POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मेरा सरोकार

Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                      यहाँ हम यह बात एक महिला या लड़की के लिए कर रहे हैं क्योंकि अपनी सुरक्षा , आत्मनिर्भरता और एक  अच्छे जीवन को जीने का अधिकार सिर्फ इस समाज  के अनुसार  सिर्फ पुरुष  को ही नहीं होता बल्कि ये उतना ही आवश्यक एक लड़की और महि... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   5:19pm 30 Jan 2020 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
बसंत पंचमी पर्व:-                        बसंत पंचमी  हिन्दू धर्म का एक अत्यंत महत्वपूर्ण पर्व  है।  यह त्यौहार हर साल हिंदू पंचांग (कैलेंडर) के अनुसार माघ की शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है।  ऐसा माना जाता है कि  बसंत पंचमी के दिन ही ब्रह्मांड की रचन... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   5:16pm 30 Jan 2020 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                    मकर संक्रान्तिहिंदु धर्म में एक प्रमुख पर्व है।  पौष मास में जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है तभी यह पर्व मनाया जाता है। यह वह पर्व है जबकि इसको अंग्रेजी माह जनवरी की दिनाँक  13 - 14 को ही पड़ता है लेकिन कभी कभ... Read more
clicks 9 View   Vote 0 Like   9:56am 14 Jan 2020 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
संस्मरण          आज के तापमान को देखते हुए अखबार में 1961- 62 की सर्दियों का जिक्र किया गया तो याद आया कि वह सर्दियां आज की तरह साधनों से सम्पन्न न थी और न ही उस समय  तापमान नापा जा सकता था । ना इतने सारे साधन थे कि इंसान सर्दी से अपने को सुरक्षित रख सके।             ... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   5:56pm 1 Jan 2020 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
         शरद पूर्णिमा, जिसे कोजागरी पूर्णिमाया रास पूर्णिमाभी कहते हैं; हिन्दू पंचांग के अनुसार आश्विन  मास की पूर्णिमा को कहते हैं। ज्‍योतिष के अनुसार, पूरे साल में केवल इसी दिन चन्द्रमा सोलह कलाओं से परिपूर्ण होता है। हिन्दू धर्म में इस दिन कोजागर व्र... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   10:09am 13 Oct 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                               दशहरा या विजयादशमी हमारे देश का बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है और साथ ही इसको संस्कृति से जोड़ते हुए समाज को एक सन्देश - बुराई पर भलाई की विजय या सत्य की असत्य पर विजय जाता है।  पूरे  देश में कहीं विजय... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   10:28am 8 Oct 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                  भारत और भारतीय संस्कृति का जो सम्मान देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी होता है और वहां के लोग भी प्रशंसा करते नहीं अघाते हैं।   उसी संस्कृति का आधार कही जाने वाली समाज , परिवार , विवाह और   संस्कार कही जाने वाली संस्थाएं आज अ... Read more
clicks 12 View   Vote 0 Like   11:33pm 3 Oct 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                      भारतीय हिन्दू समाज में जितने पर्व और त्यौहार मनाये जाते हैं , उनमें नवरात्रि का  विशिष्ट स्थान है।  नवरात्रि शक्ति की उपासना का पर्व है।  शक्ति ही सृष्टि का निर्माण करती है , उसका पालन  करती है और उसका संहार भी करती ... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   10:44pm 3 Oct 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
ब्लॉगिंग के 11 वर्ष !                                     वह साल 2008 का था जब मेरा ब्लॉगिंग से परिचय हुआ था और वहीँ से दिशा मिली थी खुद को अपनी मर्जी से प्रकाशित करने की सुविधा।  इसमें ये कोई चिंता नहीं थी कि कोई पढ़ेगा या नहीं फिर भी धीरे धीरे लोग पढ़ने लगे और उस ... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   9:34am 21 Sep 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
        लोगों ने जीना हराम कर दिया।  तरह तरह के सवाल कभी कभी हमें खुद अपराधबोध कराने लगे थे।--पांच पांच लड़कियां है कब  करेंगे शादी ?--अरे बेटियों की कमाई खा रहे हैं पैसा किसे बुरा लगता है ?--हमें लगता है कि इन लोगों के पास पैसा नहीं है , लड़कियां कमा कर इकठ्ठा कर लें... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   9:34am 15 Sep 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
राजभाषा हिंदी का सफर : संविधान से प्रयोग तक !                                       हिंदी को संविधान में राजभाषा का स्थान प्राप्त हुए 69 वर्ष व्यतीत हो चुके हैं और अगर हम गंभीरता से इस बार विचार करें तो ये पायेंगे कि इतने वर... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   2:38am 13 Sep 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
ओणम्---------       भारत भूमि पर अनेक धर्म और मतों के लोग रहते हैं और सबके अपने अपने त्यौहार हैं । कुछ त्यौहार सम्पूर्ण देश में मनाये जाते हैं और कुछ राज्य विशेष में अपनी अपनी आस्था के अनुरूप भी मनाये जाते हैं । ओणम् एक ऐसा ही त्यौहार है , जो केरल राज्य में मनाया जाता है औ... Read more
clicks 26 View   Vote 0 Like   5:15pm 3 Sep 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
1957 की क्रांति की कानपुर की वीरांगनाएँ !                        हमारा देश सिर्फ वीरों का ही नहीं अपितु वीरांगनाओं की भी कर्मस्थली रहा है । उसने माँ बनकर, बेटी बनकर, शासक बनकर और वीरांगना बनकर प्रत्येक क्षेत्र में विजय पताका  फहराई है। अगर विजयश्री न पा सकीं तो स... Read more
clicks 34 View   Vote 0 Like   10:29am 16 Aug 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                       सदियों से चली आ रही सृष्टि और उसकी संस्कृति  को हम बरकरार  न रख पाए। हमने छोड़ते छोड़ते सब छोड़ दिया पर दिखाई किसी को न दिया।  आज जब खाली हाथ इंसान जानवर से भी बदतर होकर इंसानियत और खून  रिश्तों का लिहाज भी भूल गया। क्या बहन , क्या बेटी और ... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   6:29am 11 Aug 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
            वह कथोक्ति है न कि जो दूसरों के लिए कुआँ खोदता है ईश्वर उनके लिए खाई खोद कर तैयार कर देता है, लेकिन  ये कहावतें त्रेता , द्वापर या सतयुग में चरितार्थ होती होंगी। अब तो दूसरों को मौत बेचने वाले किसी जेल में नहीं बल्कि मखमली सेजों पर सोते हैं । उनपर हाथ डाल... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   10:14am 14 Jun 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
विश्व पर्यावरण दिवस !   विश्व पर्यावरण दिवस की आवश्यकता संयुक्त राष्ट्र संघ ने महसूस की और इसी लिए प्रतिवर्ष 5 जून को इस दिवस को मनाने के लिए निश्चित किया गया । विश्व में लगभग 100 देश विश्व पर्यावरण दिवस मनाते हैं । धरती से हरियाली के स्थान पर बड़ी बड़ी बहुमंजिली इमारतें ... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   12:48am 5 Jun 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                            सूरत में घटी कोचिंग में लगी आग के कारण २० बच्चों का उसे हादसे में मौत के मुंह में चला जाना कोई हंसी खेल नहीं है।  भले ही वह मानवीय भूल नहीं थी लेकिन मानवीय लापरवाही तो थी ही और उस लापरवाही की कीमत चुकाई उन मा... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   2:39pm 30 May 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
परिवार के स्वरूप :                                               परिवारसंस्थाआदिकालसेचलीआरहीहैऔरउसकेअतीतकोदेखेंतोदोऔरचारपीढ़ियोंकाएकसाथरहनाकोईबड़ीबातनहींथी। पारिवारिकव्यवसाययाफिरखेतीबाड़ीकेसहारेपूरापरिवारसहयोगात्मकत... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   4:18am 15 May 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                               निर्मला को उसके घर वालों ने उसी समय  घर से निकाल दिया अगर  वह कमा कर सबको खिला न रही होती।  वह तेज बारिश के कारण पैदल नहीं आ सकती थी और उसको करीब 2  किमी. पैदल चल कर घर आना पड़ता था और उस दिन उसके एक सहकर्मी ने  उसको अपने साथ मोट... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   1:36pm 25 Mar 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                 जीवन की दिशा कब और कौन बदल दे नहीं कह सकते हैं और मेरे जीवन की दिशा सिर्फ दो पंक्तियों ने बदल कर रख दी है।  मेरे पापा इसके सूत्रधार बने।                      मैं हाई स्कूल में थी और मैंने तब... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   10:37am 4 Feb 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                            कैंसर विश्व में इस समय सबसे बड़ी और गंभीर बीमारी बनी चुकी है और इसके रोगी दिन पर दिन बढ़ते चले जा रहे हैं बल्कि ये कहें कि हमारी मानसिकता इस बारे में ऐसी बन चुकी है कि  अगर कि... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   4:00am 4 Feb 2019 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                              भारतीय समाज में विवाह एक महत्वपूर्ण संस्था है बल्कि दूसरे शब्दों में कहें तो परिवार की नींव यही है । वैसे तो ये मानव जाति में विवाह का अस्तित्व पाया जाता है लेकिन जितनी विविधता हमारे समाज में पायी जाती है , उतनी... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   11:42am 10 Dec 2018 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                          वर्तमान समय  बच्चों , अभिभावकों , शिक्षकों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।  वैसे तो अब शिक्षा सत्र के बदल जाने से  कुछ परिवर्तन आ ही गया है लेकिन फिर भी एक लम्बी छुट्टी के बाद बच्चों को स्कूल आने पर कुछ नया ... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   2:02pm 3 Aug 2018 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                                           सोशल मीडिया जिसने हर उम्र के लोगों को अपना दीवाना बना रखा है , वह सिर्फ लोगों को ही नहीं बल्कि साहित्य में भी सेंध लगा रहा है।  इसने मानवीय संबंधो , लेखन , साहित्य सृजन और पठ... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   1:35pm 3 Aug 2018 #
Blogger: रेखा श्रीवास्तव
                        विवाह एक सामाजिक संस्था ही नहीं बल्कि भारतीय संस्कृति के अनुसार एक महत्वपूर्ण संस्कार है।   ये सृष्टि को सतत चलाने वाला संस्कार अपना स्वरूप बदल रहा है ,   युगों से चली आ रही अवधारणा अब दरकने लगी है।  संस्था आज भी है औ... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   3:37pm 1 Feb 2018 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (195081)