POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: हिन्दी साहित्य मंच

Blogger: hindisahityamanch
(विभिन्न रंगों से रंगी एक प्रस्तुति, हालिया समय का स्वरूप, गर्मी का भयावह रूप,)जालिम है लू जानलेवा है ये गर्मीकाबिले तारीफ़ है विद्दुत विभाग की बेशर्मीतड़प रहे है पशु पक्षी, तृष्णा से निकल रही जानसूख रहे जल श्रोत, फिर भी हम है, निस्फिक्र अनजानन लगती गर्मी, न सूखते जल श्रोत, ... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   2:21am 18 May 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
बरसों की खबर -खबर बनकर रह गयी गलियों की चौड़ाई सिमट गयी उपाह-फोह की आवाज कमरे में दम तोड़ दी बदल ,गयी लोग -बाक की भाषा नजरें बदल गयी नया बरस आ गया ख़बरों में नई उमंग -तरंग नए संपादक आ गए गलियां में जो हवा बह रही थी ओ हवा प्रदूषित हो गयी प्यार करने वाले पथिक अपनी राह बदल दी लोगों ... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   2:37am 4 Apr 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
तुम्हारे लिए जिहाद के मायने धर्मयुद्व है,लेकिन धर्म की परिभाषा क्या जानते हो ।जिसकी खातिर तुमने इंकलाब का नारा बुलंद किया,तोरा बोरा की पहाडियों में खाक छानते रहे,09/11 की रात अमेरिका को खून से नहलाया,आतंक का ऐसा पर्याय बने कि,यमराज को भी पसीना आया।लेकिन क्या जिहाद की भाष... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   3:57am 1 Apr 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
वैसे ही बहुत कम हैं उजालों के रास्ते,फिर पीकर धुआं तुम जीतो हो किसके वास्ते,माना जीना नहीं आसान इस मुश्किल दौर मेंकश लेके नहीं निकलते खुशियों के रास्तेजिन्नात नहीं अब मौत ही मिलती है रगड़ कर,यूँ सूरती नहीं हाथों से रगड़ के फांकते ,तेरी ज़िन्दगी के साथ जुडी कई ... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   3:07am 30 Mar 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
मैंइकलकीरबनाती अगरहोती हाथमेरे कलम,समां देती उसमेअपनेसारे सपनेऔर आशाओं के महल !इस सिरे सेउस सिरे तक -लिख देतीनाम तुम्हारेजीवन की हर इक लहर !पर एक ख्यालभर रह गयाजेहन में ये मेरे -समझ गईअब इनटूटते -टकराते -किनारोंसे में किन इकलकीर मेंसमाते हैंसपने, औरन हीकलम बनातीहै को... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   4:54pm 28 Mar 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
गांधी के सच्चे लोगों में विनोबा भावे एक ऐसा नाम है जो वास्तव में गांधी जी के कार्यों को भली प्रकार उनकी मृत्यु के बाद आगे ले गए। विनोबा ने अपने समय के उन मूल्यों और आध्यात्मिक पहलुओं पर विचार किया जो किसी गांधीवादी और सच्चे समाज सेवक के लिए मिसाल है। उनके जीवन का सबसे उ... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   2:54am 28 Mar 2012 #आलेख
Blogger: hindisahityamanch
कही दूर हमेशा-हमेशा के लिये----------------------------------वो दूंड रही थी बेचेनी में ,करुण क्रंदन के साथ,वो चिड़िया ,हाँ --------वो चिड़िया ---कल था उसका बसेरा जहाँ ,आज ढेर था पड़ा बहाँ ,सुबह सबेरे के उगते सूरज कि लालिमा ,आसमान में किसी चित्रकार कि चित्रकारी का नमूना सी दिखाई देती थी जहाँ,कोयल कि तान ... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   4:50am 23 Mar 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
जबसे तेरी यादों में दिल को बहलाना सीख लियाहमने मुहब्बत में खोकर भी पाना सीख लियाजब धड़कन-२ भीगी गम से, सांसे भी चुभने लगीदर्द की चिंगारी को बुझाने के लिए आंसू बहाना सीख लियातरसी-२ प्यासी-२ भटकती हैं मेरी नजरें इधर उधरजबसे तेरी आँखों ने संयत अदा में शर्मना सीख लियाजबसे ... Read more
clicks 219 View   Vote 0 Like   9:02am 17 Mar 2012 #गजल
Blogger: hindisahityamanch
नई दिल्ली। ‘नागरी लिपि पूर्णतयः वैज्ञानिक एवं विश्व की सर्वश्रेष्ठ लिपि है। भारत की सभी भाषाओं की एक अतिरिक्त लिपि के रूप में यह राष्ट्रीय एकता का सेतूबंध है इसलिए मैंने संसद सदस्य के रूप में पेश अपे प्राईवेट बिल के द्वारा हर भारतीय नागरिक के लिए इसका प्रशिक्षण अन... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   8:25am 13 Mar 2012 #लेख
Blogger: hindisahityamanch
वैसे ही बहुत कम हैं उजालों के रास्ते,फिर पीकर धुआं तुम जीतो हो किसके वास्ते,माना जीना नहीं आसान इस मुश्किल दौर मेंकश लेके नहीं निकलते खुशियों के रास्तेजिन्नात नहीं अब मौत ही मिलती है रगड़ कर,यूँ सूरती नहीं हाथों से रगड़ के फांकते ,तेरी ज़िन्दगी के साथ जुडी कई ... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   1:32pm 10 Feb 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
जन्नत मुजको दिला दी जिसने दुनिया मैंवो हे मेरी माँदुनिया मैं जीने का हक दिया मुजकोवो हे मेरी माँकचरे का डेर नदिया किनारा था मेरामुजको अपनी दुनिया लीवो हे मेरी माँरात का अंधेरा मेरी आखो का डरमेरे डर मेरी ताकत बनीवो हे मेरी माँमैं डर क़र ना सोया पूरी रात कभीमेरे लिए जाग... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   8:04am 6 Feb 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
सब जानते प्रभु तो हैप्रार्थना ये कैसी?किस्मत की बात सच तो नित साधना ये कैसी?जितनी भी प्रार्थनाएं इक माँग-पत्र जैसायदि फर्ज को निभाते फिर वन्दना ये कैसी?हम हैं तभी तो तुम हो रौनक तुम्हारे दर पेचढ़ते हैं क्यों चढ़ावा नित कामना ये कैसी?होती जहाँ पे पूजा हैं मैकदे भी रौशनद... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   10:13am 24 Jan 2012 #कविता
Blogger: hindisahityamanch
जब मैं नमाज नहीं पढ़ता थाखुदा मेरा दोस्त था...जब भी कोई काम पड़ता थालड़ता था झगड़ता थाखुदा मेरा दोस्त था...जब भी परेशां होता थामेरा काम बना देता थाखुदा मेरा दोस्त था...जब से नमाज पढ़ने लगा हूँवो बड़ा आदमी हो गया हैउसका रुतबा बड़ा हो गया हैमुझसे दूर जा बैठा हैअब भी मेरी दुआएँहोती ह... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   8:28am 21 Jan 2012 #कविता
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4020) कुल पोस्ट (193830)