Hamarivani.com

चौथा बंदर

रिश्तोंकीसभीलाइनेंव्यस्तहैं-अनुरागमुस्कानऑफिसमेंमेरेएकमित्रपासहीबैठकरमोबाइलपरकैंडीक्रशखेलरहेथे, तभीउनकेफ़ोनकीघंटीबजीऔरगेममेंआएव्यवधानकागुस्साउनकेचेहरेपरउभरआया. फ़ोनरिसीवकरकेबोलेअभीएकअरजेंटमीटिंगमेंहूंफ़्रीहोकरफ़ोनकरताहूं. फ़ोनकटतेहीफिरकैं...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  March 2, 2017, 10:56 pm
      राधे मां इन दिनों ईश्वरीय शक्ति का ताजा तथाकथित अवतार हैं। हाथों में त्रिशूल और गुलाब का फूल लिए राधे मां उडनखटोले से भक्तों के बीच आती हैं, झमाझम मेकअप, डिज़ायनर लिबास और गहनों से लदी हुईं मां भक्तों के साथ नाचती हैं। जिस भक्तों की गोद में चढ़ जाएं या जिसे अपना जूठ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  June 10, 2012, 9:59 am
पेट्रोल पंप न हुए, जैसे ताजमहल हो गए। पेट्रोल भरवाने जाना तीरथ करने जैसी अनुभूति देता है। पेट्रोल में आई तेजी को देखते हुए वह दिन दूर नहीं, जब पेट्रोल गुटखा से लेकर पेट्रोल चाय, पेट्रोल आफ्टरशेव तक शान के साथ बिकेंगे। नाम के साथ पेट्रोल जुड़ते ही किरपा बरसने लगेगी। जैस...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  June 8, 2012, 5:05 am
      अगर आपको याद नहीं कि आज पर्यावरण दिवस है तो इसमें अचरज की कोई बात नहीं है। आप अपराधबोध से मुक्त रहिए। दरअसल दुनिया में आकर जीने की वचनबद्धता और जीवन का जहर पीने की व्यस्त दिनचर्या में जहां अपने बच्चों के नाम, बीवी का जन्मदिन, शादी की सालगिरह और अपने ही हस्ताक्षर याद ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  June 5, 2012, 8:15 am
      अरे भाई, पैट्रोल महंगा होने का केवल एक ही तो नकारात्मक पहलू है और कि वो महंगा हो गया है वरना तो पैट्रोल अब विलक्षण प्रतिभावान हो गया है। इसकी महत्ता अब सुदूर पर्वत पर विलुप्त होती जा रही किसी जड़ी-बूटी से भी ज्यादा बढ़ गई है। पैट्रोल अब सिर्फ पैट्रोल नहीं रहा अपितु य...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  May 28, 2012, 10:21 am
     (आज 25-05-2012 को ‘हिन्दुस्तान’में प्रकाशित)      थोड़ा कन्फ्यूज़ हूं कि ये स्वाभिमान के लिए यात्राओं का युग है या मन का वहम है। क्योंकि यात्रा निकालने लायक स्वाभिमान किसी में बचा ही कहां है। यहां तो मंहगाई और भ्रष्टाचार ने पहले ही सबके स्वाभिमान की यात्रा निकाली हुई है। ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  May 25, 2012, 9:12 am
आमिर के सत्यमेव जयते को लेकर फ़ेसबुक और ट्विटर पर ज़ोरदार प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई है। प्रतिक्रिया मिलीजुली है, कुछ लोगों को ये शो अभी से सार्थक लग रहा है जबकि कुछ देखने वालों को इसमें कुछ ऐसा नहीं मिला जिसकी इस शो के प्रोपेगैंडा से तुलना और अपेक्षा की गई थी। कहीं ये ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  May 13, 2012, 5:13 am
     सोच रहा हूं, मैं भी अपने पाप धो लूं। मुझे भी अपने लिए एक क्लीन चिट की जुगाड़ करनी है। क्लीन होने के मामले में चिट का कोई जवाब नहीं है। अगला पूछता है, लागा चुनरी में दाग छिपाऊं कैसे? जवाब मिलता है, क्लीन चिट से। पहले पाप धोने के लिए गंगा नहाने या बहती गंगा में हाथ धोकर भी व...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  May 11, 2012, 8:39 am
     कुत्ते को रोटी खिलाते डरता हूं। कुत्ता रोटी खाकर दुम हिलाने की बजाए कहीं बदले में होने वाली किरपा का हवाला देकर किरपा की रॉयल्टी ना मांग बैठे। ये किरपा के महिमा मुंडन का, ‘द डर्टी पिक्चर’के सुपरहिट होने जैसा टाइम चल रहा है। किरपा का खेल क्रिकेट से ज़्यादा लोकप्रिय ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  May 1, 2012, 8:34 pm
बड़ा कंफ्यूज़न है भई, समझ नहीं आ रहा कि किरपा पहले आएगी या किस्मत पहले चमकेगी, किस्मत पहले चमकेगी या फिर किरपा पहलेगी बरसेगी? मामला, पहले अंडा या पहले मुर्गी टाइप्स फंसा हुआ है। मंहगाई-मंहगाई करके गरीब नाहक ही विलाप कर रहा है। विदर्भ के मूर्ख किसानों को समझ लेना चाहिए अ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  April 27, 2012, 3:28 pm
पहले वोटिंग में ‘राइट टू रिजेक्ट’ की मांग करना और अब कांग्रेस को वोट ना देने की अपील करना अन्ना के मिशन का सकारात्मक पहलू कैसे हो सकता है जबकि ‘वोट ना देने’ का अन्ना ख़ुद कोई विकल्प नहीं सुझा पाते। कांग्रेस को वोट ना देने की बात कहकर अन्ना क्या होने देना चाहते हैं? यदि ल...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  October 9, 2011, 9:46 am
दिल्ली हाईकोर्ट के बाहर धमाका हुआ। तमाम लोग मारे गए। आम आदमी से लेकर प्रधानमंत्री तक सबको बेहद अफसोस हुआ होगा। अफसोस से ज्यादा और हो भी क्या सकता था और विश्वास रखिए अफसोस से ज्यादा कुछ होने वाला भी नहीं है। मुआवज़ा मिलेगा। मुआवज़े से मरनेवाला तो वापस आएगा नहीं। हां, उ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  September 8, 2011, 10:34 pm
DNA Sample ना देने की अपील करते हुए ND Tiwari ने कोर्ट को लिखी चिट्ठी में सिर्फ़ ये चार लाइनें लिखी हैं-माननीय जज साहेब,'कुड़ियों का नशा प्यारे, नशा सबसे नशीला है,जिसे देखो यहां वो हुस्न की बारिश में गीला है,इशक़ के नाम पर करते सभी अब रासलीला हैं,.........मैं करूं तो साला करैक्टर ढ़ीला है!'- ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  June 2, 2011, 4:19 pm
सत्य साईं की हालत गंभीर हो गई है। हवा में हाथ लहराकर भक्तों के लिए स्विस घड़ियों से लेकर लड्डू तक प्रकट कर देने का कथित चमत्कार करने वाला ये बाबा अपने लिए ही कोई चमत्कार कर पाने में असमर्थ है। असहाय है। बाबा के भक्त ये सोच कर अपने आंसू पोछ रहे हैं कि जीवन और मृत्यु से तो भ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  April 22, 2011, 10:08 am
इतिहास को बनते देखना, बदलते देखना और 9 अप्रैल की तारीख़ को इतिहास की किताब में आंखों के सामने दर्ज होते देखना किसी क्रांतिकारी फिल्म का पर्दे से निकलकर सार्थक होने जाने जैसा था। ये जन लोकपाल बिल की मांग को लेकर अण्णा हज़ारे का जंतर-मंतर पर अनिश्चितकालीन अनशन था। अण्णा 5...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  April 10, 2011, 11:45 am

मेरा पहला व्यंग्य संग्रह 'चौथा बंदर' आ चुका है।Hi,If u wish to order my first book ‘Chautha Bandar’, here I m sending u the link of ‘Flipkart’ a book selling site. U can order my book on ‘cash on delivery’ bases through Flipkart. Do make an order n I m waiting for ur valuable feedback. ‘Chautha Bandar(चौथा बंदर)’ is a book containing 64 satire articles written by me. Thanks.http://www.flipkart.com/chautha-bandar-anurag-muskan-book-9380044644...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  November 4, 2010, 10:12 pm
बस, एक-दो देश और कॉमनवेल्थ गेम्स में आने से तौबा कर लें तो समझो अपनी लॉटरी लग गई। अपने खिलाड़ियों की तो क़सम से निकल पड़ेगी। कोई प्रतिद्वंदी ही ना बचेगा तो अपन निर्विवाद विजेता होंगे। हर स्टेडियम में, हर मैदान में, हर ट्रैक और हर मोर्चे पर अपन बिना मुकाबले के बस पदक लेने ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  October 2, 2010, 7:46 am
कल फैसले का दिन है। राम और रहीम दोनों कटघरे में होंगे। विडंबना ये है कि राम और रहीम दोनों को ही फैसले से कोई लेना-देना नहीं है। सियासतदानों की चाल में फंसे राम-रहीम कल जुदा हो जाएंगे। या तो राम रहेगा या रहीम। दोनों का एक साथ रहना कुछ फिरकापरस्तों को मंज़ूर नहीं है। ज़मीन ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  September 29, 2010, 8:47 pm
टीवी पर दिखाई जा रही बाढ़ सचमुच की बाढ़ से ज़्यादा ख़ौफ़नाक होती है। हम बाढ़ को डिफ़रेंट-डिफ़रेंट एंगल से दिखाते हैं। पूरे वैरिएशन के साथ दिखाते हैं। फिर भी ना जाने क्यूं लोग स्पॉट पर ही चले आते हैं तमाशा देखने। बाढ़ का लाइव कवरेज कर रहा “बाल की खाल” चैनल का रिपोर्टर बक...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  September 28, 2010, 11:51 am
अरे भई... ये ए. आर. रहमान कौन है? क्योंकि जिस रहमान को हम जानते हैं वो तो इस देश का सबसे रचनात्मक संगीतकार है। सबसे महान। और हम ये भी जानते हैं कि एक कलाकार तभी महान बनता है, जब वो एक अच्छा इंसान हो। रहमान भी इसलिए महान हुए। लेकिन ये रहमान कौन है? ये ‘ओ...यारो ये इंडिया बुला लिया.....
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  August 31, 2010, 10:40 pm
क्या आमिर खान किसी फ़िल्म से अपना नाम जोड़कर उसे एक अमर कृति बना सकते हैं...? शायद नहीं...। मेरा मानना है कि कोई भी फ़िल्म सिर्फ़ दर्शकों की नज़र-ए-इनायत पर जीती या मरती है। अरे... बाक्स ऑफ़िस गवाह है, कि आमिर ख़ुद अपनी कई फ़िल्में उसमें हीरो होते हुए भी नहीं बचा पाए थे। लेकिन ...
चौथा बंदर...
अनुराग मुस्कान
Tag :
  August 15, 2010, 11:33 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163561)