Hamarivani.com

भज-गोविन्दम

             प्रभु अपने भक्तन हित लागी सहत कष्ट, उपकार करतयो, ऐसे दीन अनुरागी.द्रुपद सुता ने टेर करी जब, भैया कह के पुकारी,इक चिंदी का मोल चुकायो, दीनी कोटिन सारी.             प्रभु अपने भक्तन हित लागी.गज और ग्राह लड़े जल भीतर, गज ने प्रभुहि पुकारीशरणागत वत्सल प्रभु आये, नंगे पाँवो ...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  June 3, 2012, 3:29 pm
मन  राम  सदा सुख  धाम भजो, जग ताप सभी हट जायेंगे.जब तू प्रभु से लग जाएगा,सत् चिंतन सतत सुहाएगा.सुख पाएगा, हर्षाएगा,तेरे सारे दुःख मिट जाएंगे.सद्भाव उदय निश्चय होगे,सत्कर्म भी तब अक्षय होंगे.जो चाहोगे सो पाओगे,और भाग तेरे खिल जाएंगे.तुम को प्रभु शरण में रख लेंगे,और उर अंतर ...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  May 1, 2012, 1:51 pm
ये मन समझत ना समझाए,ये मन मानत नहीं मनाए.जब तक कृपा न तेरी होगी,कैसे भक्ति पाए.ये मन समझत ना समझाए.कृपा करो हे अन्तर्यामी,आशुतोष तुम अवढर दानी,दीना नाथ कहाए,तुम तो दीना नाथ कहाए.ये मन समझत ना समझाए. राग, रोष, मल कोष भरा है,संसारी विषयों में परा है,तुम दो सब ढुरकाए,प्रभु जी तु...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  March 24, 2012, 3:37 pm
रंग रंगीलो बृजराज सांवरो,खेले रंगीली होरी.रंग-रंग के रंग बनाये, रंग बिरंगन सोंरी.खेलत फिरत रंग श्री रंग सों,हो रही होरी-होरी.सांवरो खेले रंगीली होरी.बृज वनिता बृजराज रंगमय,रंगमय नवल किशोरी.ग्वाल बाल सब रंग रंगीले,सो संग रंग रंगीली जोरी.सांवरो खेले रंगीली होरी.ऐसो रंग ...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  March 9, 2012, 8:11 pm
श्री राम के रंग में मन रंग डारो, कबहुं न छुट पाए,होली में अब राम के हो लो, अबहु न हुइ पाए.सत चिंतन का अबीर बनालो, सद्भावों की पिचकारी,प्रभु का रंग भरो दे मारो, जिनकी कोरी सारी.दुष्कर्मों की होली जला दो, मैल न रह जाए,श्री राम के रंग में मन रंग डारो, कबहुं न छुट पाए.सुमति की झांझे...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  March 6, 2012, 6:34 pm
               जय शिव हर, हर, हर, महादेव,इस मन के कलुष सब हर लो, प्रभु जीवन पावन कर दो,               जय शिव हर, हर, हर, महादेव.राग, द्वेष, ईर्ष्या माया में, मन ये बंधा फिरता है.मोह, मान, अज्ञान के तम से, पापी नित घिरता है.आत्म ज्ञान का तुम प्रकाश भर,इसको झिलमिल कर दो.               जय शिव हर, हर, हर, म...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  February 19, 2012, 1:56 pm
दया हो तुम्हारी, त्रयतापहारी, सुनो भोले बाबा.          तुम उपकारी, तुम हितकारी,          निज दासों के तुम सुखकारी.शरण में तुम्हारी आई, मैं दुखहारी सुनो भोले बाबा,दया हो तुम्हारी, त्रयतापहारी, सुनो भोले बाबा.          जग में आकर मैं तो भरमाई,          करी मनमानी अब हुई बौराई.दुःख उठाऊँ ...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  February 18, 2012, 3:49 pm
सांचा तेरा नाम, जगत सब झूठा.    जो जाना सो आनंद लूटा.जग से जिसने चाह बिसराई,प्रभु चरनन में लगन लगाई.भव दुखों से सो जन छूटा.सांचा तेरा नाम, जगत सब झूठा.सब जग को अपने सम जाने,उसको हैं सब ओर ठिकाने.तोड़ परिधि वह गगन में फूटा.सांचा तेरा नाम, जगत सब झूठा.अपने मन को जीत लिया है,देना ज...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  February 5, 2012, 2:44 pm
ओढ़े त्रय रंगी चुनरी,छब्बीस जनवरी आयी.पूरे भारत ने मिलकरगणतंत्र की खुशी मनायी.यह धरती माँ हम सबकीजीवन से भी प्यारी है.इसकी मिट्टी की खुशबूसोंधी जग से न्यारी है.आज़ाद करने इसकोकोटिक बलिदान दिये हैं.शत-शत प्रणाम हम सबका,उन पूर्वज जन के लिये है.इसकी रक्षा को हम सबमिलकर त...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  January 25, 2012, 4:44 pm
प्रभु मैं नित तुम्हरे ढिंग रहऊँ.मन की व्यथा, वेदना, करुणा,सुख-दुःख तुम सन कहऊँ.प्रभु मैं नित तुम्हरे ढिंग रहऊँ.सत् चिंतन सद्भाव सहित प्रभु,जीवन व्यवह्र्त करऊँ.प्रभु मैं नित तुम्हरे ढिंग रहऊँ.राग, द्वेष, ईर्ष्यादि अवगुण,तुमरी कृपा से बहऊँ.प्रभु मैं नित तुम्हरे ढिंग रहऊ...
भज-गोविन्दम...
Tag :
  January 3, 2012, 2:12 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)