Hamarivani.com

मयंक की डायरी

संस्मरण साहित्य की अपूर्व निधिडॉ. महेन्द्र प्रताप पाण्डेय       हिन्दी साहित्य की विभिन्न विधाओं पर आधिपत्य रखनेवाले डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ जी की संस्मरण आधारित पुस्तक ‘स्मृति उपवन’ की पाण्डुलिपि मेरे समक्ष है। ‘मयंक’ जी ने अभी तक आठ पुस्तकों का प्...
Tag :संस्मरण साहित्य की अपूर्व निधि
  July 1, 2018, 10:14 am
"मुखर होता मौन"ग़ज़ल संग्रहमेरी नज़र से"वियोगी होगा पहला कवि, हृदय से उपजा होगा गान।निकल कर नयनों से चुपचाप, बही होगी कविता अनजान।।"     आमतौर पर देखने में आया है कि जो महिलाएँ लेखन कर रही हैं उनमें से ज्यादातर चौके-चूल्हे और रसोई की बातों को ही अपने ब्लॉगपर लगाती...
Tag :समीक्षा
  July 10, 2016, 5:49 pm
भगवान बुद्ध ने लोगों को मध्यम मार्ग का उपदेश किया। उन्होंने दुःख, उसके कारण और निवारण के लिए अष्टांगिक मार्ग सुझाया। उन्होंने अहिंसा पर बहुत जोर दिया है। उन्होंने यज्ञ और पशु-बलि की निंदा की। बुद्ध के उपदेशों का सार इस प्रकार है -·         सम्यक ज्ञानबुद्...
Tag :गौतम बुद्ध का मध्यम मार्ग
  May 21, 2016, 5:29 pm
      कल जैसे ही इण्डरनेट खोला तो अविनाश वाचस्पति के निधन का दुखद समाचार पढ़ने को मिला। अविनाश जी से मेरे एक आत्मीय मित्र के सम्बन्ध थे। आघात सा लगा यह हृदयविदारक सूचना पढ़कर।     अविनाश वाचस्पति दसियों साल से हैपेटाइटिस-बी रोग की समस्या जूझ रहे थे। वह इस रोग से ...
Tag :
  February 9, 2016, 4:52 pm
साधना वैद की साधना“सम्वेदना की नम धरा पर”    जिसको मन मिला है एक कवयित्री का, वो सम्वेदना की प्रतिमूर्ति तो एक कुशल गृहणी ही हो सकती है। ऐसी प्रतिभाशालिनी कवयित्री का नाम है साधना वैद। जिनकी साहित्य निष्ठा देखकर मुझे प्रकृति के सुकुमार चितेरे श्री सुमित्रान...
Tag :सम्वेदना की नम धरा पर
  January 4, 2016, 4:12 pm
मित्रों।कवि देवदत्त "प्रसून"आज हमारे बीच नहीं हैं।लेकिन उनका साहित्य अमर रहेगा।--गत वर्ष 25 नवम्बर, 2014 को मेेरे अभिन्न मित्रदेवदत्त प्रसूनका अचानक देहान्त हो गया था। -- कल 19 सितम्बर, 2015 को सायं 4 बजे से मेरे एम.ए. के साथी और अभिन्न मित्र स्व. देवदत्त प्रसून की पुस्तक "झरी नीम ...
Tag :डोर तुम्हारे हाथों में
  September 18, 2015, 5:51 pm
खटीमा (उत्तराखण्ड)दूध में पानी मिलाने का अद्भुत् तरीका।सहकारी दुग्ध संघ चम्पावत के कर्मचारियों द्वारासरे आम बर्फ की 10 सिल्लियों को दूद के टैंकर में डाला जा रहा है।इसके दो फायदे हैं -पहला तो यह कि दूध खराब नहीं होगा।और दूसरा यह कि 7-8 कुन्टल पानी दूध में मिलाकर उसको द...
Tag :
  July 24, 2015, 10:08 am
अमर वीरांगना झाँसी की महारानी लक्ष्मीबाई की157वीं पुण्यतिथि पर उन्हें अपने श्रद्धासुमन समर्पित करते हुएश्रीमती सुभद्राकुमारी चौहान कीयह अमर कविता सम्पूर्णरूप में प्रस्तुत कर रहा हूँ!सिंहासन हिल उठे, राजवंशों ने भृकुटि तानी थी,बूढ़े भारत में भी आई फिर से नई ...
Tag :लक्ष्मीबाई की पुण्यतिथि पर
  June 17, 2015, 6:58 pm
हिन्दी के उन्नायकजयशंकर प्रसाद"हिमाद्रि तुंग श्रृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारतीस्वयंप्रभा समुज्जवला स्वतंत्रता पुकारतीअमर्त्य वीर पुत्र हो, दृढ़-प्रतिज्ञ सोच लोप्रशस्त पुण्य पंथ हैं - बढ़े चलो बढ़े चलोअसंख्य कीर्ति-रश्मियाँ विकीर्ण दिव्य दाह-सीसपूत मातृभूमि के...
Tag :व्यक्तित्व और कृतित्व
  May 30, 2015, 11:38 am
खटीमा (उत्तराखण्ड) 29 मार्च, 2015      आज दिनांक 29 मार्च, 2015 सोमवार को स्थानीय लेखक बलबीर कुमार अग्रवाल की दो पुस्तकों "इतिहास थारू-बुक्सा जनजातियों का अन्वेषण ग्रन्थ भाग-1"और "इतिहास थारू-बुक्सा जनजातियों का अन्वेषण ग्रन्थ भाग-2"का विमोचन उत्तराखण्ड सरकार के राजस्व मन्त्...
Tag :पुस्तक विमोचन
  March 29, 2015, 4:28 pm
बरसात से पूर्व घर में कुछ छुट-पुट मरम्मत का कार्य करवाना था। एक अदद राज मिस्त्री और दो मजदूरों की जरूरत थी। इन्हें लाने के लिए चौराहे पर गया। 500 रु0 प्रतिदिन मजदूरी के हिसाब से राज-मिस्त्री तो मिल गया।अब मजदूर खोजने लगे। 2-4 लोगों से कहा कि मजदूरी पर चलोगे।उन्होंने पूछा-...
Tag :लघुकथा
  January 1, 2015, 6:02 pm
आज मेरा सैमसंग गैलैक्सी एस-4 मोबाइल चोरी हो गया।हुआ यों कि मैं 3बजे घर के नीचे बने अपने ऑफिस से ऊपर घर में चाय पीने आया था। मोबाइल टेबिल पर ही छूट गया था। ऐसा अक्सर कभी-कभी हो जाता था।    लेकिन जब मैं 3-20 पर ऑफिस आया तो मोबाइल वहाँ नहीं था। कॉल करके देखा तो मोबाइल स्...
Tag :
  December 9, 2014, 9:58 pm
जयप्रकाश चतुर्वेदी का महाकाव्य"शकुन्तला-महाकाव्य”         लगभग एक वर्ष पूर्व जयप्रकाश चतुर्वेदी का महाकाव्यसंकलन मुझे प्राप्त हुआ। लेकिनव्यस्तता के कारण इस पुस्तक के बारे में कुछ लिख ही नहीं पाया। आज जब अपनी बुकसैल्फ इस पुस्तक पर नज़र पड़ी तो सोचा कि सारे काम...
Tag :पुस्तक समीक्षा
  November 18, 2014, 10:15 am
--कणिकाएँ---१-ब्लॉगिंग के सम्बन्ध एक क्लिक में शुरू एक क्लिक में बन्द-२-टूटी पतवार बीत मझधार कैसे जाएँ पार-३-तिनकों का घर खुला दर बाज़ की नजर-४-जीवन संसारचलना लगातारजैसे नदिया की धार-५-सहता है धूप,साधू का रूपसभी को भाया...
Tag :
  October 4, 2014, 4:33 pm
--कणिकाएँ---१-नेट के सम्बन्ध एक क्लिक में शुरू एक क्लिक में बन्द-२-टूटी पतवार बीच मझधार कैसे जाएँ पार-३-तिनकों का घर खुला दर बाज़ की नजर-४-जीवन संसारचलना लगातारजैसे नदिया की धार-५-सहता है धूप,साधू का रूपसभी को भाया...
Tag :
  October 4, 2014, 4:33 pm
खटीमा (उत्तराखण्ड) का पावर हाउस बह गया।--कर्मचारियों और अधिकारियों की लापरवाही से दिनांक 31-08-2014 की रात को 2-30 AM पर उत्तराखण्ड खटीमा का सबसे पुराना पावर हाउस बह गया।जिसके कारण पूरा क्षेत्र अन्धकार में डूब गया है।--विदित हो कि लोहियाहेड पावरहाउस खटीमा से मात्र 5 किमी दू...
Tag :चित्रावली
  August 31, 2014, 10:21 pm
      नैनीताल जनपद तथा आस-पास के क्षेत्र के सात्यिकारों को अखबारों से जब यह पता लगा कि बाबा नागार्जुन खटीमा आये हुए हैं तो मेरे तथा वाचस्पति जी के पास उनके फोन आने लगे।      हम लोगों ने भी सोचा कि बाबा के सम्मान में एक कवि-गोष्ठी ही कर ली जाये।(चित्र में-सनातन धर्...
Tag :स्वाभिमानी बाबा नागार्जुन
  July 15, 2014, 4:20 pm
मित्रों।फेस बुक पर मेरे मित्रों में एक श्री केवलराम भी हैं। उन्होंने मुझे चैटिंग में आग्रह किया कि उन्होंने एक ब्लॉगसेतु के नाम से एग्रीगेटर बनाया है। अतः आप उसमें अपने ब्लॉग जोड़ दीजिए। मैेने ब्लॉगसेतु का स्वागत किया और ब्लॉगसेतु में अपने ब्लॉग जोड़ने का प्रय...
Tag :
  June 24, 2014, 11:03 am
लोक उक्ति में कविता की भूमिका       कविता रावत ने कॉमर्स विषय से एम.कॉम. प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण किया है। वे घर-दफ्तर की जिम्मेदारी के साथ वर्ष 2009 से निरन्तर अपने ब्लॉग  www.kavitarawatbpl-blogspot-in  पर कविता, कहानी अथवा संस्मरण आदि के माध्यम से अपनी भावनाओं, विचार...
Tag :लोक उक्ति में कविता
  June 12, 2014, 8:08 pm
मर्मस्पर्शी हाइकुओं का संकलन है“शब्दों के पुल”    अभी एक सप्ताह पूर्व डॉ. सारिका मुकेश द्वारा रचित एक हाइकु संग्रह मिला, जिसका नाम था “शब्दों के पुल”। 83 रचनाओं से सुसज्जित 112 पृष्ठों की इस पुस्तक को जाह्नवी प्रकाशन, दिल्ली द्वारा प्रकाशित किया गया है। जिसका मूल...
Tag :शब्दों के पुल
  January 25, 2014, 5:16 pm
आओ अभिनन्दन करें, नये साल का आज।श्रमिक-किसान-जवान से, जीवित देश समाज।१। --गुलदस्ते में सजे हैं, सुन्दर-सुन्दर फूल।सुमनों सा जीवन जियें, बैर-भाव को भूल।२। --शस्य-श्यामला धरा है, जीवन का आधार।आओ पौधों से करें, धरती का शृंगार।३। --जनमानस पर कर रहे, कोटि-कोटि अहसान...
Tag :धरती का शृंगार
  December 31, 2013, 2:51 pm
      बहुत दिनों से यह तकनीकी पोस्ट लगाने की सोच रहा था। मगर  समय नहीं निकाल पा रहा था। वैसे तो यह पोस्ट सभी ब्लॉगर्स की समस्याओं को ध्यान में रखकर लिख रहा हूँ। मगर विशेषतया उन साथियों के लिए है जो चर्चा मंच के चर्चाकार हैं या चर्चाकार बनने की कतार में हैं।       ...
Tag :ब्लॉगरों के लिए उपयोगी सुझाव
  December 14, 2013, 7:41 am
लहरों का सरगम है"पानी पर लकीरें"-0-0-0-   आभासी दुनिया में कुछ ऐसे सम्बन्ध बन जाते हैं, जिनके आभास की महक से मन गद-गद हो जाता है। डॉ. सारिका मुकेश उनमें से एक हैं जो मुझे प्यार से चाचाजी कहती हैं। कुछ समय पूर्व इन्होंने मुझे अपने काव्यसंकलन "पानी पर लकीरें"की प्रति डाक ...
Tag :पुस्तक समीक्षा
  August 30, 2013, 6:22 pm
"उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचन्द की 133वीं जयन्ती पर विशेष"नाम - धनपत रायउपनाम - प्रेमचन्दजन्म - 31 जुलाई, 1880ग्राम-लमही, वाराणसी (उत्तर प्रदेश) भारतमृत्यु - 8 अक्तूबर, 1936वाराणसी (उत्तर प्रदेश)कार्यक्षेत्र - अध्यापक, लेखक, पत्रकारभाषा - हिन्दी-उर्दूकाल - आधुनिक कालविधा - कहानी और ...
Tag :जयन्ती
  July 31, 2013, 6:55 pm
न्यूज की परिभाषामित्रों!     कल मेरी अपने एक मित्र से बातें हो रही थी। बातों-बातों में समाचार पत्रों का प्रकरण भी आ गया। मैंने अपने मित्र से कहा कि पहले समाचार पत्रों के सम्वाददाता बहुत विद्वान हुआ करते थे परन्तु आजकल तो समाचारपत्रों के सम्वाददाता नगर के छँटे हुए ही...
Tag :न्यूज की परिभाषा
  May 21, 2013, 5:48 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3807) कुल पोस्ट (180841)