POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: उच्चारण

Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--जीवनभर रहते सभी, इस दुनिया में शिष्य।जो त्रुटियों से सीख ले, उसका बने भविष्य।।--होती केवल सादगी, जीवन का आधार।दर्प भला किस बात का, जीवन के पल चार।।--कृत्रिमता की चमक से, जो रहता है दूर।उसको जीवन में मिलें, सुख-साधन भरपूर।।--कभी नहीं जो छोड़ता, आशाओं का साथ।वो मानव होता नही... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   7:30pm 24 Sep 2020 #होना नहीं निराश
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
खेल-कूद में रहे रात-दिन,अब पढ़ना मजबूरी है।सुस्ती - मस्ती छोड़,परीक्षा देना बड़ा जरूरी है।।--मात-पिता,विज्ञान,गणित है,ध्यान इन्हीं का करना है।हिन्दी की बिन्दी को,माता के माथे पर धरना है।।--देव-तुल्य जो अन्य विषय है,उनके भी सब काम करेगें।कर लेंगें, उत्तीर्ण परीक्षा,अपन... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   7:30pm 23 Sep 2020 #बालकविता
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 "कुछ महत्वपूर्ण जानकारियाँ"       काव्य में रुचि रखने वालों के लिए और विशेषतया कवियों के लिए तो गणों की जानकारी होना बहुत जरूरी है ।गण आठ माने जाते हैं!१ - य - यगण२ - मा - मगण३ - ता - तगण४ - रा - रगण ५ - ज - जगण६ - भा - भगण७ - न - नगण ८ - स - सगण - सलगा       इसके लिए मैं एक सूत... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   10:28am 22 Sep 2020 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--सूरज चमका नील-गगन में।फैला उजियारा आँगन में।।काँधे पर हल धरे किसान। करता खेतों को प्रस्थान।।मेहनत से अनाज उपजाता।यह जग का है जीवन दाता।।खून-पसीना बहा रहा है।स्वेद-कणों से नहा रहा है।।जीवन भर करता है काम।लेता नही कभी विश्राम।।चाहे सूर्य अगन बरसाये।चाहे घटा गगन म... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   1:52am 21 Sep 2020 #बालकविता
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--दूरिया कम करो फासले मत करो।खाज में कोढ़ के दाखले मत करो।।--दौलतें बढ़ गईं दिल हुए तंग है,कालिमा चढ़ गई, नूर बे-रंग है,आग के ढेर पर घोंसले मत धरो।खाज में कोढ़ के दाखले मत करो।।--मन में बैठे कुटिल पाप को कम करो,बनके बादल सघन ताप को कम करो,फूट और लूट के हौंसले मत करो।खाज में को... Read more
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--धान्य से भरपूर,खेतों में झुकी हैं डालियाँ।धान के बिरुओं ने,पहनी हैं नवेली बालियाँ।।--क्वार का आया महीना,हो गया निर्मल गगन,ताप सूरज का घटा,बहने लगी शीतल पवन,देवपूजन के लिए,सजने लगी हैं  थालियाँ। धान के बिरुओं ने,पहनी हैं नवेली बालियाँ।। -- थम गई बरसात, अब मौसम ... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   6:39am 18 Sep 2020 #गीत
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 --गाँधी और पटेल ने, जहाँ लिया अवतार।मोदी का गुजरात ने, दिया हमें उपहार।।--देवताओं से कम नहीं, होता है देवेन्द्र।सौ सालों के बाद में, पैदा हुआ नरेन्द्र।।--साधारण परिवार का, किया चमन गुलजार।मोह छोड़ संसार का, त्याग दिया घर-बार।।--युगों-युगों के बाद में, लेते जन्म सपूत।दया... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   1:18am 17 Sep 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
।१।जानते हैं सच तभी तो मौन हैं वो,और ज्यादा क्या कहें हम कौन हैं वो।जो हमारे दिल में रहते थे हमेशा-हरकतों से हो गए अब गौण हैं वो।।।२।दिल तो सूखा कुआँ नहीं होता,बिन लिखे मजमुआँ नहीं होता।लोग पल-पल की ख़बर रखते हैं-आग के बिन धुँआ नहीं होता।।।३।उनकी सौगात बहुत दूर गई,लगता ह... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   12:58am 16 Sep 2020 #पाँच मुक्तक
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
भाषा के आकाश पर, बादल हैं घनघोर।अँगरेजी भी है लचर, हिन्दी भी कमजोर।। --अँगरेजी का हो रहा, भारत में परित्राण।नौकरशाहों के चले. निज भाषा पर बाण।। --शब्दों का अम्बार है, लेकिन है उलझाव।आते मस्तक में नहीं, अब तो नूतन भाव।।-- लिखता कविता-दोहरे, रचता रहता गीत।चौथेपन में कर र... Read more
clicks 25 View   Vote 0 Like   7:30pm 14 Sep 2020 #हिन्दी है कमजोर
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
तोड़ दीजिए मिथक सब, भाषा करे पुकार।हिन्दी को दे दीजिए, अब उसका अधिकार।।ओ काशी के सांसद, संसद के शिरमौर।विदा करो अब देश से, अँगरेजी का दौर।।है कठिनाई कौन सी, क्यों हो अब लाचार।पूरे बहुमत की मिली, तुमको है सरकार।।हिन्दी-हिन्दुस्थान हो, जिस दल का आधार।हिन्दी को दे दीजि... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   1:30am 13 Sep 2020 #हिंग्लिश रही दबोच
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--मन में जब उगने लगे, विष की पापी बेल।चूहे-बिल्ली का  शुरू, तब होता है खेल।।--माया नगरी में बढ़ी, आपस में तकरार।बड़बोलेपन से नहीं, लोग मानते हार।।--एक तीर से हो रहे, बिना लक्ष्य के वार।लड़ती हैं नेपथ्य में, दोनों ही सरकार।।--दो पाटों के बीच में, पिसता निरअपराध।कँगना की ... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   11:30pm 10 Sep 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
     मेरा नगर खटीमा         भारत के उत्तराखण्ड राज्य में ऊधम सिंह नगर जनपद की एक तहसील है खटीमा। ऊधम सिंह नगर जनपद के पूर्वी भाग में स्थित इस तहसील का मुख्यालय खटीमा नगर में स्थित हैं। इसके पूर्व में नेपाल, पश्चिम में सितारगंज तहसील, उत्तर में... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   1:55am 9 Sep 2020 #जानिए मेरे खटीमा को भी
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--गाँव-नगर में बना दो, शिक्षा का परिवेश।अलख जगा दो ज्ञान की, करो साक्षर देश।।--कोई व्यक्ति नहीं रहे, यहाँ अँगूठा-छाप।पढ़ने-लिखने के बिना, जीवन है अभिशाप।।--आज साक्षरता दिवस को, मना रहा संसार।शिक्षित करो समाज को, दिवस करो साकार।।--दीप जलाकर ज्ञान का, दूर करो अज्ञान।जाकर निर... Read more
clicks 25 View   Vote 0 Like   12:46am 8 Sep 2020 #विश्व साक्षरता दिवस
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--दादा जी का था कभी, देखा जैसा रूप।वैसा ही अनुमान से, बना दिया प्रतिरूप।।--दादा-दादी का नहीं, घर में कोई चित्र।मन में मेरे है बसा, उनका मात्र चरित्र।।--फोटोग्राफी उस समय, रही चलन से दूर।चित्राकंन से इसलिए, रहा आम मजबूर।।--दादी को देखा नहीं, कैसा था आकार।मन ही मन करता उन... Read more
clicks 28 View   Vote 0 Like   8:30pm 6 Sep 2020 #दोहे
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
ऊँची दूकानफीका पकवानफिर भी चल रहीं हैं शिक्षा की दुकानआज के युग मेंबिकता है ज्ञानयही तो हैशिक्षा की पहचानविद्याएँ लुप्तप्रायःछात्र कहाँ जायेंशिक्षा का शोरट्यूशन का जोरसजी हैं दूकानेंलोग लगे हैं कमाने-खानेगुरू गायबविद्यालयों की भरमारजगत-गुरू केअच्छे नही हैं ... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   8:30pm 4 Sep 2020 #आज शिक्षक दिवस है
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--राधाकृष्णन आपको, नमन हजारों बार।शिक्षक दिन का आपने, दिया हमें उपहार।।--सच्ची निष्ठा से सुखद, मिलते हैं परिणाम।गुरुओं का दिन आ गया, कर लो उन्हें प्रणाम।।--परम्परा मत समझना, अध्यापक का वार।पाँच सितम्बर को करो, गुरुओं का आभार।।--मात-पिता आचार्य का, करना आदर-मान।गुरुओं ... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   6:25am 4 Sep 2020 #शिक्षक दिवस
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
-- जितने ज्यादा आघात मिले,उतना ही साहस पाया है।मृदु मोम बावरे मन को अब,मैंने पाषाण बनाया है।।--था कभी फूल सा कोमल जो,सन्तापों से मुरझाता था,पर पीड़ा को मान निजी,आकुल-व्याकुल हो जाता था,इस दुनिया का व्यवहार देख,पथरीला पथ अपनाया है।मृदु मोम बावरे मन को अब,मैंने पाषाण बनाय... Read more
clicks 22 View   Vote 0 Like   8:30pm 2 Sep 2020 #गीत
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
संस्मरण(बाबा नागार्जुन और मेरा परिवार)        अपनी यादों के पिटारे में से मैं आज एक संस्मरण साझा कर रहा हूँ। बात सन् 1989 की है। उन दिनों जनकवि बाबा नागार्जुन मेरे निवास पर ठहरे हुए थे। वे हम लोगों को अपनी बहुत सारी रचनाएँ भी सुनाते थे।        मेरे दोनों ... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   12:46pm 1 Sep 2020 #संस्मरण
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
-- ज़िन्दगी को आज खाती है सुरा।मौत का पैगाम लाती है सुरा।।--पेट में जब पड़ गई दो घूँट हाला,प्रेयसी लगनी लगी हर एक बाला,जानवर जैसा बनाती है सुरा।मौत का पैगाम लाती है सुरा।।--ध्यान जनता का हटाने के लिए,नस्ल को पागल बनाने के लिए,आज शासन को चलाती है सुरा,मौत का पैगाम लात... Read more
clicks 37 View   Vote 0 Like   1:48am 31 Aug 2020 #शासन को चलाती है सुरा
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
मित्रों!       जब से मुखपोथी (फेसबुक) पर "लाइव काव्यपाठ" नया विकल्प आया है, तब से लगभग सभी समूहों में ऑनलाइन काव्यपाठ करवाने की होड़ लग गयी है। अच्छी बात है और लोग सुनने के लिए जुड़ भी जाते हैं।  कुछ समय के लिए तो श्लेरोता दत्तचित् होकर सुनते हैं लेकिन जैसे-जैसे स... Read more
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--आ गई बरसात तो,अमरूद गदराने लगे।स्वच्छ जल का पान कर,डण्ठल पे इतराने लगे।।--डालियों पर एक से हैं,रंग में और रूप में।खिल रहे इनके मुखौटे,गन्दुमी सी धूप में।।--कुछ हैं छोटे. कुछ मझोले,कुछ बड़े आकार के।मौन आमन्त्रण सभी को,दे रहे हैं प्यार से।--किसी का मन है गुलाबी,और किसी ... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   10:29am 28 Aug 2020 #बालकविता
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--धधक उठा उठा है आपदा से,हमारे उपवन का कोना-कोना।बहक उठी क्यारियाँ चमन में,दहक रहा है चमकता सोना।।--चमक रहा है गगन-पटल पर,सात-रंगी धनुष निराला,बरस रहे हैं बदरवा रिम-झिम,निगल रहे हैं दिवस उजाला,नजर जमाने की लग न जाए,लगाया नभ पर बड़ा डिठोना।बहक उठी क्यारियाँ चमन की,दहक रहा है... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   2:11am 28 Aug 2020 #डरा रहा देश को है करोना
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--जलने को परवाना आतुर, आशा के दीप जलाओ तो।कब से बैठा प्यासा चातक, गगरी से जल छलकाओ तो।।--मधुवन में महक समाई है, कलियों में यौवन सा छाया,मस्ती में दीवाना होकर, भँवरा उपवन में मँडराया,मन झूम रहा होकर व्याकुल, तुम पंखुरिया फैलाओ तो।कब से बैठा प्यासा चातक... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   1:54am 27 Aug 2020 #गीत
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--हर सिक्के के दो पहलू हैं, उलट-पलटकर देख ज़रा।बिन परखे क्या पता चलेगा, किसमें कितना खोट भरा।।--हर पत्थर हीरा बन जाता, जब किस्मत नायाब हो,मोती-माणिक पत्थर लगता, उतर गई जब आब हो,इम्तिहान में पास हुआ वो, तपकर जिसका तन निखरा।बिन परखे क्या पता चलेगा, किसमें कितना खोट भरा।।--नंगे ... Read more
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
--त्यौहारों की धूम मची है,पर्व नया-नित आता है।परम्पराओं-मान्यताओं की,हमको याद दिलाता है।।--उत्सव हैं उल्लास जगाते,सूने मन के उपवन में,खिल जाते हैं सुमन बसन्ती,उर के उजड़े मधुवन में,जीवन जीने की अभिलाषा,को फिर से पनपाता है।परम्पराओं-मान्यताओं की,हमको याद दिलाता है।।--भा... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   1:20am 23 Aug 2020 #गीत
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3982) कुल पोस्ट (191477)