Hamarivani.com

लाइट ले यार !

उजड़े अरमानों के, ये दीप जलाते रहिये !हर सड़े फूल को, फ़िरदौस बताते रहिये !क्या पता बॉस,कॉरिडोर में ही मिल जाए !आँख नीची रखे,औ दुम को हिलाते रहिये !कौन जाने वे कहीं,घर से लड़ के आये हों !खुद को,हर कष्ट में,हमदर्द दिखाते रहिये !जलने वाले भी तो, शैतान नज़र रखते हैं !तीखी नज़रों स...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  July 16, 2014, 5:53 pm
एक खतरनाक सा सपना,जो आज रात देखा , ज्यों का त्यों लिपिबद्ध कर दिया  : यह रचना व्यंग्य नहीं है केवल हास्य है , अधिक समझदार लोग, अधिक अर्थ न तलाश करें...बरसों बीते साथ तुम्हारे ,खर्राटों में , सोते, जगते !मोटी तोंद , पसीना टपके ,भाग्य कोसते,पंखा झलतेपता नहीं,फूटी किस्मत पर, प्रभ...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  April 23, 2014, 7:36 am
श्री सुरेश चिपलूनकर(सभी ब्लॉगर इस विवाह में आमंत्रित हैं…) के ब्लाग पर एक विवाह निमंत्रण छपा देखकर मन हुआ कि इसे अपने ब्लाग पर जगह दूँ , सो आपलोगों की नज़र है यह निमंत्रण !शुभ विवाह……… शुभ विवाह………… शुभ विवाह……अमंगलम् गुटखा खाद्यम धूम्रपानं, अमंगलं सर्वव्यसनम्कराग्र...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  August 10, 2013, 2:23 pm
 अगर आपको खुशियों का चरम आनंद, अपने पिता के साथ लेते, एक २५ वर्षीय बच्चे को महसूस करना हो तो खुशदीप सहगल की लिखी यह लघु कथा अवश्य पढ़ें ! यह मेरे जीवन में पढी गयी सबसे सुन्दर और जीवंत घटना है  ! लेखनी और विलक्षण प्रतिभा के धनी खुशदीप जी ने इसे जीवंत बना दिया ....http://deshnama.blogspot.com...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  August 6, 2010, 11:17 am
                          बहुत खतरनाक गैंगहै , आप इनकी शक्लों पर न जाइये घर बुलाते हैं ..बड़े प्यार से खाना खिलाते हैं ..और जब आपका मन प्रसन्न हो जाता है तब रसगुल्लों की प्लेट आपके हाथ देकर  अपना लैपटॉप खोल कर बैठते हैं और  इससे पहले कि आप कुछ समझ सकें, ...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :राजीव तनेजा
  April 1, 2010, 7:21 am
अलका जी !सरवत जमाल को दोस्त ही नहीं बनाता तो अच्छा था कम से कम यह तकलीफ तो नहीं होती , निर्मला कपिलाजी की बात समझ आयेगी या नहीं मैं नहीं जानता, मगर उन्हें यह जरूर बतलाइयेगा कि इस ब्लाग जगत में लोगों को बहुत याद रखने की आदत नहीं है  ! कुछ दिनों में यह सरवत जमाल को भूल ...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  March 27, 2010, 9:07 am
अपने किशोरावस्था के दिनों की यादें,  बरसों पहले लिखी इस हास्य रचना के जरिये ताजा हो  जाती हैं , आपको मुस्कराने हेतु नज़र है !सोचता था बचपन से यारबड़ा कर दे जल्दी भगवानमगर अब बीत गए दस सालजवानी बीती जाये यार ,किसी नारी के संग ,सिनेमा जाने का दिल करता है !क्लास में छिप छ...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  March 20, 2010, 11:47 am
डॉ अरविन्द मिश्रा का एक चुभता हुआ कमेंट्स मेरा ध्यान उनकी ओर खींच ले गया है  " चलिए आप उदासीन और तटस्थ रहकर इसी तरह बीच बीच में आकर अपनी घोर चिंता व्यक्त करते रहा करिए -ब्लागजगत का जो होना है वह तो हो ही जाएगा "  और मुझे लगा कि जैसे अरविन्द मिश्रा ने मुझसे कोई बहुत गह...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  March 9, 2010, 3:42 pm
होली के अवसर पर हर वर्ष की तरह कुछ मित्रों के घर और परिवार में होली मिलने और खेलने जाता रहा हूँ, जब भी बाहर निकलने की सोचता हूँ तो अक्सर उदासीन होता हूँ, मगर बाहर जवानों की भीगती हुई टोली और जोश देखकर मूड बनते देर नहीं लगती और बाकी कसर चलते हुए मस्त मयूजिक से पू...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  February 28, 2010, 6:06 pm
सबसे पहले अपना मूल्य समझो और मान लो कि तुम सबसे अच्छे ब्लागर हो , इसके बाद एक लिख्खाड को  छांट लो  जो तुम्हारे ब्लाग पर कोई कमेंट्स न देता हो !इस लिक्खाड़ की नवीनतम पोस्ट पर जो कुछ भी लिखा हो उसके विरोध में  एक लम्बी टिप्पणी लिख डालो , ध्यान रहे इस टिप्पणी में  ब...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  February 26, 2010, 10:24 pm
लगभग २० वर्ष पहले लिखी एक रचना ज्यों की त्यों प्रस्तुत कर रहा हूँ , पत्नी को मनाने की असफल कोशिश करता एक बेचारे पति  का यह चित्रण बहुत स्थानों पर आज भी वास्तविकता है ....तुम मेरे दिल की रानी हो मैं तेरे दिल का कचरा हूँ ,पति ढूँढा है,लक्ष्मीवाहनतुम हो देवी सौभाग्यवती तु...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  February 23, 2010, 11:46 pm
ताऊ  की दुकान से सावधान ! लिखने का मतलब यह बिलकुल नहीं लें कि मैं ताऊ की बेईमानियों का खुलासा करने जा रहा हूँ , मेरा कोई दिमाग ख़राब नहीं है कि ताऊ की चालाकियों का पर्दाफाश करने की हिम्मत करुँ  मुझे खूब पता है  कि  नियम नंबर ६ के अनुसार "६. आप यह समझ ले कि अगर आपने हम...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  February 20, 2010, 11:38 am
"आपका nice मैं भी अपनाना चाह रहा हूँ  ! सप्ताह में कम से एक दिन हम लोग nice  से काम चलायें , यह सुमन जी की ईजाद  के प्रति एक इन्साफ होगा और उन्हें लोकप्रियता भी मिलेगी !"उपरोक्त सुझाव कमेंट्स के जरिये आज मैंने अनिल पुसाद्कर के ब्लाग पर दिए हैं ! सुमन जी पर मेरा ध्यान "मेरे गीत"प...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  February 13, 2010, 12:56 pm
"Approximately 250 very well celebrities as well as 2 former US presidents are now extraterrestrial property owner at moon."आसानी से विश्वास नहीं होता कि कोई कम्पनी  अंतर्राष्ट्रीय नियम और कानूनों का फायदा उठाते हुए  चन्द्रमा पर जमीन बेचने का अधिकार और पेटेंट  प्राप्त कर सकती है  ! मगर यह सच है और अब तक वे  चाँद पर ३०० मिलिय...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  February 6, 2010, 11:59 pm
सर्वत भाईके मेरे गीत पर किये गए  कमेंट्स  !"दुबारा आ गया हूँ, वसंत पंचमी की मुबारकबाद देने-एक दिन बाद. हम भारतीय विलम्ब से काम करने में माहिर हैं.एक जरूरी बात कहनी थी, बुरा न मानियेगा.....क्या किसी साउथ इंडियन फिल्म में खलनायक की भूमिका मिल गयी है? नई फोटो से ऐसा ही लगा. अ...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  January 21, 2010, 10:43 am
ब्लाग जगत में हास्य की याद आते ही भाई बृजमोहन श्रीवास्तव की एक रचना याद आजाती है जिसमें उन्होंने अपनी पत्नी ...( या भगवान जाने किसके लिए ....?) के लिए लिखा था !"इस पार प्रिये तुम हो , गम हैं ,उस पार तो कुछ अच्छा होगा "बेचारे पति की यह बेबसी और फिर भी हिम्मत न हारने का इससे अच्छा उदा...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  June 22, 2009, 12:14 pm
मुझे अब यह याद भी नही कि मेरी माँ कौन थी और उसका दूध कैसा था, जब से आँख खुली, अम्मा के हाथ से ही खाना मिलता रहा है, और अप्पा के पैरों में बैठना अच्छा लगता है !मैं एक पल के लिए भी आपको अपनी आंख से ओझल नही होने देना चाहता, आपसे थोडी भी दूरी मेरे लिए बहुत दर्दनाक है इसीलिये मैं आपक...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  November 12, 2008, 10:00 am
अपनेभाई समान मित्र की पत्नी का आपरेशन होना है, उन्हें खून देने की व्यवस्था करने का निर्देश मिला जान, परिजनों ने खिसकना शुरू कर दिया, मेरे दोस्त को पहले से ही अपना एनेमिक होना याद आ गया और उनके हट्टे कट्टे भाई को उनकी ६५ वर्षीया माँ ने रोक लिया कि उसे कमजोरी हो गयी तो अपने ...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  October 11, 2008, 9:16 am
जब से व्याही हूँ साथ तेरेलगता है मजदूरी कर लीबर्तन धोये घर साफ़ करेंबुड्ढे बुढ़िया के पैर छुएं,फूटी किस्मत, अरमान लुटे, अब बात तुम्हारी क्यों माने ?ना नौकर हैं, न चाकर हैंन ड्राईवर है, न वाचमैन,घर बैठे कन्या दान मिलाऐसे भिखमंगे चिरकुट को,चौकीदारी इस घर की कर, हम बात तुम्हार...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  October 1, 2008, 10:27 pm
समझ प्यार की नही जिन्हें है समझ नही मानवता कीजिनकी अपनी ही इच्छाएँतृप्त नही, हो पाती हैं !दुनिया चाहे कुछ भी सोचे कभी न हाथ पसारूंगा !विस्तृत ह्रदय मिला इश्वर सेसारी दुनिया ही घर लगतीप्यार नेह करुना और ममतामुझको दिए विधाता नेयह विशाल धनराशि प्राण अब क्या मैं तुमसे मां...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  September 29, 2008, 1:34 pm
बहुत दिन से इच्छा थी कि मैं अपने संक्षिप्त ब्लाग अनुभवों के बारे में लिखूं ! सो लिख डाला ! मेरा एक ही अनुरोध है कि "लाइट ले यार" !कुछ मनमौजी थे, छेड़ गए !कुछ कलम छोड़ कर भाग गएकुछ संत पुरूष भी पतित हुएकुछ अपना भेष बदल बैठे ,कुछ मार्ग प्रदर्शक, भाग लिएकुछ मुंह काले करवा आए,यह हिम्...
लाइट ले यार !...
सतीश सक्सेना
Tag :
  September 23, 2008, 8:35 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3661) कुल पोस्ट (164696)