POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: aarohijivantarang

Blogger: radhika budhkar
लोग मुझे कहते हैं मैं सपनो की दुनियाँ में जीती हूँ। वैसे तो दुनियाँ में कौन ऐसा इंसान हैं जो रात में सपने नहीं देखता ?पर दिन में सपने देखना और उन्हें पूरा करने की कोशिश भर करना। ऐसा कितने लोग कर पाते हैं ??बचपन में देखे किसी सपने की उंगली थाम हम यहाँ तक तो पहुँच जाते हैं, आध... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   7:19pm 15 Oct 2013 #
Blogger: radhika budhkar
VeenaPani The Institute Of Indian Classical MusicThe biggest asset of Indian culture is its music. The Indian classical music is one of the richest heritage of our country. The scope of Hindustani classical music is so vast that it cannot be scaled in degrees and courses.It is meant to be learned and pursued for a lifetime. Veenapani- The institute of Indian classical music is a place where students who are keen on pursuing the art of Indian classical music ,are tutored in a way to master this art. Our students are learners and worshippers of music and they need not test their knowledge in terms of examinations. Along with vocals we also teach all kinds of instruments like Vichitraveena, s... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   9:59am 4 Feb 2013 #Classical instrumental Vocal
Blogger: radhika budhkar
सफ़र लम्बा था ...बहुत लम्बा ,उतना ही कठिन ...सूर्य देवता मानो सर पर विराजमान थे ..मंजिल का कोई अता -पता  न था..पैरो के निचे जलती रेत  ..मस्तिष्क शून्य , मन... वो तो शायद संग था ही नहीं ....जाना किस ओर हैं किस रस्ते कुछ भी पता  न था , वही उस मरुस्थल में थककर आँखे मुंद ली ..ह्रदय में  एक प्र... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   7:31am 13 Jul 2012 #Friendship day
Blogger: radhika budhkar
रंगमंच से परदे का उठाना ..नाटक का प्रारंभ ..दृश्य प्रथम ...राजमहल से बड़े ,जीवन की हर सुख सुविधा से युक्त घर में तीन मनुष्य आकृतियाँ ...शाल्मली .संजीव चिमणी.माँ भूख लगी हैं ..माँ - माँ आज टीचर ने होम वर्क दिया हैं ,माँ देखो मैंने कलर किया डोरेमोन को ,माँ आज भीम ने छुटकी से कहा की ह... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   7:10am 28 Mar 2012 #
Blogger: radhika budhkar
एक छोटा सा आँगन  और आँगन में बिखरे कुछ चावल के दाने ...फुर्र र रर .. से उड़ कर आती  फुदकती इठलाती एक छोटे से दाने को मुँह में उठा हवा में पंख फैलाती सामने वाले पेड़ पर बने  छोटे से आशियाने में छुपती छुपाती वह ..उसके आने से हम बच्चो के चेहरों पर बासमती चावल के दानो सी खिली खिली म... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   6:25am 20 Mar 2012 #Rice
Blogger: radhika budhkar
वैरी गुड morning .....कभी कभी सुबह की पहली किरण हमारे घर के दरवाजे की घंटी बजाकर हमारे हाथ में कुछ तोहफे दे जाती हैं ...सुंदर ..सलोने चमकदार कागज़ के एक लिफाफे में बंद होती हैं हमारी जिंदगी की सबसे बड़ी चाहत ...हमारी खुशियाँ ..लिफाफा खोलते ही स्वर्णिम किरणों सी हमारी हथेलियों में स... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   4:18am 20 Jan 2012 #
Blogger: radhika budhkar
मुझे उसकी आँखे याद आती हैं टिमटिमाते तारो जैसी ...सुनहली रश्मियों जैसे उसके बाल ...कोयल की कुँक..सुरसती  के गान सी मधुर उसकी बोली और उसकी बातें ....कभी कृष्ण की गीता ..कभी माँ की ममता कभी धुआंधार  जल प्रपात सी अनहद,  अनघड, अल्हड आँगन में बिखरे हरसिंगार के सहस्त्र फूलो जैसी य... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   9:39am 14 Nov 2011 #
Blogger: radhika budhkar
ट्रेन स्टेशन पर आकर खड़ी हुई और कुछ ही पलों में खाली सा दिखने वाला स्टेशन छोटी- बड़ी,ऊँची -नाटी मानवाकृतियों से से भर गया ,कितने चेहरे ........कुछ जाने पहचाने,कुछ बिलकुल ही अनजान,कुछ भूले बिसरे भीड़ में गुम ;गुमसुम से.कुछ मुख पर विजयी भाव लिए मानों आज सारी दुनियाँ इनके कदमो झु... Read more
clicks 108 View   Vote 0 Like   11:24am 28 May 2011 #
Blogger: radhika budhkar
आरोही को सुलाने की कोशिश में यह समय हो गया,बच्चे शायद भगवान का रूप होते हैं ,उन्हें पता होता हैं कब क्या करना हैं ?बिना वजह अभी तक खेलती रही,मेरे इस जागरण का फायदा यह हुआ की अभी अभी किसीने मुझे फोन करके बताया की राधिका तुम्हारी इच्छा पूरी हुई ,मैंने कहा कौनसी इच्छा ??जवाब आ... Read more
clicks 125 View   Vote 0 Like   7:18pm 15 Apr 2011 #kolhapur.women power
clicks 98 View   Vote 0 Like   6:52am 23 Mar 2011 #
Blogger: radhika budhkar
आँखे खुलते ही उसे नज़र आते हैं अपने बच्चे .. उन्हें खिलाना ,पिलाना ,सुपोषित संस्कृत कर मनुष्य बनाना ...माँ ,बेटी ,बहन ,पत्नी ,सखी इन सब रिश्तो से उसका अपना व्यक्तित्व मुखरित होता हैं ,हर रिश्ता उसके लिए उतना ही महत्वपूर्ण ..हर रिश्ता उसके अस्तित्व की पहचान ..बच्चो की किलबिल म... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   6:11pm 8 Mar 2011 #maa Amritanandmayi
Blogger: radhika budhkar
आँखे खुलते ही उसे नज़र आते हैं अपने बच्चे .. उन्हें खिलाना ,पिलाना ,सुपोषित संस्कृत कर मनुष्य बनाना ...माँ ,बेटी ,बहन ,पत्नी ,सखी इन सब रिश्तो से उसका अपना व्यक्तित्व मुखरित होता हैं ,हर रिश्ता उसके लिए उतना ही महत्वपूर्ण ..हर रिश्ता उसके अस्तित्व की पहचान ..बच्चो की किलबिल म... Read more
clicks 105 View   Vote 0 Like   5:38pm 8 Mar 2011 #
Blogger: radhika budhkar
 मार्केट में बेबी बाथ टब देखकर आरोही ने कहा "माँ मुझे यह बाथ टब खरीदकर दो" ,मैंने कहा:" बेटा तुम्हारे पास हैं ऐसा बाथ टब ",अगली बार पुन:आरोही ने वही बात कही,मैंने भी फिर वही दोहराया .तीसरी बार फिर उसने वही बात कही ,मैंने स्वाभाविक रूप से वही दोहराया  इस बार उसने प्रति ... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   6:51am 18 Feb 2011 #veena
Blogger: radhika budhkar
जब कोई सफलता ,कोई चीज़ पहली बार मिलती हैं तो कितना अच्छा लगता हैं न !हम याद रखते हैं उन्हें जिन्होंने पहली बार हमारे लिए कुछ किया .हमें पहली बार कुछ नया दिया .फिर वह चाहे हमारे अपने हो  या हो अविष्कारक ."आवश्यकता  आविष्कार की जननी " यह बचपन में सुना था ,समझा भी था ,पर कभी य... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   6:39am 28 Jan 2011 #
clicks 123 View   Vote 0 Like   12:29pm 9 Jan 2011 #
Blogger: radhika budhkar
कभी कभी अचानक कुछ अनुभूत होता हैं ,कहीं से कुछ आवाज आती हैं और आपका दिल कह उठता हैं बस यही तो हम चाहते हैं.किसी को समझना जितना आसान हैं उतना ही कठिन होता हैं अपने आप को समझना अपनी खोज करना ,और कभी कभी अचानक आपको पता चलता हैं की आप यही हैं तो मन ख़ुशी से झूम उठता हैं .कुछ दिन पह... Read more
clicks 101 View   Vote 0 Like   11:52pm 27 Dec 2010 #Friends
Blogger: radhika budhkar
सोसायटी की फेंसी ड्रेस कॉम्पिटीशन  में अरु बनी सरस्वती,और उसने वीणा बजायी भी और अभी मिली ताज़ा खबर के  अनुसार आरोही को इस प्रतियोगिता में  १ से ५ और ६ से १२ दोनों ग्रुप्स में प्रथम पुरस्कार मिला हैं .गणपति बाप्पा की जय ............- Show quoted text -.so... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   2:54pm 17 Sep 2010 #
Blogger: radhika budhkar
ख़ुशी .............एक ऐसा शब्द जिसे हर कोई कहना चाहता हैं ,हर कोई पाना चाहता हैं ,हर कोई जीना चाहता हैं,हर कोई महसूस करना चाहता हैं ,ये आती हैं तो जीवन कुछ महकने सा लगता हैं ,चाँद तारे सब हमारे दोस्त मालूम पड़ते हैं ,घर के आँगन में (अब आँगन नही तो बालकनी में और वह भी नही तो जहाँ से आका... Read more
clicks 103 View   Vote 0 Like   3:59am 14 Sep 2010 #संगीत music
Blogger: radhika budhkar
स्वातंत्र्य दिवस की हार्दिक शुभकामनायेhttp://www.youtube.com/watch?v=Mk3Iullsqts... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   3:28am 15 Aug 2010 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3938) कुल पोस्ट (195050)