Hamarivani.com

उच्चारण

प्रीत की पोथियाँ बाँचते-बाँचते,झुक गयी है कमर,ढल गयी है उमर।फासलों की फसल काटते-काटते,झुक गयी है कमर,ढल गयी है उमर।।मन तो है चिरयुवा,तन शिथिल पड़ रहा।बूढ़ा बरगद अभी,जंग को लड़ रहा।सुख की सौगात को बाँटते-बाँटते,झुक गयी है कमर।ढल गयी है उमर।।नेह की आस में,बातियाँ जल रहीं।...
Tag :ढल गयी है उमर
  March 24, 2017, 4:00 am
दर्द की छाँव में मुस्कराते रहेफूल बनकर सदा खिलखिलाते रहेहमको राहे-वफा में ज़फाएँ मिलीज़िन्दग़ी भर उन्हें आज़माते रहेदिल्लगी थी हक़ीक़त में दिल की लगीबर्क़ पर नाम उनका सजाते रहेजब भी बोझिल हुई चश्म थी नींद सेख़्वाब में वो सदा याद आते रहेपास आते नहीं, दूर जाते नहींअप...
Tag :फूल बनकर सदा खिलखिलाते रहे
  March 23, 2017, 4:00 am
जल में-थल में, नीलगगन में,जो कर देता है उजियारा।सबकी आँखों को भाता है,रूप तुम्हारा प्यारा-प्यारा।।कलियाँ चहक रही उपवन में,गलियाँ महक रही मधुबन में,कल-कल, छल-छल करती धारा।सबकी आँखों को भाता है,रूप तुम्हारा प्यारा-प्यारा।।पंछी कलरव गान सुनाते,मेढक टर्र-टर्र टर्राते,खिल...
Tag :गीत
  March 22, 2017, 6:14 am
दुनियाभर में छा गया, अपना भगवा रंग।जीवन शैली के यहाँ, बदलेंगे अब ढंग।।--आता जब अच्छा समय, होता सब अनुकूल।खिलते जाते हैं पंक में, कमल-कुमुद के फूल।।--अच्छे कामों में सदा, आते हैं अवरोध।चूहें-छिपकलियाँ करें, रवि का बहुत विरोध।।--सूरज रखता है नहीं, कभी किसी से बैर।वसुन्...
Tag :दोहे
  March 21, 2017, 7:19 am
 मोम कभी हो जाता है, तो पत्थर भी बन जाता है।दिल तो है मतवाला गिरगिट, “रूप” बदलता जाता है।।कभी किसी की नहीं मानता,प्रतिबन्धों को नहीं जानता।भरता है बिन पंख उड़ानें,जगह-जगह की ख़ाक छानता।वही काम करता है यह, जो इसके मन को भाता है।दिल तो है मतवाला गिरगिट, “रूप” बदलता जाता ह...
Tag :दिल तो है मतवाला गिरगिट
  March 20, 2017, 5:56 am
बढ़ जाता है हौसला, जब हो जाती जीत।मन में अगर उमंग हो, बज उठता संगीत।--अगर इरादे नेक हों, होती नहीं थकान।सादा भोजन भी लगे, मानो हो पकवान।।--जनता जिसके साथ है, उसके सुधरें हाल।मेहनत बिन मिलता नही, जग में भोजन थाल।।--सत्ता-शासन में कभी, मत होना मग़रूर।हर सम्भव अभिलाष को, क...
Tag :दोहे
  March 18, 2017, 7:35 am
लेखन से बढ़ कर नहीं, कोई भी आनन्द।नियमित लेखन का कभी, काम न करना बन्द।।--जो लिखते हैं नियम से, मन के सब अनुभाव।उनके मन में भाव का, होता नहीं अभाव।।--मानव ही तो जगत में, करता प्रकट विचार।भगवन ने इंसान में, ताकत भरी अपार।।--बहता पानी ही करे, कल-कल शब्द निनाद।कामों से ही व्यक्ति ...
Tag :दोहे
  March 17, 2017, 7:30 am
खेतों में बिरुओं पर जब, बालियाँ सुहानी आती हैं।जनमानस के अन्तस में तब, आशाएँ मुस्काती हैं।।सोंधी-सोंधी महक उड़ रही गाँवों के गलियारों में,रंगों की बौछार हो रही आँगन में, चौबारों में,बैसाखी-होली की खुशियाँ घर-घर में छा जाती हैं।जनमानस के अन्तस में तब, आशाएँ मुस्काती है...
Tag :गीत
  March 16, 2017, 7:05 am
पावन होली खेलकर, लोग हो गये दंग।रंगों के त्यौहार में, दिखे निराले ढंग।।--अबकी होली में चला, केसरिया का रंग।कीर्तिमान सब हो गये, पहले के सब भंग।।--जली होलिका आग में, बचा भक्त प्रहलाद।जीवन में सबके भरा, प्यार और उन्माद।।--गुझिया-पापड़ कुरकुरे, खाया था मिष्ठान।रंग-गुलाल लग...
Tag :दोहे
  March 15, 2017, 6:17 am
बौराई गेहूँ की काया,फिर से अपने खेत में।सरसों ने पीताम्बर पाया,फिर से अपने खेत में।।हरे-भरे हैं खेत-बाग-वन,पौधों पर छाया है यौवन,झड़बेरी ने "रूप"दिखाया,फिर से अपने खेत में।।नये पात पेड़ों पर आये,टेसू ने भी फूल खिलाये,भँवरा गुन-गुन करता आया,फिर से अपने खेत में।।धानी-धानी ...
Tag :गीत
  March 13, 2017, 6:57 pm
 गाँव-गली और बाजारों में घूम रहीं हैं टोली।हुल्लड़ और धमाल मचाने, फिर से आई होली।।कोई पीकर भंग नाचता, कोई सुरा चढ़ाए,कोई राग-रागनी गाता, कोई ढोल बजाए,मस्तक-चेहरों पर चित्रित है लाल-हरी रंगोली।हुल्लड़ और धमाल मचाने, फिर से आई होली।।पश्चिम से पछुवा चलती है, पूरब से पुरवा...
Tag :फिर से आई होली
  March 13, 2017, 4:30 am
सजी हैं खेतों में रंगोली।आओ अब हिल-मिल खेलें होली।।नहीं भड़कने देंगे नफरत की मतवाली आग,शीतल जल की बौछारों से खेलेंगें हम फाग,प्यार की बोलो मीठी बोली।आओ अब हिल-मिल खेलें होली।।उनको रंग लगाएँ, जो भी खुश होकर लगवाएँ,बूढ़ों और असहायों को हम, बिल्कुल नहीं सताएँ,करें मर्याद...
Tag :सजी हैं खेतों में रंगोली
  March 12, 2017, 11:58 am
उड़ते रंग अबीर-गुलाल!खेलते होली मोहनलाल!!कोई गावे मस्त रागनी, कोई ढोल बजावे,मस्ती में भर करके राधा अपना नाच दिखावे,बजाते ग्वाले हैं खड़ताल!खेलते होली मोहनलाल!!भोली बालाओं को, कान्हा बहलावें-फुसलावें,धोखे से आ करके उनके मुँह पर रंग लगावें,गोपियों के बिगड़े हैं हाल!ख...
Tag :मचा है चारों ओर धमाल
  March 12, 2017, 4:00 am
आँचल में प्यार लेकर, भीनी फुहार लेकर. आई होली, आई होली, आई होली रे! चटक रही सेंमल की फलियाँ, चलती मस्त बयारें। मटक रही हैं मन की गलियाँ,  बजते ढोल नगारे। निर्मल रसधार लेकर, फूलों के हार लेकर, आई होली, आई होली, आई होली रे! मीठे सुर में बोल रही है, बागों मे...
Tag :होली गीत
  March 11, 2017, 3:42 pm
नहीं जानता कैसे बन जाते हैं,मुझसे गीत-गजल।जाने कब मन के नभ पर,छा जाते हैं गहरे बादल।।ना कोई कॉपी ना कागज,ना ही कलम चलाता हूँ।खोल पेज-मेकर को,हिन्दी टंकण करता जाता हूँ।।देख छटा बारिश की,अंगुलियाँ चलने लगतीं है।कम्प्यूटर देखा तो उस पर,शब्द उगलने लगतीं हैं।।नजर पड़ी टीवी...
Tag :दिन आ गये हैं प्यार के
  March 11, 2017, 4:00 am
होली आई, होली आई,गुजिया, मठरी, बरफी लाई   मीठे-मीठे शक्करपारे,सजे -धजे पापड़ हैं सारे,चिप्स कुरकुरे और करारे,दहीबड़े हैं प्यारे-प्यारे,  तन-मन में मस्ती उभरी है,पिस्ता बरफी हरी-भरी है  पीले, हरे गुलाल लाल हैं,रंगों से सज गये थाल हैं.  कितने सुन्दर, कितने चंचल,...
Tag :होली का मौसम आया है
  March 10, 2017, 5:42 am
आया महिला दिवस तो, लगे चहकने बोल।एक दिवस के लिए सब, बजा रहे हैं ढोल।।--नारी नर की खान है, सब देते सन्देश।सिर्फ सुनाने के लिए, उनके हैं उपदेश।।--कहने भर को है यहाँ, महिलाओं का मान।रोज-रोज होता यहाँ, नारी का अपमान।।--कुछ महिलाएँ हैं अभी, दुनिया से अनजान।घर के बाहर नहीं है, उनकी ...
Tag :दोहे
  March 9, 2017, 7:17 am
कितने हसीन फूल, खिले हैं पलाश मेंफिर भी भटक रहे हैं, चमन की तलाश मेंपश्चिम की गर्म आँधियाँ, पूरब में आ गयीग़ाफ़िल हुए हैं लोग, क्षणिक सुख-विलास मेंजब मिल गया सुराज तो, किरदार मर गयाशैतान सन्त सा सजा, उजले लिबास मेंक़श्ती को डूबने से, बचायेगा कौन अबशामिल हैं नयी पीढ़ियाँ, ...
Tag :प्रकाशन
  March 7, 2017, 7:16 pm
बच्चे गुझिया बना रहे हैं,होली की है तैयारी।दहीबड़े, पापड़-मठरी की,कल को आयेगी बारी।। जब गुझिया बन जायेंगी,तब इन को तल देगी दादी,खाने-पीने, मौज मनाने की,होली पर आजादी,खेत-बाग-वन चहक रहे हैं,महक रही है फुलवारी।दहीबड़े, पापड़-मठरी की,कल को आयेगी बारी।।होली का त्यौहा...
Tag :होली की है तैयारी
  March 7, 2017, 10:48 am
आई बसन्त-बहार, चलो होली खेलेंगे!! रंगों का है त्यौहार, चलो होली खेलेंगे!!बागों में कुहु-कुहु बोले कोयलिया, धरती ने धारी है, धानी चुनरिया, पहने हैं फुलवा के हार, चलो होली खेलेंगे!!हाथों में खन-खन, खनके हैं चुड़ियाँ, पावों में छम-छम, छनके पैजनियाँ, चहक...
Tag :गीत
  March 6, 2017, 6:34 am
मना रहे थे लोग जब, होली का त्यौहार।पौत्र रत्न के रूप में, मुझे मिला उपहार।।--जन्मदिवस पर पौत्र को, देता हूँ आशीष।पढ़-लिखकर बन जाइए, वाणी के वागीष।।--कुलदीपक के साथ में, बँधी हुई ये आस।कभी नहीं तुम तोड़ना, अपनों का विसवास।।--सारे जग में देश का, रौशन करना नाम।नयी सोच के ...
Tag :दोहे
  March 4, 2017, 9:28 pm
  फागुन में लाया साथ में, रंगों का त्यौहार।।होली में अच्छी लगे, प्यार और मनुहार।।--गुझिया-मठरी साथ में, थाली में पकवान।रंगों से बाजार में, सजी हुईं दूकान।।--खेलो रंग-गुलाल से, होली का त्यौहार।कीचड़, कालिख-पेंट से, बढ़ती है तकरार।।--बासन्ती परिवेश में, उमड़ रहा है प्यार...
Tag :मौसम है अनुकूल
  March 3, 2017, 7:44 am
बौरायें हैं सारे तरुवर, पहन सुमन के हार।मोह रहा है सबके मन को बासन्ती शृंगार।।गदराई है डाली-डाली,चारों ओर सजी हरियाली,कुहुक रही है कोयल काली, नीम-बेर-बेलों पर भी आया है नया निखार।मोह रहा है सबके मन को बासन्ती शृंगार।।हँसते गेहूँ, सरसों खिलती, तितली भी फूलो...
Tag :गीत
  March 2, 2017, 7:12 am
 आया रंगों का त्यौहार,होली भरती है हुंकार, प्यार का मौसम आया।भरी ताजगी तन और मन में,सुन्दर सुमन खिले मधुबन मे,कोयल करती है पुकार,सजनी करती है मनुहार,प्यार का मौसम आया।घर-आँगन में-परिवेशों में,पंडित जी के उपदेशों में,भरी हैं फागुन की फुहार,चल रही मस्ती भरी बयार,प्यार ...
Tag :प्यार का मौसम आया
  March 1, 2017, 6:33 am
रौनक घर में तुमसे ही है,तुमसे ही अस्तित्व हमारा।धन्य हुआ है जीवन अपना,पा करके अपनत्व तुम्हारा।।खनक रहे हैं बर्तन सारे,चहक रही है भोजनशाला।भाँति-भाति के पकवानों से,महक रही अवगुंठित माला।रोटी-दाल-भात सबमें ही,रचा-बसा अमृत्व तुम्हारा।धन्य हुआ है जीवन अपना,पा करके अ...
Tag :तुमसे ही है दुनियादारी
  February 28, 2017, 5:54 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3644) कुल पोस्ट (162480)