POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: चर्चामंच

Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन। रविवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।आज चर्चामंच की ओर से अतिथि चर्चाकार के रूप में प्रस्तुति लेकर आई हैं वरिष्ठ ब्लॉगर एवं लेखिका आदरणीया कुसुम कोठारी जी। आज अपनी पसंद के ब्लाॅग चुनने का मौका मिला मन प्रसन्न तो था पर डर भी लग रहा था, क्योंकि इतने स... Read more
clicks 4 View   Vote 0 Like   6:31pm 31 Jul 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 आज आपके सम्मुख कुछ चुनिंदारचनाएँ ले कर आई हूँ ।भाव रूपी खग जब प्रसन्न चित्तहो बंधन रहित उड़ते हैं, तो निसर्ग कितना सुंदर दिखता है।सबकुछ मनभावन सा होता है।मन खुश हो तो प्रकृति के हर कलाप में सौन्दर्य दर्शन होता है।मन में आह्लाद का सागर हिलोरें लेता है, और लेखनी प्र... Read more
clicks 8 View   Vote 0 Like   6:31pm 19 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 शीर्षक पंक्ति: आदरणीया मीना भारद्वाज जी। सादर अभिवादन। शनिवारीय  प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज प्रस्तुति की शीर्षक पंक्ति व काव्यांश आ. मीना भारद्वाज जी  की रचना से -तुम्हारा नेह भीहवा-पानी सरीखा  हैचाहने पर  भी पल्लू के छोर सेबंधता नही... Read more
clicks 16 View   Vote 0 Like   6:31pm 18 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! शुक्रवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन !  आज की चर्चा का शीर्षक  आ.डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक'जीकी ग़ज़ल "बहारों के चार पल'से लिया गया है।--आइए अब बढ़ते हैं आज की चर्चा के सूत्रों की ओर"बहारों के चार पल" (डॉ.... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   6:31pm 17 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 शीर्षक पंक्ति: आदरणीया डॉ. जेन्नी शबनम जी। सादर अभिवादन। बुधवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज प्रस्तुति की शीर्षक पंक्ति व काव्यांश आ.डॉ. जेन्नी शबनम जी की रचना से -स्मृति में तुम   जैसे फैला आकाश   सुवासित मैं।   आइए पढ़ते हैं आज की ... Read more
clicks 20 View   Vote 0 Like   6:31pm 15 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है(शीर्षक आदरणीया सधु चंद्र जी  की रचना से )यदि खुद खुद को तलाशने की प्यास जग जाए तो खुद को पा लेना निश्चित है.... खुद को पा लिया तो जीवन धन्य हुआ.....मगर, खुद पर नजर ही तो नहीं पड़ती कमबख्त ये नजर, दुसरो से हटती ... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   6:31pm 14 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
शीर्षक पंक्ति: आदरणीय डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'जी की रचना से।  सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।आइए पढ़ते हैं आज की चंद चुनिंदा रचनाएँ- "हम बसे हैं पहाड़ों के परिवार में" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")दर्द सहते हैं और आह भरते नही,ये कभी सत्... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   6:31pm 13 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 शीर्षक पंक्ति: आदरणीय विशाल चर्चित जी। सादर अभिवादन। शनिवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज प्रस्तुति की शीर्षक पंक्ति व काव्यांश  आदरणीय विशाल चिर्चित जी की रचना से -सोनू यार मोनू यारबारिश कितनी अच्छी यार,मम्मी बोली नहीं भीगनाछतरी कितनी छोटी य... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   6:31pm 11 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 शीर्षक पंक्ति: आदरणीया कल्पना मनोरमा जी। सादर अभिवादन। बुधवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज प्रस्तुति की शीर्षक पंक्ति व काव्यांश आ.कल्पना मनोरमाजी की रचना से -सब जाते अवसान में, कुटी महल प्रासाद।लिप्सा जो अमरत्व कीमन का वह अवसाद।।आइए पढ़ते है... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   6:31pm 8 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
शीर्षक पंक्ति: आदरणीय डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'जी की रचना से। सादरअभिवादन।सोमवारीयप्रस्तुतिमेंआपकास्वागतहै।( चर्चा अंक 4089) आइएपढ़तेहैंविभिन्नब्लॉग्सपरप्रकाशित कुछचुनिंदारचनाएँ-"अबतोमिलनेंमेंभीलगेपहरे" (डॉ.रूपचन्द्रशास्त्री"मयंक")शूलबिखरेहुएहैंराह... Read more
clicks 37 View   Vote 0 Like   8:46pm 6 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है(शीर्षक आदरणीय संदीप जी  की रचना से )आप सभी को पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनायें मगर सोचती हूँ क्या सिर्फ शुभकामनायें देने भर से पर्यावरण में बदलाव हो जायेगा ?यकीनन नहीं, तो हमें कुछ तो अपनी तरफ से ... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   6:31pm 5 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 शीर्षक पंक्ति: आदरणीया सुनीता अग्रवाल 'नेह'जी। सादर अभिवादन। शनिवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज प्रस्तुति की शीर्षक पंक्ति व काव्यांश आ.सुनीता अग्रवाल 'नेह'जी की रचना से सुनो न बादलतुम आते रहनामानवता का हास देखकरकाल का निर्मम त्रास देखकरपाष... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   6:31pm 4 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! शुक्रवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन !  आज की चर्चा का शीर्षक  "मौन प्रभाती"आ.अनीता सैनी जी की रचना से लिया गया है।--आइए अब बढ़ते हैं आज के चर्चा सूत्रों की ओर"दोहों में कुछ ज्ञान" -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'म... Read more
clicks 34 View   Vote 0 Like   6:31pm 3 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है जीवन साथी साथ निभानापुलकितासच्चे हमसफ़रप्रकृति चितेरी तीन तोते मॉकटेल'-सी नाकसच्ची मित्रताकवितामय व्यक्तित्व विजेन्द्रभुलाने के लिए लिखनाभोंदूकोरोना वैक्सीनों को पेटेंट-मुक्त करने की माँग*मैं गम सजाना भी जानता हूँ*... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   7:00pm 2 Jun 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है(शीर्षक और भूमिका आदरणीया अनीता सुधीर जी की रचना से ) "भोजन का निर्माण कर ,वृक्ष करे उपकार।प्राणवायु देते सदा ,जो जीवन आधार ।।""वृक्ष "प्राणवायु देने के आधार है और ये बात पिछले कुछ दिनों से प्रकृति हमें भली-भ... Read more
clicks 78 View   Vote 0 Like   6:31pm 31 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन। गुरुवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। भारत करोना से लड़ रहा है इज़राइल आत्मरक्षा का कवच ओढ़कर फिलिस्तीन से लड़ रहा हैलड़ते-लड़ते कभी न थकेगी दुनिया।   आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित चंद ताज़ा-तरीन रचनाएँ-"सुखी जीवन का मन्त्र" (डॉ.र... Read more
clicks 44 View   Vote 0 Like   2:52pm 20 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन। मंगलवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित चंद चुनिंदा रचनाएँ- "कष्ट-क्लेश का होगा नाश।" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")आना है तो जाना होगा,कुदरत का कानून अटल है,निर्मल-नीर बहाना होगा,जब तक सरिताओं में जल है,विदा ... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   4:35pm 18 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। करोना-काल की भयावहता से गुज़रते भारत में जिजीविषा का संघर्ष जारी है।महत्त्वपूर्ण सूचना              आज चर्चामंच अपने नियमित सुधी पाठकों से एक निवेदन करना चाहता कि करोना महामारी के चलते हमारे चर्चाक... Read more
clicks 42 View   Vote 0 Like   6:30pm 16 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! रविवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक अभिनन्दन करती हूँ !आज की चर्चा का शीर्षक आ. शास्त्री सर द्वारा सृजित  पुरानी रचना   "हम बसे हैं पहाड़ों के परिवार में"से लिया गया है ।--आइए अब बढ़ते हैं आज के चयनित सूत्रों की ओर-"हम बसे हैं प... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   6:31pm 15 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 सादर अभिवादन। शनिवारीय चर्चा अंक में आपका स्वागत है। आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित चंद चुनिंदा रचनाएँ-ग़ज़ल "राह में चलते-चलते" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')मंजिल सभी को है चलने से मिलतीठहरना नहीं, राह में चलते-चलते रखना नजर प... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   6:31pm 14 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! शुक्रवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन !  आज की चर्चा का शीर्षक "आ चल के तुझे, मैं ले के चलूँ:"विकास नैनवाल 'अंजान'जीलेख से लिया गया है।--आइए अब बढ़ते हैं आज के चर्चा सूत्रों की ओर-"अनुभावों की छिपी धरोहर"गीत और ... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   6:31pm 13 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है भारत के लिए परीक्षा की घड़ी है और साथ ही यह मानवता के लिए भी| सोशल मीडिया पर रोज मित्रों का बिछुड़ना आहत करता है, लेकिन सांत्वना भरे बोलों के सिवा देने को कुछ नहीं| हाँ, दुआ की जा सकती है| दुआ करते रहो, शायद यह किसी के काम आए चलते हैं ... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   7:00pm 12 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है (शीर्षक आदरणीय शास्त्री सर की रचना से )ग़ज़ल "कल हो जाता आज पुराना" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री )सुमन सीख देते हैं सबकोआज खिले कल है मुरझाना“रूप” न टिकता कभी किसी काक्षमा न करता कभी ज़माना -------------------"कब बोल... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   6:31pm 10 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज चर्चा की शीर्षक पंक्ति -'फ़िक्र से भरी बेटियां माँ जैसी हो जाती हैं'  आ. प्रतिभा कटियार 'जीके सृजन से ली गई है ।मातृ दिवस के उपलक्ष्य में आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ । आइए पढ़ते हैं आज की कुछ चुनिंदा रच... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   6:31pm 9 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! रविवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक अभिनन्दन !आज चर्चा की शीर्षक पंक्ति -"माँ के आँचल में सदा, होती सुख की छाँव।।"  आ. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'जीके दोहे से ली गई है ।मातृ दिवस के उपलक्ष्य में आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभका... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   6:31pm 8 May 2021 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194459)