Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/hamariva/public_html/config/conn.php on line 13
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु : View Blog Posts
Hamarivani.com

टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु

"बजट पर बकवास" सभी अपने अपने "खयाली पुलाव" पकाने में लगे हैं ! कुछ दिन के पेट भरने का इंतजाम हो जायेगा । इस व्यवस्था में प्रतिवर्ष के बजटों से कुछ अच्छा होना होता तो देश का ये हाल थोड़े ही होता । इसलिए व्यवस्था को बदलने वाला बजट होना चाहिए ।व्यवस्था ऐसी है कि जो घर घर में ...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :rajniti
  March 1, 2013, 3:37 pm
संसार की पहली माँ,जाहिर है कोई महिला ही होगी। उसे ही आदि शक्ति कहा गया,"(माँ) महिला तोशक्ति का श्रोत है”लेकिन यह भी सच है की श्रोत ,जहाँ पर होता है वहांपर शक्ति कम होती है , लेकिन; जब कुछ अन्य शक्तियां उससे मिलती हैं तोवह भागीरथी गंगा की तरह प्रचंड शक्ति के साथ अपना प्रदर्श...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :
  October 19, 2012, 3:09 pm
देश भर के फेसबुक-ब्लॉग और अन्य सोशियल साईटों पर सक्रिय ज्योतिषियों के लिए शोध का विषय !!!!मनमोहन + ममता बनर्जी + मायावती + मुलायम सिंह + एम् करुणानिधि + मोंटेक सिंह अहलुवालियाक्या "म" (M) शब्द इस समय देश को बर्बादी की ओर धकेल रहा है !!! दोस्तो ये सोचने का मुद्दा है ! वैसे पिछला माह ...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :ग्रह-नक्षत्र
  September 17, 2012, 9:11 am
जो गद्दारी १९४७ में हुयी थी उसे सुधारने के लिए पू....ऊउरे सिस्टम को बदलने के लिए कोई राजनीतिक दल अपने को साबित करता है तो उसका देश भक्त जनता द्वारा स्वागत होगा | इस बारे में स्वामी रामदेव जी महाराज आगे बढ़ रहे हैं | इसीलिए टीम अन्ना के पेट में मरोड़ उठा और राजनीतिक दल की बात कह...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :स्वामी रामदेव
  August 3, 2012, 5:03 pm
हे भारत माता (भारतीयता) ! हम बड़भागी हैं जो तेरे जैसी माँ की गोद में हमने जन्म लिया।तेरे द्वारा वैदिक पावन ऋचाओं को सुन हमने आँखें खोली। तेरी गायी लोरियों को सुन हम सोये। तेरे खुशहाल हरे-भरे आँगन में खेलकर बड़े हुए।तेरे दिए हुए संस्कारों से अपने जीवन को सफल किया | तेरी दी...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :भारत माता
  July 16, 2012, 3:00 pm
भारत निर्माण नहीं ! "हो रहा भारत मंथन"एक पौराणिक कथा सब जानते हैं; "सागर मंथन" की, जिसमे एक कुर्म (कछुए) कीपीठ को आधार बनाया जाता है मंदरांचल पर्वत को उस पर टिकाया जाता है औरशेषनाग की डोरी बनाई जाती है तब मंथन होता है और उस मंथन से कई उपलब्धियोंके साथ ही अमृत की प्राप्ति भी ह...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :स्वामी रामदेव
  May 25, 2012, 11:54 am
जी हाँ कल 17 मई मेरे एक मित्र का फोन आया कि आज तो आपकेटेंशन पॉइंट का और आपका फोटो दैनिक जागरण में छाया हुआ है | मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ लेकिन जब दैनिक जागरण समाचार पत्र मंगवा कर देखा तो वाकई बहुत अच्छा फोटो और समाचार; दैनिक जागरण के पत्रकार श्री ब्रिजेश तिवारी ने छपवाया था |...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :दैनिक जागरण
  May 18, 2012, 3:59 pm
हमआयेदिनसमाचारदेखते-सुनतेहैंकि; ‘चिकित्साविज्ञाननेनईखोजकी 'मोटापेकेलिएजिम्मेदारजींसकोखोजा, याकेंसरकैसेपनपताहैउसकीकोशिकाकोजानलिया, यानींदअधिकक्योंआतीहै, याडाईटिंगकरनेसेमोटापेपरकाबूपायाजासकताहै,याअधिकखानेसेबीमारियाँहोनेकाखतराहोताहै,याकिसीचिकित्...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :मीडिया
  May 11, 2012, 5:23 pm
क्योंकियेव्यवस्थाही खोखली है इसमें न कुछ प्राकृतिक है न सांस्कृतिक | हमारी स्वदेशी व्यवस्थामें न जंगल ख़त्म होने का भय था न पानी सूखने का, न अनपढ़ रह जाने का अपमानथा न बेरोजगारी की मज़बूरी, न बड़ा अधिकारी होने का दंभ था न उच्च शिक्षितहो कर उजड्ड नेताओं के पांव छूने की लाच...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :स्वामी रामदेव
  April 20, 2012, 9:31 am
मानलोचीनआक्रमणकरदे ! भारतभीकमजोरनहींहै, जाहिरहैयुद्धलम्बाचलेगा।सीमापरसैनिकमरेंगे, देशकेअन्दरभीसैनिकोंकेसाथ-साथसाधारणनागरिकनक्सलवादियो, आतंकवादियोंद्वारामारेभीजातेहैंतबऔरज्यादामरेंगेक्योंकिइन्हेंभीचीनउकसातारहताहै।लब्बो-लुआबयेहैकिदेशपरसंकटछार...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :भ्रष्टाचार
  April 12, 2012, 5:47 pm
सन्दर्भउत्तराखंड...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :उत्तराखंड
  March 24, 2012, 6:20 pm
आज शहीद दिवस पर सभी शहीदों को याद करते हुए; भारत के सच्चे सपूत भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को हमारा कोटि-कोटि प्रणाम।आज के दिन 23 मार्च सन् 1931को इन सभी ने भारत माता के लिए हँसते-हँसते फाँसीकोगलेलगालियाथा।धन्य होती है ऐसे माताएँ जो ऐसेवीर पुत्र को जन्म देती है।साथ ही नव सं...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :नव संवत्सर
  March 23, 2012, 9:50 am
जो अभिनय करने में निर्वस्त्र हो सकता है उस अभिनेता/अभिनेत्री या कलाकार को पुरस्कार (गौरव), जो लेखन में नग्नता खुलेपन से लिख सकता/सकती है;उस लेखक/लेखिका को पुरस्कार, जो जितना अधिक नग्न चित्र बना सकता है; उस चित्रकार को सम्मान, जो जितना गन्दा गा सकता है उसे उतना ही अधिक सम्...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :डर्टी पिक्चर
  March 11, 2012, 1:31 pm
कभी हम बचपन में क्रांतिकारियों की कहानियांपढ़ते थे तो अकसर गद्दारों काजिक्र आता था | तो हम सोचते थे कैसे होते होंगे वो गद्दार ?उन्हें क्योंनहीं समझ में आती होगी वो बात ? जो देशभक्त क्रांतिकारियों को समझ में आतीहै |आज वैसा ही सब कुछ हमारे सामने घट रहा है हमें गद्दार देखन...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :व्यवस्था
  February 25, 2012, 6:24 pm
उनकी मम्मियों और उनकी मम्मियों ने कई बार वैलेंटाईन मनाया;एक के साथ नहीं कईयों के साथ कई-कई बार मनाया,विवाह से पहले ही न जाने कितने बच्चों को नर्सरी* पहुँचाया; हम भारतियों की माताओं ने भाई तो सैकड़ों हजारों लाखों को बनाया;पर दोस्तो ! मजे के लिए; पुरुष मित्र या पति विदेशियों...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :वैलेंटाईन
  February 13, 2012, 11:02 am
"रामचंद्र कह गए सिया से ऐसा कलियुग आएगा ; हंस चुगेगा दाना तिनका कौवा मोती खायेगा" हे जी रे......हे जी रे....| आज सुबह गाना सुना है यार...| न जाने कैसे दूरदर्शन वालों को आज कल ऐसी अक्ल आ गयी | कि उसने महेंद्र कपूर के गाये गाने सुनवाये, लिखे पता नहीं किसने होगे ? मेरा वश चलता तो ऐसे गा...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :डिप्रेशन
  January 8, 2012, 3:33 pm
अट्ठारहवीं सदी से पहले तक भारत विश्व का सिरमौर था;तब न टाटा- बिरला या अम्बानी था,न क्रिकेट-ओलम्पिक या राष्ट्रमंडल था ||धन कमाने के लिए हम विदेश नहीं जाते थे;अपितुविदेशी धन कमाने और लूटने के लिए भारत आते थे ||पर दोस्तो ! ऐसा वाला लोकतंत्र नहीं था,और जब लोकतंत्र ही नहीं था तो ...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :विश्वगुरु
  January 2, 2012, 5:35 pm
माँ ! सम्पूर्णब्रह्माण्डमेंशायदहीकोईहो; जोअपनेबच्चोंकागलाअपनेहाथोंघौंटदे। फिरभारतमेंतोमाँकीमहिमाहीनिरालीहै। यहाँतोकैसी-कैसीमांएंहुयीहैं। कहतेहैंअपनेबच्चोंकोसंस्कारदेनेमेंमाँओंकाबड़ायोगदानहोताहै। लेकिनयेभीकहाजाताहैकिमाँकेज्यादालाड़-प्यारसेब...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :माँ
  December 11, 2011, 3:36 pm
इंटरनेट साईटों को प्रतिबंधित करने को लेकर समझ आया कि सरकार देखती सुनती सब है; पर करती कुछ नहीं, हाँ; अपने सर पर लगे तो बौखला जाती है।हम तो मायूस थे कि दुश्मन के कानों में मैल आँखों में कमजोरी है | बड़ी ख़ुशी हुयी ये जान कर कि वो सब कुछ सुन और देख रहे हैं ||...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :इंटरनेट
  December 7, 2011, 6:21 pm
हे भगवान “इनको” कुमति ही देना।पर "इनसे" हमें और देश को बचा लेना॥इनकी चाल – चेहरा और चरित्र सबको समझ आ जाये;नादानों को ऐसी समझ देना सब इन्हें जान जाएँ तब तक;हेभगवानइनकोकुमतिहीदेना।पर;”इन”से हमें और देश को बचा लेना॥“ये”चरित्र हीनों का सम्मान करें,अपने लिए चरित्रहीनों ...
टेंशन पॉइंट-चिंतन बिंदु...
शंकर फुलारा
Tag :कांग्रेस
  December 3, 2011, 5:25 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3712) कुल पोस्ट (171537)