Hamarivani.com

परी के पन्ने

आजकल वर्चुअल लाइफ(virtual life) का भूत सब के सर पे चढ़ के बोल रहा है ,इसका मुख्य कारण फेसबुक(facebook) ,व्हाट्सएप (whatsapp)जैसे सोशल नेटवर्किंग साइट्स से बढ़ावा मिल रहा है .लोग अब अपने दोस्तों से मिलने जुलने की जगह 5 या 6 महीने के बाद फेसबुक से हाई कहना पसंद करते हैं,हे डूड(Hey Dude)!!( ,वास अप? (Wassup?) जैसे...
परी के पन्ने ...
Tag :
  July 12, 2014, 2:22 pm
वक़्त एक ऐसी पहेली है जिसे कोई पकड़ ना पाया ना ही कोई भांप पाया ....कभी कभी लगता है वक़्त सामने होता तो क्या कहती कभी कभी सोचती हूँ वक़्त उस समय मिल जाता तो आज ये न करती, आज वो ना होता कोई नहीं जानता वक़्त किसी को कब कहाँ से कहाँ ले जा सकता है ,किस वक़्त किस्से आपकी मुलाक़ात हो जाये किस...
परी के पन्ने ...
Tag :
  May 12, 2014, 7:20 pm
मज़हब –एक ऐसा शब्द जो किसी आम इंसान की ज़िन्दगी बदलने के लिए काफी है ,क्यूंकि ये हमारा मज़हब है जो किसी को मंदिर तो किसी को मस्जिद भेजता है, हमारा मज़हब हमें सिखाता  है की हम बचपन से गीता पढेंगे ,कुरान पढेंगे या  फिर बाइबिल ?? मज़हब के नाम पे लोग दंगे फसाद करते हैं एक दूसरे को म...
परी के पन्ने ...
Tag :
  April 8, 2014, 11:19 am
PARI: क्या हम आज़ाद है???: अभी –अभी 15 अगस्त बीता है,हमने 67 साल पूरे कर लिए आजादी के देखके बहुत ख़ुशी होती है. सबके मुंह से सुनके बहुत अच्छा लगता है की अब हम आज़ाद......
परी के पन्ने ...
Tag :
  August 15, 2013, 10:01 pm
अभी –अभी 15 अगस्त बीता है,हमने 67 साल पूरे कर लिए आजादी के देखके बहुत ख़ुशी होती है. सबके मुंह से सुनके बहुत अच्छा लगता है की अब हम आज़ाद हैं, अंग्रजों की गुलामी से हमें आजादी मिल गयी है , पर सोचने वाली बात है क्या हम सच में पूरी तरह आज़ाद हैं?? इस प्रश्न पे मुझे संदेह होने लगता है...
परी के पन्ने ...
Tag :
  August 15, 2013, 9:54 pm
PARI: ज़मीर बिक चुका है: ज़मीर बिक चुका है हमारा और अमीर बनने की नाकामयाब सी कोशिश कर रहे हैं खुद पर यकीं  नहीं और   यकीन कर रहे हैं .. हम बिक चुके है दुनिया के बा......
परी के पन्ने ...
Tag :
  March 24, 2013, 7:58 pm
ज़मीर बिक चुका है हमारा और अमीर बनने की नाकामयाब सी कोशिश कर रहे हैं खुद पर यकीं  नहीं और   यकीन कर रहे हैं .. हम बिक चुके है दुनिया के बाज़ार में  इक सामान  की  तरह फिर भी इन्सान बनने  की नाकामयाब सी कोशिश कर रहे हैं … - परी शिखा चन्द्र ...
परी के पन्ने ...
Tag :
  March 24, 2013, 7:51 pm
गर्दिश में चल रहें हमारे सितारे हैंउन्हें क्या याद करे जो न थे न हमारे हैंजो न थे न हमारे हैं वो चला गया जिसे जाना थारह गया वो जिसके साथ हम अनजाने थे कोई नहीं था ये सोचा था हमने पर पता नहीं था की वो बेगाने ही हमारे हैं वो बेगाने ही हमारे हैं ...
परी के पन्ने ...
Tag :
  February 26, 2012, 7:50 pm
खुशहूँबहुतआजक्योंकिदुखीहोनेकेलिएकोईदुःखबचानहींकोईचलागयातोचलाजायेमुझेअबतककोईअपनामिलानहींक्यूंकिसीकेलिएबहाऊँआँसूंजोचलागयाउसेअबतलककोईगिलानहींजानेवालेकोकौनरोकपायाहैजायेजिसेजानाहैजहाँ, मुझेकोईशिकवानहींसाथजोदेदेदोपलमेरावोचारपलोंकेबादरहानहीं- ...
परी के पन्ने ...
Tag :
  February 16, 2012, 7:27 pm
हमने यह एक फिल्म में सुना था आज खुश तो बहुत होगे तुम ..मेरे पास बँगला है गाड़ी है तुम्हारे पास क्या है ......................"मेरे पास माँ हैं ""माँ" कितना सुन्दर शब्द है दिल को छू देने वाला शब्द। माँ एक नए जीवन को अपने गर्भ में नौ महीने रखती है । वो ख्वाबों को हकीकत में बदलती है। माँ को कर...
परी के पन्ने ...
Tag :" माँ"
  January 17, 2012, 7:58 pm
हमने यह एक फिल्म में सुना था आज खुश तो बहुत होगे तुम ..मेरे पास बँगला है गाड़ी है तुम्हारे पास क्या है ......................"मेरे पास माँ हैं ""माँ" कितना सुन्दर शब्द है दिल को छू देने वाला शब्द। माँ एक नए जीवन को अपने गर्भ में नौ महीने रखती है । वो ख्वाबों को हकीकत में बदलती है। माँ को कर...
परी के पन्ने ...
Tag :
  January 17, 2012, 7:58 pm
अलविदा कह के वो चल दिए, अब कभी न आऊंगा ये लफ्ज़ कह दिए। इक साल फिर से अलविदा कह दिया दोस्तोंहमारे बीच अब ये कभी न आएगा। आईये याद कर लें कुछ गीत, कुछ नगमे जो इस साल किसी न किसी पल गुनगुनाये हमने। आईये याद करें वो मुस्कुराहटें जो किसी न किसी वक़्त अपने होठों को दिन हमने। आईय...
परी के पन्ने ...
Tag :अलविदा -2011
  December 25, 2011, 5:40 pm
आज ही के दिन मैंने अपने पापा को खोया था। कितना तकलीफदेह था वो दिन। उन दिनों मेरी मम्मी भी बहुत बीमार थी, अब वो ठीक हैं. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे , कुछ दिनों बाद मैंने लिखा था उन दिनों - "धूप सी जमी है मेरी साँसों में, कोई चाँद को बुलाये तो रात हों" मुझे नहीं मालूम था कि इतन...
परी के पन्ने ...
Tag :
  December 11, 2011, 4:16 pm
MY WINNING POETRY.. IN ENGG. COLLEGE COMPETITION..राहें हो गयीं खूनी हो जाओ अब जुनूनी उठाओ अब कोई तूफ़ान जो बढ़ाये देश का मान बट गया समाज टुकड़ों-टुकड़ों में  अब क्या रह गया भ्रष्टाचार के चीथड़ों में  धंस रहा है भारत का भविष्य कीचडों में  अमीरों को दिया जा रहा सम्मान   ग़रीबों का न रहा कोई मान ऐसा हो गया...
परी के पन्ने ...
Tag :
  September 6, 2011, 8:51 pm
कागज़केउनबिखरेटुकड़ेकीयादआजभीहैमेरेपासतुम्हेतोशायदएहसासनहोगाकि इसकदरराहेंमुड़जायाकरतीहैकहनेकोतोवोचन्दकागज़केटुकड़ेहीथेपरशायदउनकागज़केटुकडोमेंछिपीथीकिसीकीतस्वीरउसतस्वीरमेंछिपीथीतेरीतस्वीरवोतस्वीरजोहमारेजीवनकीशुरुवातथीक्यायादहैतम्हेवोअनछुएसे...
परी के पन्ने ...
Tag :काश
  August 15, 2011, 5:36 pm
नवोभक्तिरहीनवोगुरूरइसकलयुगकेज़मानेनेकियासबचूरचूरकहाँरहेअबमहात्माकहाँहैवोनेहरुजागोआजकेयुगकेलोगोंदिखाओअपनाजूनूनजुनूनीहोतोकुछकरकेदिखाओहिंदुस्तानहमराहैयेसिर्फशब्दोंमेंनबताओक्योंआपसमेंहीबहारहेहैंहमएक-दुसरेकाखूनजागोआजकेयुगलोगोंदिखाओअपनाजूनून...
परी के पन्ने ...
Tag :
  August 14, 2011, 7:40 pm
जब अनामिका का जन्म हुआ तो उसके पिता के हाथों का बोझ भारी हो गया. दो बेटियों के बोझ तले तो वो पहले से ही दबे थे ,अब अपनी तीसरी बेटी के जन्म को लेकर उन्हें दुखी होना चाहिए. एअस समाज ने उन्हें सिखाया, उन्होंने वैसा ही किया, क्योंकि बड़े सामाजिक थे. अपनी औलाद का दिल तोड़ना उन्ह...
परी के पन्ने ...
Tag :
  July 13, 2011, 6:33 pm
आज Father's day के मौके पर मैं अपने father को श्रध्हांजलि देना चाहती हूँ ,आपकी बहुत याद आती हैं काश आप लौट सकते वापिस हमारी दुनिया में पापा क्यूँकी हमारी दुनिया बहुत छोटी थी,और आप उस दुनियां के रखवाले थे.......आई लव यू पापा........
परी के पन्ने ...
Tag :
  June 19, 2011, 9:13 pm
कहतेहैंइंसानकोअपनीपिछलीज़िन्दगीबहुतख़ूबसूरतलगतीहै। परसचतोयेहैज़िन्दगीकभीख़ूबसूरतनहींहोती। बसकुछयादेंउन्हेंख़ूबसूरतबनादेतीहैं। पिछलीज़िन्दगीकोभुलानामुश्किलहोताहैपरसचतोयेहैकीज़िन्दगीकोदोहरायाहीनहींजासकता, क्योंकिउसेदोहरानामुश्किलहोताहै। ज़िन्...
परी के पन्ने ...
Tag :
  June 4, 2011, 7:28 pm
'माँओमेरीमाँ'....लगतीहैतूसबसेप्यारीतूहै मेरीदुनियापेभारीसबसेसुन्दरसबसेन्यारीकितनीभोली, कितनीखूबसूरतमाँतूहैमेरीज़िंदगीतूहैमेरीबंदगी,तूहैमेरीहिम्मत..................luv u maa,u r d best......long lyf to you...HAPPY MOTHER'S DAY...TO EVERY1...शिखा "परी"...
परी के पन्ने ...
Tag :
  May 8, 2011, 7:20 pm
कहते हैं नज़्म किसी भी वजह से लिखी जा सकती है कोई इसकी जगह मुक़र्रर नहीं, कोई वक़्त भी तय नहीं। मैंने ये रचना सिटी बस में लिखी। आप सुधि पाठकों साथ साझा कर रही हूँ। आपके प्यार की मुन्तजिर रहूंगी -न कोई अपना है न कोई पराया है जिसके नाम से ज़िन्दगी शुरू की थी वो आज इक साया है...
परी के पन्ने ...
Tag :
  May 8, 2011, 5:10 pm
1983 के ऐतहासिक वर्ष के बाद 2011 वर्ष एक बार फिर खेल जगत में अपने देश का परचम लहरा कर साबित किया भारत श्रेष्ठ है। भारतीय किसी भी कम नहीं हैं। विश्व विजेता भारत ने एकशानदार पारी खेलकर हमारा ह्रदय गर्व से ऊंचा कर दिया है। इन सभी खिलाडियों के खेल की दाद देनी पड़ेगी क्रिकेट के खे...
परी के पन्ने ...
Tag :
  May 7, 2011, 11:06 am
येकवितामेरेपिताकेलिएहैजिन्होंने11 Dec. , 2010 कोदुनियाछोड़दी!वोछोड़गएअपनीयादेंवोछोड़गएअपनीबातेंउनकाअहसासहैअबतोमेरेसाथक्योंरूठगएहैंआपआजइतनाकिमनानाभीअबनहींकमआएगाआसमानमेंताराबनकेक्यादेखरहेहैंआपआपकेबच्चेबुलातेहैंआपकोपापाआजाईयेएकबारकिहमएकबारआपसेकहलेंअप...
परी के पन्ने ...
Tag :
  May 5, 2011, 10:53 pm
येकवितामेरेपिताकेलिएहैजिन्होंने11 Dec. , 2010 कोदुनियाछोड़दी!वोछोड़गएअपनीयादेंवोछोड़गएअपनीबातेंउनकाअहसासहैअबतोमेरेसाथक्योंरूठगएहैंआपआजइतनाकिमनानाभीअबनहींकमआएगाआसमानमेंताराबनकेक्यादेखरहेहैंआपआपकेबच्चेबुलातेहैंआपकोपापाआजाईयेएकबारकिहमएकबारआपसेकहलेंअप...
परी के पन्ने ...
Tag :
  May 5, 2011, 10:53 pm
ज़िन्दगी तेरी गोद में हर शाम गुजरती रहीमैं ठहरी रही तू गुजरती गयी तेरे आँचल के छाँवमें मैं खुद को बहलाती रहीऔर तू हवा बनकर मुझे सहलाती रही।मैं तुम्हें कभी ये कह न पायीऐ ज़िन्दगी तेरी याद बड़ी आएगीतू छोड़ देगी मेरा साथ जिस दिनउस दिन मेरी रूह कांप जाएगीतमन्ना के आँचल में...
परी के पन्ने ...
Tag :
  May 4, 2011, 11:12 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163809)