Hamarivani.com

वाग्वैभव

वो एक आदमी जिसने पहली बार सिर झुका कर ईश्वर को पुकारा होगा वो एक आदमी जिसने पत्थर मे भगवान तराशा होगा वो एक आदमी जिसने पहली बार आस्था का बीज बोया होगा जरूर उस आदमी से बहुत अच्छा होगा जिसने तोडा होगा पहली बार किसी के जीने का संबल बहुत बुरा होगा वह आदमी जिसने निराशा का आविष...
वाग्वैभव...
Tag :कविता
  January 23, 2012, 6:27 am
उन्हेंएक और एक ग्यारह नहीं                           1+1=11......                                                                                                      एक होना था    ......                                           केवल एक और वे हुए भी उनमें से एक या तो पंगु हुआ या परजीवी और अस्तित्व  एक का ही बाकी रहा                1+1=01       ...
वाग्वैभव...
Tag :स्त्री विमर्श
  December 18, 2011, 5:39 am
नहीं छलती कल्पना उतना जितना यथार्थ ने छला है जो सामने है वही एक सच है यह दिखलाने की कला में न जाने कितनी बार मासूम एक सपना जला है वो वैरभाव किस कोख में पनपा और दुर्विनीत बिन माँ के बच्चे सा पला है श्रद्धा की गोद में जिसे खेलना था प्यार के काँधे पर बैठकर मेला देखना था तृष्ण...
वाग्वैभव...
Tag :
  December 12, 2011, 5:51 am
सुधियों में आज भी मोती सा जड़ा है प्रश्न ले झोली में जमीर ही खड़ा है गुलमोहर के फूल और सिरस की गंध बिसरे तेरे वादे कुछ मेरे अनुबंध यादों की गली में बिखरा सब पड़ा है धार में अँसुवन की जो बह  भी न पाया बाते थी स्वजन की जो कह भी न पाया मन की कली कोमल कांटा सा गडा है वह था तेरा अह...
वाग्वैभव...
Tag :कविता
  December 11, 2011, 10:07 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169661)