POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: हरी धरती Hari Dharti

Blogger: pawan k mishra
इसे अपनी संस्कृति की विशेषता कहें या परंपरा, हमारे यहां मेले नदियों के तट पर, उनके संगम पर या धर्म स्थानों पर लगते हैं और जहां तक कुंभ का सवाल है, वह तो नदियों के तट पर ही लगते हैं। आस्था के वशीभूत लाखों-करोड़ों लोग आकर उन नदियों में स्नान कर पुण्य अर्जित कर खुद को धन्य समझ... Read more
clicks 103 View   Vote 0 Like   7:11am 15 Sep 2017 #
Blogger: pawan k mishra
हर एक व्यक्ति के अन्दर एक गाँव होता है । गाँव कोई स्थान विशेष संज्ञा न होकर एक गुणवाचक शब्द है, जिसके अर्थ विस्तृतता में निहित हैं।.गाँव की मर्यादा क्षितिज के सरीखे होती है, जितने उसके  पास आओ उतना ही उसका विस्तार होताजाता है और इस विस्तृतता में रस है, शहद के गंध में भीग... Read more
clicks 187 View   Vote 0 Like   12:49pm 12 Apr 2015 #
Blogger: pawan k mishra
हमारे गाँव में गोलारे मिसिर और दुधई मिसिर दो भाई थे। दोनों के पास गाँव की चार आना जमीन थी । गोलारे के दो पुत्र हुए लाले और लुल्ली। दूधई के खानदान में पुट्टू पुकनू पलटू और कलई हुये। इन लोगों के पास कुल मिलाकर सवा सौ बीघे जमीन होगी । गोलारे और दुधई के मरते ही गाँव के लंबरदा... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   2:02am 25 Feb 2015 #
Blogger: pawan k mishra
गंदगी का निस्तारण समस्या का जड़मूल है। बाकी बातें अनुशासनहीनता और बेहूदा आदतों से जुडी हैं। एक बात स्पष्ट कर दूँ कि विलासी वर्ग द्वारा जितनी तीव्रता के साथ गंदगी पैदा की जाती है वह अत्यंत खतरनाक है। गरीबों में बेहूदापन हो सकता सभ्य तौर तरीके के विपरीत आचरण हो सकते ... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   6:33pm 2 Oct 2014 #
Blogger: pawan k mishra
विकास का पैमाना मानव की चेतना, सहनशीलता और सामंजस्य करने की क्षमता पर आधारित है इसके पश्चात कोई भी प्रक्रिया सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ती है।कश्मीर में लगभग पचास के आस पास झीलें और तालाबों के ऊपर कंक्रीट के जंगल खड़े कर दिए गए। मुम्बई में मीठी नदी की तरह यहाँ भी पानी के ... Read more
clicks 122 View   Vote 0 Like   2:07pm 12 Sep 2014 #विकास
Blogger: pawan k mishra
हमारे गाँव को तालाबों का गाँव कहा जाता था। सिउपूजन दास कहते थे... छंगापुरा एक दीप है बसहि गढ़हिया तीर।  पानी राखो कहि गए सिउपूजन दास कबीर।।  हमारे गांव के उत्तर की तरफ  बड़का तारा करीब बीस बीघे में फैला हुआ।  फिर पंडा वाला तारा पूरब में दामोदरा और मिसिर का तार... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   5:54am 17 Jul 2014 #तालाब
Blogger: pawan k mishra
वर्तमान शिक्षा व्यवस्था "विदक्षता" (Deskilling) के दुष्चक्र में फंस गयी है।  शैक्षिक प्रसार के नाम पर पूरी  व्यवस्था  को निजी संस्थाओं के हवाले किया जा रहा है।    ऐसे में शैक्षिक गुणवत्ता का स्थान मुनाफे ने ले लिया है। येन केन प्रकरेण मुनाफा प्राप्त करना ही संस्थाओ... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   8:46am 26 May 2014 #
Blogger: pawan k mishra
दिल्ली जाते हुये कालिंदी कुंज पुल से जब आप बांयी ओर निगाह डालते हैं तो एक बारगी लगता है कि बजबजाते सीवर के ऊपर से गुजर रहे हो। पिघले तारकोल-सा काली यमुना और उस पर झक सफेद झाग  की मोटी चादर ऐसा लगता है कि  ढेर सारे मरणासन्न जानवर फेंचकुर छोड़ रहे हो। एक कारुणिक ... Read more
clicks 288 View   Vote 0 Like   5:12am 22 Mar 2014 #
Blogger: pawan k mishra
किसी भी देश और समाज की कुछ संरचनाये और उन पर आधारित कुछ व्यवस्थाये  होती है जिनके सहारे व्यक्ति के जीवन की आवश्यकताओं की पूर्ति सुनिश्चित होती है . परिवार, जाति, धर्म संविधान, कानून इत्यादि इन के उदाहरण हैं. ये संरचनाये/व्यवस्थाये जब तक व्यक्ति की आवश्यकताओ की पूर्ति ... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   5:03pm 11 Feb 2014 #
Blogger: pawan k mishra
"आम आदमी" एक सापेक्ष अवधारणा है जो उस व्यक्ति की  ओर संकेत करता है जो तुलनात्मक रूप से "नियंत्रक वर्ग"से नही आता है।  परिवार से लेकर समाज और राज्य में दो प्रकार के वर्ग देखने को मिलते है प्रथम वे जो किसी न किसी प्रकार नीति निर्माण प्रक्रिया में भागीदार होते है, दुसर... Read more
clicks 206 View   Vote 0 Like   6:16am 27 Dec 2013 #आम आदमी
Blogger: pawan k mishra
 वैश्वीकरण शब्द को विश्व की संस्कृतियो अर्थव्यवस्थाओं तथा राज व्यवस्थाओं का एक दूसरे के ऊपर पड़ने वाले प्रभावोंए जिसमें सात्मीकरण एवं अलगाव दोनों सम्मिलित हैं, के क्रम में समझा जा सकता है।      वैश्वीकरण के सुविधानुसार कई पर्याय बना दिये गये हैं, जिसमें भूमण्डलीकरण ... Read more
clicks 381 View   Vote 0 Like   6:05am 16 May 2013 #सांस्क़ृतिक संघर्ष
Blogger: pawan k mishra
ड्रग्स का उपयोग लगभग उतना ही पुराना है जितनी पुरानी मानव सभ्यता। लेकिन अधिक नशे की लत और खतरनाक सिंथेटिक दवाएं पश्चिमी देशों के द्वारा शुरू किए गए थे, विशेष रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका के आधुनिक युग के दौरान। ड्रग्स दो प्रकार होते हैं साफ्ट और हार्ड,  साफ्ट  ड्रग्स क... Read more
clicks 229 View   Vote 0 Like   7:56am 14 May 2013 #अमेरिका
Blogger: pawan k mishra
  गंगा प्रदूषण से सम्बन्धित आंकडे निम्नलिखित है.१.गंगा में गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक प्रतिदिन १४४.२ मिलियन क्यूबिक मलजल प्रवाहित किया जाता है.२. गंगा में लगभग ३८४० नाले गिरते है.३.गंगा तट पर स्थापित औद्योगिक इकाईया प्रतिदिन ४३० मिलियन लीटर जहरीले अपशिष्ट का उत्सर... Read more
clicks 239 View   Vote 0 Like   4:12am 9 May 2013 #गंगा
Blogger: pawan k mishra
आईआई.टी. मे हुयी मानव मूल्य कार्यशाला के दौरान मै गोपाल उपाध्याय के सम्पर्क मे आया. उन्होने सुभाष पालेकर जी का जिक्र करते हुये मुझे फर्रुखाबाद आने का निमंत्रण दिया. यहा मुझे बाग़डिया जी के द्वारा पालेकर जी के कार्यो की जानकारी मिल चुकी थी. मै बागडिया जी और संतोष भदौरिया ... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   9:13am 8 May 2013 #
Blogger: pawan k mishra
आईआई.टी. मे हुयी मानव मूल्य कार्यशाला के दौरान मै गोपाल उपाध्याय के सम्पर्क मे आया. उन्होने सुभाष पालेकर जी का जिक्र करते हुये मुझे फर्रुखाबाद आने का निमंत्रण दिया. यहा मुझे बाग़डिया जी के द्वारा पालेकर जी के कार्यो की जानकारी मिल चुकी थी. मै बागडिया जी और संतोष भदौरिया ... Read more
Blogger: pawan k mishra
औद्योगीकरण और आधुनिकता  से हमे क्या मिला ?उत्तर निम्नलिखित है ...1.बडी मशीने 2.बडे सिद्धांत् 3.बडे हथियार 4.बडे युद्ध 5.बढी हुयी सुविधाये 6.बढी हुयी तनख्वाह/आनुपातिक कम होती मजदूरी 7.बढी हुयी उम्मीदे 8.मानवीय और प्राकृतिक संसाधनो का अधिकतम दोहन 9.कृत्रिमता 10.दूषित वातावरण 11.दू... Read more
clicks 236 View   Vote 0 Like   5:37am 25 Apr 2013 #औद्योगीकरण और आधुनिकता
Blogger: pawan k mishra
 यह सदाबहार नजारा है. यमुना का नजदीक से जायजा लेने के लिए आप नोएडा के ओखला बैराज पहुंचें तो पिघले तारकोल-सा काली यमुना का पानी आगरा कैनाल में गिरता दिखेगा. मौके से उठ रही तीखी दुर्गंध नथुनों को बेधते हुए जैसे भेजे में घुस जाती है. बैराज से यमुना की मुख्य धारा में भी एक ना... Read more
clicks 213 View   Vote 0 Like   6:34am 11 Apr 2013 #India Today Report
Blogger: pawan k mishra
 धनतेरस को धन से जोडकर देखने की अफवाह किसी पूंजीपति द्वारा फैलायी गयी होगी जिसने धर्म और नीति के क्षेत्र मे बिकने वाले पोंगा पण्डितो को खरीद कर इस किसम की बाते फैलवाई होंगी. सच तो यह है कि दीवाली धन से ज्यादा स्वास्थ्य और पर्यावरण पर आधारित त्योहार है. आज के दिन आयुर्व... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   6:12pm 11 Nov 2012 #पाखंड्
Blogger: pawan k mishra
जैसा कि मैने अपनी पिछली पोस्टो मे कहा था कि नवरात्रो के बाद गंगा और मैली हो जायेगी, वही हुआ. आज दैनिक जागरण समाचार से  इस बात की पुष्टि होती है. कानपुर के तमाम घाटो की स्थिति पर आधारित यह खबर देखिये और मूर्तिविसर्जन के प्रदूषणकारी परिणामो से अवगत होइये."एक मां की मूर्तिय... Read more
clicks 251 View   Vote 0 Like   5:02am 30 Oct 2012 #प्रतिमा विसर्जन
Blogger: pawan k mishra
देश में बीते नौ महीनों में कम से कम 69 बाघों की मौत हुई है। इनमें से अधिकांश बाघों की मौत दुर्घटना या फिर शिकारियों के कारण हुई है। यह जानकारी राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) ने शुक्रवार को दी।यह सूचना IBN7 से प्राप्त हुयी है।एनटीसीए के सहायक महानिरीक्षक राजीव... Read more
clicks 165 View   Vote 0 Like   9:17am 6 Oct 2012 #tiger in India
Blogger: pawan k mishra
अभी गणेशोत्सव बीता है आगे नवरात्रे आने वाले है यह त्योहार जीवन मे रंग भरते है प्रेम का, उल्लास का, भेदभाव से ऊपर उठने का मौका देते है प्रकृति को नजदीक से जानने व करीब जाने को प्रेरित करते है. किंतु हकीकत मे हो क्या रहा है???? इनके नाम पर गुंडे लोग चन्दावसूली और रंगबाजी करने ... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   10:39am 4 Oct 2012 #मूर्ति विसरजन
Blogger: pawan k mishra
मोक्ष दायनी, जीवन दायनी, पतित पावनी माँ गंगा, हमारे जीवन का आधार माँ गंगा, हमारा पालन पोषण करने वाली माँ गंगा, हमारे पापों को हरने वाली माँ गंगा, हमारे जन्म से लेकर मृत्यु तक साथ देने वाली माँ गंगा/ आज माँ गंगा को हमने खुद मृत्यु के नजदीक ला के खड़ा कर दिया है/ इस के लिए हम क... Read more
clicks 232 View   Vote 0 Like   7:38am 28 Jun 2012 #गंगा
Blogger: pawan k mishra
गंगा नदी को प्रदूषण और बांधों से बचाने के लिए पिछले  दिनों से  फिर से आमरण अनशन पर बैठे डॉ. जीडी अग्रवाल उर्फ स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद की हालत नाजुक बनी हुई है। श्री अग्रवाल ने पानी तक त्याग दिया है। यदि गंगा बचाने की इस मुहिम में अग्रवाल ने अपने प्राण त्याग दिए तो यह आं... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   5:41am 11 May 2012 #आत्मबलिदानी जत्था
Blogger: pawan k mishra
इस समय नवरात्रे चल रहे है जगह जगह मन्दिर  मन्दिर देवी के पन्डाल सजाये गये है जगराते हो रहे है, देवी जी को प्रसन्न करने के तमाम उपाय प्रयास जोर शोर से किये जा रहे है. इस मौसम मे तमाम औरते ऐसी आराम से दिख जाती है जिन पर देवी जी की सवारी भी आती है. लोग बाग नवो दिन के व्रत कर रहे ह... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   10:19am 27 Mar 2012 #आडम्बर्
Blogger: pawan k mishra
कानपुर मे गंगा की धारा को निर्मल और अविरल बनाने के लिए 2500 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं फिर भी नतीजा सिफर है। पतित पावनी आज भी मैली हैं। कानपुर में गंगा का सबसे बुरा हाल है। यहां 400 करोड़ रुपए से ज्यादा का बजट खर्च हो चुका है फिर भी रोजाना गंगा में गिरने वाले 544.69 एमएलडी सीवरेज ... Read more
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4020) कुल पोस्ट (193830)