POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मन के - मनके

Blogger: उर्मिला सिंह
१.सांझ की लहरों पर--- उम्मीदों की कंदीलें हैंजीवन की सुबह ढलकतीकुछ,साथ उजाला चलता है,                कंदीलों की परिछांई में—२. वैसे तो, किताबे-ए-ज़िंदगी  खुली किताब है मेरी---  हर्ज़ नहीं, पलटले वर्क इसके कोई,कभी-कभी  फ़कत,एक पन्ना,मोड कर रखा है,मैंने                       सिर्फ़ मेरे लि... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   4:22am 21 May 2012 #
Blogger: उर्मिला सिंह
बहुत सीधे-सादे रूप में जीवन का सार—बस ’इस पल का मोती मेरा है—ना भूत ना भविष्य,यही पल जीवन की सच्ची कविता है.... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   6:44am 8 May 2012 #
Blogger: उर्मिला सिंह
मुझे, अब, बुद्ध हो जाने दो----                         बिंधे हैं कांटे,पैरों के तलुओं में                         किन-किन जन्मों के पापों के                         पापों की बन सहचरी,संग मेरे                         अधखुली पलकों से,सुप्त हुई,लेटी सी                         जाने कब,जग जाए------                ... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   2:22pm 5 Jan 2012 #
Blogger: उर्मिला सिंह
तुम,आखरी रात,गुज़ारोगीआज,मेरे सहन में---                    जब,पहले दिन,ड्योढी पर,मेरे                    पडे थे,महावरी,तुम्हारे कदम                    तुमने,धान से भरे कलश को                    सिंदूरी अंगूठे से उढकाया था,यूं                                          जैसे कि,ब्याह कर लाया था          ... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   2:52pm 31 Dec 2011 #
Blogger: उर्मिला सिंह
"निरंतर" की कलम से.....: ना जाने ऐसा ये क्यों हो रहा है?... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   3:46am 17 Dec 2011 #
Blogger: उर्मिला सिंह
  कुछ यादें अमर होती है,यही नहीं,वे इतनी ताजी होती हैं कि मुंदी आंखो से,हम उन्हें ऐसे छू लेते हैं,जैसे अभी-अभी खिला फूल हो,जैसे सुबह की धूप,जाडों की सुबह में, छू कर निकल गई----ऐसी ही एक स्मृति,दशको बाद,मेरे जहन में है.मेरी हार्दिक इच्छा है,इस स्मृति को आप के साथबांट सकूं और इस म... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   4:04pm 16 Dec 2011 #
Blogger: उर्मिला सिंह
कभी-कभी,       ये यादें,उदास क्यों हो जाती हैं?       सूने तकिये पर,सिर रख कर—       छत,क्यों निहारती हैं,       और,घर से निकल, आ जाती हैं,सूनी पगडंडी परकभी-कभी,       ये यादें, उदास क्यों हो जाती हैं/       कमरे से,बाहर आकर---       खडी हो जाती हैं,       बालकनी की रेलिंग से टिक करऔर, आसमा... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   3:03pm 7 Dec 2011 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (194970)