Hamarivani.com

मेरे गीत !

हमारे यार, धन दौलत,जमीं,जायदाद रखते हैं !नवाबी शौक़,सज़दे के लिए सज्जाद रखते हैं !मदद लेकर हमारी वे हुए , गद्दी नशीं जब से !  सबक यारों को देने,साथ में जल्लाद रखते हैं !वही कहलायेंगे शेरे जिगर रह कर गुफाओं मेंअकेले जंगलों में भी जिगर फौलाद रखते हैं !वे अब सरदार हैं बस्...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :gazal
  April 4, 2017, 9:14 pm
63 वर्ष में, मेरा यह दृढ विश्वास है कि शरीर में व्याधि या बीमारी का कोई उपचार नहीं होना चाहिए , हमारा शरीर व्याधियों को खुद ठीक करने के लिए डिजाईन है हमारी रोग प्रतिरोधक शक्ति इतनी जटिल एवं इतनी शक्तिशाली होती है कि किसी भी शरीर को लगभग 100 वर्ष तक जीवित रखने में समर्...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :इच्छाशक्ति
  March 30, 2017, 10:21 am
इनके आने के तो कुछ और ही माने होंगे !जाने मयख़ाने के, कितने ही बहाने होंगे !हमने पर्वत से ही नाले भी निकलते देखे !हर जगह तो नहीं , गंगा के मुहाने होंगे !धन कमाना हो खूब,मीडिया में आ जाएँ एक राजा के ही बस, ढोल बजाने होंगे ! सोंच में हो मेरे सरकार,तो कह ही डालोआज भी विष...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :gazal
  March 27, 2017, 12:28 pm
आज मैराथन रनिंग प्रैक्टिस में दौड़ते दौड़ते इस रचना की बुनियाद पड़ी , शायद विश्व में यह पहली कविता होगी जिसे 21 किलोमीटर दौड़ते दौड़ते बिना रुके रिकॉर्ड किया ! लगातार घंटों दौड़ते समय ध्यान में बहुत कुछ चलता रहता है उसकी परिणीति आज इस रचना के रूप में हुई ! न जाने दर्द कितन...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :geet
  March 24, 2017, 5:47 pm
यकीनन बुढापा दिमागी फितूर है , बड़प्पन का फितूर , लोग क्या कहेंगे का फितूर , अब हमारी उम्र हो गयी , का असर और कुछ नहीं , इसे नकारिये और पूरे जीवन स्वस्थ रहिये !पूरा जीवन रोटी, कपड़ा, मकान , बच्चों की चिंता , पढ़ाई , भविष्य और बाद में उनकी शादी में ही निकल गया , शायद अपने लिए हंसने का भ...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :इच्छाशक्ति
  March 9, 2017, 11:05 am
महज़ 50 वर्ष पहले हमने ( देश का 95 प्रतिशत आम जन ) अपने गांव कस्बे में महाजन, ग्राम प्रधान,ठाकुर साहबों का रुतबा देखा था , उस समय उनकी शान शौकत देख मन में कसक उठती थी कि एक दिन हम भी धनवान बनेंगे ! और आज जब हम संपन्न हुए तो अधिकतर ने अपनी पूरी जिंदगी धन की गड्डियों इकट्ठा करने और उस...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :जवान कैसे रहें
  February 9, 2017, 7:56 pm
आज को पोस्ट बेहद महत्वपूर्ण है उनके लिए जो इसे ध्यान से पढ़ें और मनन कर समझ सकें हो सकता है यह उनके जीवन में एक नया अध्याय ही खोल दे , विषय सामान्य है शायद सभी जानते होंगे मगर शायद ही किसी ने इसपर कभी ध्यान दिया हो !मेरा यह दृढ विश्वास है कि मानव शरीर लगभग 100 वर्ष जीने के लिए ड...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :आत्मविश्वास
  February 7, 2017, 7:47 pm
पहचान बने, गद्दारों की,खादी पहने मक्कारों की !दोनों हाथों से लूट रहे ,इस घर के बेईमानों की !इनकी चौखट पर जा जाकरइक दीप जलाएंगे ऐसा जिससे विशेष पहचान रहेदुनियां में इन दरवाजों को बारिश हो या तूफ़ान मगर यह दीप नहीं बुझने पाये !धूर्तों के  दरवाजे  जाकर इ...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :geet
  December 30, 2016, 9:42 am
-रनिंग से डरने वाले यह जान लें कि मैंने अपने जीवन की रनिंग सीखने की शुरुआत अपना बीपी, हार्ट पल्पिटेशन, कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए 61 वर्ष की उम्र में शुरू की थी , इससे पूर्व मैंने विद्यार्थी जीवन में भी रनिंग नहीं की !- आज मैं 62 वर्ष की उम्र में लगातार बिना रुके 21 km तक दौड़ता हूँ...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :इच्छाशक्ति
  December 10, 2016, 8:41 pm
मानवीय शक्ति अपरिमित है और हम उसका अपने मस्तिष्क की तरह शतांश भी उपयोग नहीं करते , अक्सर 40 वर्ष का होते होते अपने आपको समझाना शुरू कर देते हैं कि चढ़ना नहीं, दौड़ना नहीं , गिर जाओगे ! असुरक्षा इस कदर होती है कि शरीर को , दांतों को , मजबूत बनाने के लिए तुरंत डॉक्टर की शरण में भाग...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :marathon
  December 10, 2016, 9:06 am
मानवीय शक्ति अपरिमित है और हम उसका अपने मस्तिष्क की तरह शतांश भी उपयोग नहीं करते , अक्सर 40 वर्ष का होते होते अपने आपको समझाना शुरू कर देते हैं कि चढ़ना नहीं, दौड़ना नहीं , गिर जाओगे ! असुरक्षा इस कदर होती है कि शरीर को , दांतों को , मजबूत बनाने के लिए तुरंत डॉक्टर की शरण में भाग...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :marathon
  December 10, 2016, 9:06 am
@मेरा रक्तचाप असहज है।ये शर्मनाक है मेरे लिए। मूर्ख हूं मैं। संसार को ठीक होने की नसीहतें बकता रहता हूं लेकिन खुद के प्रति लापरवाही करता हूं। ये निपट चूतियापा है।मेरी जरूरत है मुझे और हमारे अपनों को। जैसे मुझे जरूरत है उनकी तो... पहली शर्त कि सब ठीक रखने की जरूरत है। केव...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :marathon
  December 9, 2016, 12:28 pm
जिन मित्रों को मेरी उम्र पता चल जाती है वे मेरे नाम के साथ आदरणीय लगाना शुरू कर मुझे अपने से दूर कर देते हैं, मुझे लगता है आदर देने की जगह अपनापन और उन्मुक्त व्यवहार मिलता तो अधिक अच्छा था , उसमें मुझे अधिक फायदा होता ! अक्सर अधिक उम्र वालों को आदर देकर हम अपने से दूर रखने म...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :love
  December 5, 2016, 8:47 am
झूठ,मक्कारी, दिखावे भी न कम है,सौ करोड़ों को नचाने का भी दम है !ध्यान लोगों का न घोटालों पे जाएये बताओ खूब कि खतरे में हम हैं !दुश्मनी से देश को खतरा तो है पर वोट बरसेंगे जभी खतरे में जन है !धन कुबेरों के लिए , खोले खजानेइन ग़रीबों के लिए तो आँख नम है !हो सके तो देश अपने को बचा ...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :gazal
  December 1, 2016, 8:37 pm
देश को बरबाद करते, आज भी कुछ लोग है नफरतों का गान करते,आज भी कुछ लोग हैं !रूप त्यागी सा, प्रबल आवाज, मन में धूर्तता !देश का विश्वास हरते,आज भी कुछ लोग हैं !रंग,सिवइयां जाने कब से,खा रहे थे साथ में,ईद को ख़तरा बताते, आज भी कुछ लोग हैं !धूर्त मन,मक्कार दिल पर,ओढ़ चादर केसरीदेश पर खतर...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :gazal
  November 25, 2016, 7:56 am
किसने कहा कि दिल में तू मेहमान बनके आ, ये तेरी सल्तनत है, तू सुल्तान बन के आ !इक दिन तो बोल खुल के, तड़पता मेरे बगैर !दिल के गरीब एक दिन , धनवान बन के आ।साँसे तो हैं बाकी, तेरे दीदार के लिए,मुफलिस के पास कर्ज का भुगतान बन के आ !साँसे तो कुछ बाकी तेरे दीदार के लिए,मुफलिस के पास कर...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :geet
  November 23, 2016, 9:35 pm
सच कहूँ तो देश मेरा , जाहिलों का देश है !जाति धर्मों में बंटे, लड़ते जिलों का देश है !सुना करते थे बड़ों से कभी हम भी,मगर अब रक्षकों से ही लुटे , जर्जर किलों का देश है !लड़कियां बाज़ार में चलतीं सहमती सी हुईं  डूबतों को ताकते, जड़ साहिलों का देश है !ढोंगियों के सामने, घुटन...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :gazal
  November 15, 2016, 10:01 pm
उम्र कुछ भी हो, मानव शरीर की क्षमताएं असीमित हैं , कल की इस रेस में , मैं धुंध , धुआं , थकान भुला कर दौड़ा और पहली बार अपना व्यक्तिगत रिकॉर्ड कायम करने में कामयाब रहा ! बचपन से हर जगह एक ही लिखा पढता रहा कि बुढ़ापा अभिशाप है , शरीर बीमार ही रहता है , बुढ़ापे में हम दौड़ भाग नहीं कर सकत...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :pollution
  November 7, 2016, 10:00 am
जहाँ पूजा का हो अपमानवहां बन जाते कालिदासजहाँ प्रीति का हो उपहासवहीं पैदा हों तुलसी दासइतने गहरे तीर , मृदुल आवेग ख़त्म कर जाते हैं !चुभते तीखे शब्दों से, अनुराग ख़त्म हो जाते हैं !जहाँ परिवार मनाये शोक जन्मते ही कन्या को देख बुढ़ापे में बन जाते बोझ पु...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :geet
  October 13, 2016, 7:50 pm
अगर तुम रहे कुछ दिन भी सरदारी में ,बहुत शीघ्र गांधी,सुभाष के गौरव को गौतम बुद्ध की गरिमा कबिरा के दोहे ,सर्वधर्म समभाव कलंकित कर दोगे !बड़बोले हो दोस्त सिर्फ धनपतियों के नील में रंगे सियार, तुम मुझे क्या दोगे ?दुःशाशन दुर्योधन शकुनि न टिक पाएं !झ...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :geet
  October 10, 2016, 11:01 am
मैंने अधिकतर धीर गंभीर विद्वानों को 60 वर्ष की उम्र तक पंहुचते पहुंचते निष्क्रिय होते देखा है , इस उम्र में पंहुचकर ये लोग अधिकतर सुबह एक घंटे नियमित वाक के बाद अखबार पढ़ना , भोजन करने के बाद आराम करने तक ही सीमित हो जाते हैं ! पूरा जीवन गौरव पूर्ण जीवन जीते हैं ये लोग मगर स्...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :जवान कैसे रहें
  September 27, 2016, 10:13 am
प्रणाम प्रभु ,कल सुबह नेहरू पार्क में दौड़ने से पहले आज के समय में मानव अपने स्वास्थ्य के प्रति बेहद लापरवाह हो गया है और इसमें बहुत बड़ा हाथ हमारे मन का होता है जो कि हमारे काबू में ही नहीं है , हमें समोसे, जलेबी, पकौड़े राह चलते ललचाते हैं  और कठोर व्यायाम करना हमार...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :जवान कैसे रहें
  September 26, 2016, 10:55 am
हिंदी दिवस पर गुरुघंटालों, चमचों और बेचारे पाठकों को बधाई कि आज हिंदी, चमचों के हाथ जबरदस्त तरीके से फलफूल रही है, और बड़े पुरस्कार पाने के शॉर्टकट तरीके निकाल कर लोग पन्त , निराला से बड़े पुरस्कार हासिल कर पाने में समर्थ हो रहे हैं !ज्ञात हो कि हिंदी के तथाकथित&n...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :Hindi
  September 14, 2016, 11:39 am
देशभक्तों ने किया खाली,खजाना देश में !धनकुबेरों को बिका, शाही घराना देश में !बेईमानों और मक्कारों की छबि अच्छी रहे,जाहिलों पर मीडिया का,मुस्कराना देश में !गेरुए कपडे पहन कर, डाकू व्यापारी बनेकैसे, कैसे धूर्तों का , हाकिमाना देश में !खर्च लाखों हो गए तो कार पे झंडा लगा,पा...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :geet
  September 10, 2016, 1:28 pm
भारत सरकार में 37 वर्ष सेवा करने के उपरान्त, आखिरकार 31 दिसंबर 2014 को रिटायर हुआ जिसमें मुझे साथी अधिकारियों द्वारा पूरे सम्मान के साथ, आखिरी विदाई समारोह आयोजित कर, सरकारी कार में घर तक पंहुचाया गया था !पूरे जीवन एक कमी हमेशा रही कि विद्यार्थी जीवन से लेकर अब तक शा...
मेरे गीत !...
सतीश सक्सेना
Tag :प्रौढ़ावस्था
  September 5, 2016, 10:35 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163575)