Hamarivani.com

सुर-पेटी

नुसरत बाबा जो करते हैं सो अनूठा ही होता है.ये कंपोज़िशन सुनिये तो लगता है जैसे सुरों काएक दहकता अंगार हमारे बीच मौजूद है.उस्तादजी ने क़व्वाली विधा में काम करते हुए मौसीक़ीके हर उस नयेपन को क़ुबूल किया जो सुरीला हो.पूरिया या मारवा जैसे राग से प्रकाशित यह बंदिशरोंगटे खड़े कर...
सुर-पेटी...
Tag :सुगम संगीत.
  April 13, 2012, 8:15 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)