POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Virk's View

Blogger: Dilbag Virk
कविता-संग्रह – कविता से पूछोकवयित्री –डॉ. शील कौशिक प्रकाशन – अक्षरधाम प्रकाशन पृष्ठ –96 कीमत –150 /-( सजिल्द )कविता क्या है और कवि होना क्या है, इस पर आलोचक यहाँ अक्सर अपने मत देते हैं वहीं कवि भी कभी-कभार अपनी रचनाओं में इस विषय को चुनते हैं | डॉ. शील कौशिक जी का कविता संग्रह ‘... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   10:58am 21 Jul 2018 #डॉ. शील कौशिक
Blogger: Dilbag Virk
लघुकविता-संग्रह – खिड़की खोल कर तो देखो कवि -डॉ. रूप देवगुण प्रकाशन – अक्षरधाम प्रकाशन पृष्ठ – 80 कीमत – 150 /- ( सजिल्द )‘ खिड़की खोल कर तो देखो ’ 118 लघुकविताओं का गुलदस्ता है जो गाँव की टेढ़ी-मेढ़ी पगडंडी, बादलों के आने की बात करते हैं, नदी का करिश्मा देखना हो, ओढ़ कर एक लम्बी ख... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   11:48am 10 Jul 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
लघुकविता संग्रह – रास्ता तय करते-करतेकवि – डॉ. रूप देवगुणप्रकाशन – राज पब्लिशिंग हॉउस पृष्ठ – 88कीमत – 125 / - ( सजिल्द )रास्ता तय करते-करते डॉ. रूप देवगुण जी की 123 लघुकविताओं का संग्रह हैं, जिनको उन्होंने सात भागों में विभाजित किया है | ये सात भाग हैं – चलो चलें पहाड़ पर, नाराज भी ... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   3:38pm 2 Jul 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
उपन्यास -रेहन पर रग्घू लेखक -काशीनाथ सिंह प्रकाशक -राजकमल पेपरबैक्स पृष्ठ - 164 कीमत - 215/-तीन खंडों के 29 अध्यायों में फैली रग्घू की कहानी दरअसल बदलाव और बिखराव की कहानी है | उपन्यास के अंतिम पृष्ठ पर अखिलेश जी का वक्तव्य "यह उपन्यास वस्तुत: गाँव, शहर, अमेरिका तक के भूगो... Read more
Blogger: Dilbag Virk
लघुकथा-संग्रह –दिव्यांग जगत की 101 लघुकथाएँ लेखक – राजकुमार निजात प्रकाशक –एस.एन.पब्लिकेशन पृष्ठ – 136 कीमत – 400 /- ( सजिल्द )अनेकता जहां भारतीय समाज की विशेषता है वहीं भेदभाव का होना इसके माथे पर कलंक जैसा है | भारतीय समाज में जाति, आर्थिकता के आधार पर ऊँच-नीच तो है ही, श... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   9:40am 23 May 2018 #राजकुमार निजात
Blogger: Dilbag Virk
कविता-संग्रह -बस तुम्हारे लिए कवयित्री - मीनाक्षी सिंह प्रकाशक -अंजुमन प्रकाशन पृष्ठ - 120 कीमत - 120 /- ( पेपरबैक )मेरी चाहतों का आसमां, यथार्थ धरातल, सुकून-ए-दर्द, रीते-रीते से पल और सकारात्मक बढ़ते कदम नामक पाँच शीर्षकों में विभक्त 68 कविताओं का गुलदस्ता है मीनाक्षी सिं... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   7:30am 8 Apr 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
कविता-संग्रह -सतरंगी आईना कवयित्री -मनजीतकौर 'मीत 'प्रकाशक -तस्वीर प्रकाशन, कालांवाली पृष्ठ - 112 कीमत - 150/- ( सजिल्द )44 छन्दमुक्त कविताओं, 28 ग़ज़लनुमा कविताओं और 5 गीतों से सजी कृति है "सतरंगी आईना " | छन्दमुक्त कविताओं में भी ग़ज़ल और गीत शैली की कविताओं का समावेश है | कवयित्री ... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   3:12pm 25 Mar 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
कविता-संग्रह - नदी को तलाश है कवि - डॉ. राजकुमार निजात प्रकाशक - एस.एन.पब्लिकेशन पृष्ठ - 128 कीमत - 300 / - ( सजिल्द )जीवन की विसंगतियों और प्रकृति के बदलते रूप पर चिन्तन करती हुई 42 मध्यम आकार की और 140 लघु आकार की कविताओं का संग्रह है 'नदी की तलाश है'| कवि को नदी का निरंतर बहना किस... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   10:56am 21 Mar 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
कहानी-संग्रह - मुझे तुम्हारे जाने से नफ़रत है लेखिका -प्रियंका ओम प्रकाशक -रेडग्रेब बुक्स पृष्ठ - 184 कीमत - 175/- ( पेपर बैक )सिर्फ पाँच कहानियों का संग्रह है "मुझे तुम्हारे जाने से नफ़रत है " | पुस्तक में 184 पृष्ठ हैं और कहानियाँ पाँच तो स्पष्ट है कि कहानियाँ लम्बी हैं | अंति... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   3:32pm 16 Mar 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
उपन्यास -बोलो गंगापुत्र लेखक - डॉ. पवन विजय प्रकाशक -रेड्ग्रेब पृष्ठ - 112 कीमत - 99 /- ( पेपरबैक )इतिहास हमेशा विजेताओं द्वारा लिखित होता है, इसलिए इतिहास में विजेताओं का यशोगान होना स्वाभाविक है | इतिहासकार और साहित्यकार का प्रमुख अंतर यही है कि साहित्यकार इतिहासकार ... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   10:04am 4 Mar 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
कहानी-संग्रह - ज़िन्दगी आइस-पाइसकहानीकार -निखिल सचानप्रकाशन -हिन्द युग्मपृष्ठ - 144कीमत - 100/ ( पेपरबैक )आस-पड़ौस में मौजूद पात्रों और घट रही घटनाओं पर आधारित 9 कहानियों का संग्रह है "जिंदगी आइस पाइस "। इन कहानियों को बयां करने में लेखक ने अपनी पढ़ाई, अपने फिल्मी ज्ञान, धारावाहिक... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   12:31pm 20 Feb 2018 #निखिल सचान
Blogger: Dilbag Virk
पुस्तक -सकारात्मक अर्थपूर्ण सूक्तियाँलेखक - हीरो वाधवानी प्रकाशन - अयन प्रकाशनपृष्ठ- 168 कीमत - 300 /- ( सजिल्द ) ज़िन्दगी जीना एक कला है । रो-रो कर वक्त व्यतीत तो किया जा सकता है, ज़िन्दगी जी नहीं जा सकती । ज़िन्दगी को जीने के लिए सकारात्मक नजरिये का होना बेहद जरूरी है । सकारा... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   12:30pm 14 Feb 2018 #सूक्ति संग्रह
Blogger: Dilbag Virk
पुस्तक – आज़ादी मेरा ब्रांड लेखिका -अनुराधा बेनीवाल प्रकाशन -सार्थक, राजकमल का उपक्रमपृष्ठ - 204मूल्य -  199 /-भाग - 1*****भाग - 2 *****यात्रा वृत्तांत मुख्य रूप से यात्रा के अनुभवों की अभिव्यक्ति ही होती है | अनुराधा यूरोप यात्रा के दौरान जिन देशों और शहरों में जाती हैं उनका न स... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   1:18pm 11 Feb 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
कविता-संग्रह -पाँच लघु काव्य-संग्रह एक साथ कवि - पाँच कविगण प्रकाशक -राज पब्लिशिंग हॉउस पृष्ठ - 118 कीमत - 175 /- ( सजिल्द )सांझे संकलन में एक संपादक होता है, जो अन्य रचनाकारों से रचनाएँ एकत्र कर प्रकाशन-संपादन का दायित्व निभाता है, लेकिन "पाँच लघु काव्य-संग्रह एक साथ "एक ऐ... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   12:30pm 31 Jan 2018 #डॉ. शील कौशिक
Blogger: Dilbag Virk
लघुकविता-संग्रह -चाँदनी रात में उड़ते बगुले कवि -रूप देवगुण प्रकाशक -सुकीर्ति प्रकाशन, कैथल पृष्ठ - 80 मूल्य - 250 /- ( सजिल्द )आकार में क्षणिका से बड़ी और कविता से छोटी होती है लघुकविता  | लघुकविता साहित्य की नई विधा है और लघुकथा की तरह ही अपनी जगह बना रही है | प्रो. रूप देव... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   1:22pm 24 Jan 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
कविता-संग्रह - मेरे शब्द शिशु कवयित्री - ममता शर्मा 'मनस्वी 'प्रकाशक -तस्वीर प्रकाशन, मंडी कालांवाली पृष्ठ - 112 कीमत - 150 /- ( सजिल्द )भले ही पुरुष और स्त्री जीवन के दो पहिए हैं, लेकिन गृहस्थी का दायित्व स्त्री को ही अधिक निभाना होता है | उसे अपना जीवन भी जीना होता है और पति, ... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   12:00pm 17 Jan 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
पुस्तक -रूप देवगुण के कहानियों में नारी के विभिन्न रूप लेखक -ज्ञानप्रकाश 'पीयूष 'प्रकाशन -सुकीर्ति प्रकाशन, कैथल पृष्ठ - 180 कीमत - 450 /- ( सजिल्द )प्रो. रूप देवगुण की समस्त कहानियों का अध्ययन करते हुए उनमें प्रमुख नारी पात्रों पर आधारित कहानियों का विश्लेषण करती पुस्तक ... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   12:32pm 10 Jan 2018 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
सूक्ति-संग्रह -सूक्तियाँ मेरा अनुभव संसार लेखक -निजात प्रकाशक -एस. एन. पब्लिकेशन, नई दिल्ली पृष्ठ - 168 कीमत - 450 ( सजिल्द )एक साहित्यकार अपने अनुभव के बल पर अपने साहित्य में अनेक ऐसी पंक्तियाँ लिखता है, जो अपने आप में पूरी रचना होती हैं और जीवन-दर्शन का निचोड़ होने के का... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   9:04am 3 Jan 2018 #राजकुमार निजात
Blogger: Dilbag Virk
बाल कविता-संग्रह -बाल मन की किलकारी कवि -डॉ. मेजर शक्तिराज प्रकाशन -अमृत बुक्स, कैथल पृष्ठ - 88 कीमत - 200 /- ( सजिल्द ) बच्चों के पसंदीदा विषयों को लेकर उन्हें सिखाने, अच्छा इंसान बनाने का प्रयास करता संग्रह है 'बाल मन की किलकारी ' | इस संग्रह में आठ-आठ पंक्तियों की 75 कवि... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   2:22pm 25 Dec 2017 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
ग़ज़ल-संग्रह – ये कभी सोचा न था शायर – डॉ. रूप देवगुण प्रकाशक – पूनम प्रकाशन, दिल्लीपृष्ठ - 80 कीमत – 125 /- ( सजिल्द )रूप देवगुण कविता, लघुकथा, कहानी के प्रमुख हस्ताक्षर हैं, लेकिन ग़ज़ल वे सामान्यत: नहीं लिखते लेकिन “ ये कभी सोचा न था ” ग़ज़ल के क्षेत्र में उनका प्रथम प्रयास है | वे स्वय... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   2:33pm 1 Nov 2017 #रूप देवगुण
Blogger: Dilbag Virk
ग़ज़ल-संग्रह –कहो बात दिल की शायर – रूप देवगुण प्रकाशक –सुकीर्ति प्रकाशन, कैथल पृष्ठ – 80 कीमत – 200 /- ( सजिल्द )ग़ज़ल का हर शे’र आजाद होने के कारण शायर के पास अपनी बात कहने के मौके ज्यादा होते हैं | वह एक ही ग़ज़ल में विभिन्न पहलुओं को उठा पाने में सफल रहता है | रूप देवगुण का गजल संग्र... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   12:06pm 11 Oct 2017 #रूप देवगुण
Blogger: Dilbag Virk
कविता-संग्रह – सिर्फ तुम से ही कवयित्री –विम्मी मल्होत्रा प्रकाशन –समर पेपरबैक्स पृष्ठ – 102 कीमत – 110 /- ( पेपर बैक )प्यार और इन्तजार की बात करती कविताओं का गुलदस्ता है ‘ विम्मी मल्होत्रा’ का प्रथम कविता-संग्रह “सिर्फ तुम से ही ” | पुस्तक का शीर्षक ही विषय वस्तु को ब्यान कर... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   12:22pm 4 Oct 2017 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
पुस्तक – मन दर्पण लेखक – माड़भूषि रंगराज अयंगर प्रकाशक – बुक बजूका कीमत – 175 /-पृष्ठ – 166 ( पेपरबैक )माड़भूषि रंगराज अयंगर कृत ‘ मन दर्पण’ 5 गद्य और 60 पद्य रचनाओं से सजा संग्रह है | इन 65 रचनाओं में लेखक ने निजी पीडाओं, निजी अनुभवों और सामाजिक मुद्दों पर अपनी लेखनी चलाई है |   &nbs... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   2:25pm 27 Sep 2017 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
कविता-संग्रह –अर्चना के उजालेकवि – ज्ञानप्रकाश ‘ पीयूष ’प्रकाशक –सुकीर्ति प्रकाशन, कैथल पृष्ठ – 160 कीमत – 400 /- ( सजिल्द )जीवन कैसा है, कैसा होना चाहिए और आदर्श जीवन के लिए कैसी जीवन शैली अपनाई जाए, इसका चिन्तन बुद्धिजीवी वर्ग करता ही है | इसी प्रकार का चिन्तन झलकता है ‘ ज्ञा... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   2:35pm 20 Sep 2017 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
Blogger: Dilbag Virk
बाल कहानी-संग्रह –बचपन के आईने सेकहानीकार – डॉ. शील कौशिक प्रकाशक – अमृत बुक्स, कैथल पृष्ठ – 88 कीमत – 250/- ( सजिल्द )बाल साहित्य लिखते समय लेखक के सामने सबसे बड़ी चुनौती होती है कि वह अपने स्तर को बच्चों के स्तर तक लेकर जाए, तभी वह बच्चों के प्रिय विषयों को चुन सकता है और विषयों... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   2:13pm 13 Sep 2017 #पुस्तक जो मैंने पढ़ी
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3941) कुल पोस्ट (195176)