याद करने के लिये अपनाएं कुछ मजेदार तरीकेजैसे-पर्यायवाची1भूमि धरती मही धरणी पृथ्वी के हैं नाम सभी 2नदी पार ले जाये जो नौका नाव तरी तरणी3रात्रि रात निशा यामिनी  रजनी या फिर विभावरी 4मत्स्य मीन मकर शफरी जल बिन तडपे रे मछली 5कुंजर नाग मतंग करी गज हाथी क... Read more
clicks 209 View   Vote 0 Like   4:55pm 12 Mar 2012 #बालकविता
Blogger: vandana
बूढी दादी रहे अकेलीसंग साथ न कोई सहेलीदिन भर खुद से बात करे हैया सुलझाए कोई पहेलीचलो काम में हाथ बंटाएंसमय थोडा सा संग बिताएंदादी के हम नन्हें साथीउसे कहेंगे कथा सुनाएँचित्र : गूगल से साभार ... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   1:26am 8 Feb 2012 #
Blogger: vandana
खिल रहे रंग छाई उमंग मन में तरंग लाई पतंग तक धिन धिन ना                              झूमती डोर उठती हिलोर मन हुआ मोर हो रहा शोर अरे !छूटे ना प्राणों की जंग सपने पतंगरहना दबंग सुन रे! मलंग कट जाये ना उठे फिर गिरे गिरे फिर उठे सुनो क्या कहे छूटे टूटे तो रूठो ना !करो एक बार फिर तेज धार बन हो... Read more
clicks 235 View   Vote 0 Like   3:51pm 12 Jan 2012 #बालकविता
Blogger: vandana
नॉर्थपोल का रहने वाला मैं दुनिया में सबसे आला नहीं अन्जानी है यह बात आता सिर्फ क्रिसमस की रात सांता क्लॉज है मेरा नाम प्यार बांटना मेरा काम रुनझुन रुनझुन घंटी बाँधी चन्द्र किरण की करूँ सवारी स्लेज कहाये मेरी गाड़ीलाल सूट है लंबी दाढ़ी गाँव हमारा बड़ा निराला माह जून म... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   3:28pm 21 Dec 2011 #बालकविता
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (195050)